Ghar me Sukh Shanti Ke Upay: अच्छी आदतों से घर में लाये सुख-शांति

हम अपने घर की सुख- शांति के लिए अनेक उपाय करते है। पर क्या आप जानते है की घर की सुख- शांति बरक़रार रखने के पीछे हमारी आदते भी जिम्मेदार होती है।

हमारी कुछ आदते ऐसी भी होती है जो की घर की शांति को भंग कर सकती है। दरहसल हम अपनी दिनचर्या में कई ऐसे काम करते है जो हमे नहीं करने चाहिए। और ये कार्य धीरे धीरे हमारी आदते बन जाती है।

क्या आपने कभी अपने कार्यस्थल पर चिड़चिड़  की है या घर आने के बाद आपका, घर के किसी सदस्य के साथ अनबन हुई है। हमारे दैनिक जीवन में इस तरह की कई छोटी छोटी घटनाएं होती रहती है लेकिन हम उन्हें अजर अन्दाज कर देते है।

परन्तु ये आदते हमारे लिए कई मायने रखती है। जानते है कौन सी आदते है जो घर में प्रेम भाव को बनाये रख सकती है। जिसे जानकर आप अपनी दिनचर्या को बदल सकते है और आप अपने परिवार को सुख और शांति प्रदान कर सकते है। तो आये जाने Ghar me Sukh Shanti Ke Upay.

Ghar me Sukh Shanti Ke Upay: इन आदतों से आपको मिलेगी मदद

Ghar me Sukh Shanti Ke Upay

कहीं भी न थूके

  • यदि आपको कहीं पर भी थूकने की आदत है तो इससे बचे|
  • क्यूंकि यदि आपको मान-सम्मान और यश भले ही मिल रहा हो लेकिन वह ज्यादा समय तक नहीं रह पायेगा।
  • आप चाहे तो थूकने के लिए वाश बेसिन का उपयोग कर सकते है।

पैरों को प्रतिदिन धोये

  • जब आप नहाते है तो अपने पैरों को अच्छी तरह धोये। ऐसा करने से क्रोध कम होता है और आपका चिचिड़ापन दूर हो जाता है।
  • रात को सोने से पहले पैर अवश्य धोये, इससे आपको नींद अच्छी आएगी|
  • पैरों की सफाई को लेकर एक कहावत भी है कि तलवा दमके, चेहरा चमके।
  • याने यदि आपके पैर अच्छे रहेंगे तो उसकी चमक आपको आपके चेहरे पर भी देखने को मिलेगी।

उठने के बाद बिस्तर को व्यवस्तिथ करे

  • ऐसे व्यक्ति जो उठने के बाद बिस्तर को व्यवस्थित रूप से नहीं रखते और अपने कपडे भी बिस्तर पर छोड़ देते है।
  • उनका राहु और शनि ख़राब होता है। साथ ही ऐसे लोग खुश होते हुए भी उदास रहते है।
  • ऐसे लोगो की दिनचर्या भी अच्छी नहीं रहती है।

जूते- चप्पल को उचित स्थान पर रखे 

  • ऐसे व्यक्ति जो बहार से आने के बाद अपने पहने हुए चप्पल, जूते-मोजे कहीं भी उतार देते है।
  • इस कारण उन्हें शत्रु से परेशानी का सामना करना पड़ता है।
  • इसके बचाव के लिए आप अपने जूते-चप्पल को एक उचित स्थान पर रखे|
  • इससे आपके प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होगी।
  • वैज्ञानिक तौर पर जब हम बाहर से आते है तो बहुत से कीटाणु उनमे चिपक जाते है। इसलिए उन्हें सही स्थान पर ही रखना चाहिए|

न छोड़े अपनी जूठी थाली

  • कुछ लोगो को अपनी जूठी थाली या बर्तन उसी जगह पर छोड़ने की आदत होती है।
  • ऐसे लोगो को अगर सफलता मिल भी गयी तो वह स्थायी रूप से नहीं रहती है।
  • ऐसे लोग बहुत मेहनत करने पर भी अच्छा नाम नहीं कमा पाते।
  • इससे बचने के लिए आप अपने जूठे बर्तनों को ले जा कर उसके उचित स्थान पर रखे और ध्यान रहे की उसमे जूठन न रहे, आप चाहे तो बर्तन को खंगाल ले।
  • इस तरह कार्य करने से आप चन्द्रमा और शनि का सम्मान करते हैं। साथ ही कभी भी थाली में जूठे हांथो को नहीं धोना चाहिए।
  • माना जाता है की ऐसा करने से अन्न देवता का अपमान होता है।

प्रतिदिन खाली हाँथ घर न लौटे

  • कहा जाता है की प्रतिदिन घर लौटते समय खाली हाँथ ना आये। ऐसा करने से लक्ष्मी जी का वास कम होता है।
  • साथ ही घर के सदस्यों पर नकारात्मक या निराशा के भाव उत्पान होने लगते है।
  • इसके लिए प्रतिदिन घर के लिए कुछ न कुछ लेकर जाए ऐसा करने से घर में बरकत होगी।
  • ऐसा भी हो सकता है की घर में आयी वस्तु किस ग्रहयोग में आयी है और वह क्या खुशियां लेकर आएँगी ये बात कोई नहीं जानता। इसलिए अब जब भी घर आये कुछ लेकर आये।

घर के पौधो का रखे ख्याल

  • घर में रखे पौधे भी हमारे परिवार का हिस्सा होते है।
  • इसलिए उनकी देखभाल और उनसे प्यार करना हमारा कर्तव्य होता है।
  • जिस घर के लोग प्रतिदिन पौधों को पानी देते है वे लोग सूर्य, बुध और चन्द्रमा का सम्मान करते है।
  • तथा ऐसे लोग सारी परेशानियों से दृढ़तापूर्वक मुकाबला करते हैं। साथ ही उन्हें वैराग्य, खिन्नता, निराशा जैसी अन्य परेशानी नहीं होती।

घर आने पर व्यक्ति को पानी जरूर पिलाये

  • आपके घर पर बाहर से जब कभी कोई भी आये उसे साफ़ पानी अवश्य पिलाये।
  • फिर चाहे वह आपके घर का कोई सदस्य हो या कोई मेहमान या फिर काम करने के लिए आया कोई व्यक्ति।
  • क्यूंकि ऐसा करने से आप राहु के कृपा पात्र बन जाते है और आपके घर पर राहु का दुष्प्रभाव कभी नहीं पड़ता।
  • कई लोग पानी पिलाने के लिए घर के बहार प्याऊ भी लगते है फिर हम कम से कम घर आये व्यक्ति को पानी पिला ही सकते है।