Sai Baba Mantra: जीवन के समस्त दुःख दूर करने के लिए करे इन मंत्रो का जाप

साईं बाबा को उनके भक्त एक चमत्कारी पुरुष, एक अवतार और एक भगवान का स्वरुप भी मानते हैं। कुछ लोगों की नज़र में साईं स्वयं भगवान् हैं तो कुछ की नजर में वो भगवान् के अवतार हैं, वहीं कुछ साईं भक्त अपने साईं को एक फ़रिश्ते की तरह भी देखते हैं।

साईं बाबा को पुरातन काल से चली आ रही भारतीय भक्ति परंपरा के ही एक प्रतीक के तौर पर जाने जाते हैं। अपने श्रद्धालुओं और भक्तों के लिए साईं बाबा का प्रेम और स्नेह असाधारण, अतुलनीय तथा नि:स्वार्थ माना जाता है।

साईं बाबा के जन्मदिन और जन्मस्थान आदि से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां आज भी अज्ञात हैं। बाबा के शुरूआती जीवन की ज्यादा जानकारियां मौजूद नहीं हैं। परन्तु इनका मूल स्थान महाराष्ट्र के शिरडी में है।

महाराष्ट्र स्थित शिरडी साईं बाबा का प्रमुख स्थल है जहां पर भक्त आज भी इनके दर्शन के लिए आते-जाते रहते हैं। जो भक्त शिरडी नहीं जा पाते वो अपने स्थान से ही बाबा की आराधना साईं बाबा के मन्त्रों को पढ़कर करते हैं। आइये जानते हैं Sai Baba Mantra.

Sai Baba Mantra – साईं को प्रसन्न करने के मंत्र

Sai Baba Mantra

साईं बाबा को हर धर्म और मत के लोग पूजते हैं। हर धर्म और मजहब में उनकी मान्यता बराबर है। हर धर्म के श्रद्धालु साईं बाबा में आस्था रखते हैं। साईं बाबा का मूल मन्त्र था “सबका मालिक एक है”. इस मूलमंत्र के माध्यम से उन्होंने धर्म और मतों में बटे समाज को एक करने की सफल कोशिश की थी। बाबा के शिरडी स्थित मंदिर में जहाँ उनकी मूरत की हिन्दू धर्म के लोग पूजा करते हैं तो इस्लाम मत के लोग वही स्थित साईं बाबा के मजार पर चादर चढ़ाते है।

वैसे तो साईं बाबा की पूजा किसी भी दिन और किसी भी वक़्त की जा सकती है परन्तु बृहस्पतिवार अर्थात गुरुवार के दिन साईं बाबा की विशेष रूप से उपासना की जाती है। साईं बाबा को गुरु के रूप में मानकर इनकी पूजा अर्चना करना सबसे बेहतर होता है। ऐसा करने से शिरडी के साईं बाबा आपकी हर तरह की मनोकामनाएं पूरी करते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि कोई भी भक्त यदि साईं बाबा का व्रत लगातार 9 गुरुवार तक करता है तो साईंं बाबा उनकी मुराद जल्द ही पूर्ण कर देते है। यदि आप भी साईं बाबा का व्रत करने का सोच रहे है और अपनी मनकामनाओ को पूरा करना चाहते है तो आपको एक बात का विशेष ध्यान रखना होगा। साईं बाबा के व्रत को शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष की तिथि में शुरू करना चाहिए। साईं बाबा के व्रत को उनका नाम लेने के साथ शुरू करना चाहिए।

साईं बाबा का व्रत कैसे करे?

  • साईं बाबा के व्रत के दौरान घर के मंदिर में सुबह शाम साईं बाबा की मूर्ति या फिर उनकी तस्वीर की पूजा अर्चना करे।
  • घर में पूजा के दौरान एक आसन पर पीले रंग का कपड़ा बिछाकर उस पर साईं बाबा की मूर्ति को रखें, फिर उसके बाद साईं बाबा की पूजा शुरू करे
  • पूजा के दौरान पीले फूल का प्रयोग करे।
  • पूजा के दौरान साईं बाबा की व्रत कथा पढ़े तथा मंत्रो का जाप करे।
  • पूजा करने के बाद सभी लोगों को बाबा का प्रसाद बांटें।

साईं बाबा के मंत्र

साईं बाबा का व्रत करते समय आप साईं बाबा के इन 12 मंत्रो का जाप कर सकते है। इन मंत्रो का पाठ करने से आपका जीवन सुखमय बनता है।

1. ॐ साईंं राम
2. ॐ साईंं गुरुवाय नम:
3. सबका मालिक एक है
4. ॐ साईंं देवाय नम:
5. ॐ शिर्डी देवाय नम:
6. ॐ समाधिदेवाय नम:
7. ॐ सर्वदेवाय रूपाय नम:
8. ॐ शिर्डी वासाय विद्महे सच्चिदानंदाय धीमहि तन्नो साईंं प्रचोदयात
9. ॐ अजर अमराय नम:
10. ॐ मालिकाय नम:
11. जय-जय साईंं राम
12. ॐ सर्वज्ञा सर्व देवता स्वरूप अवतारा