सोयाबीन के फायदे – शरीर से बीमारियों को रखें कोसों दूर

सोयाबीन प्रोटीन का बहुत अच्छा स्त्रोत होता है। इसके अलावा इसमे विटामिन, खनिज, विटामिन बी काम्प्लेक्स और विटामिन इ की भी भरपूर मात्रा पाई जाती है। यह सभी तत्व शरीर के लिए आवश्यक एमिनो एसिड का काम करते है।

आप शायद नही जानते होंगे कि सोयाबीन में दूध, अंडे और मांस से कही आधी प्रोटीन की मात्रा होती है। इसके अलावा इसमे कई तत्व जैसे कारबोहाइड्रेट, वसा, कैल्शियम, आइरन और फोस्फोरस जैसे मिनरल्स भी पाए जाते है जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने और स्वस्थ के लिए फायदेमंद होते है।

सोयाबीन में कई शरीर के लिए फायदेमंद तत्व जैसे की सैपोनिन्स, सीटोस्टेरॉल और फेनोलिक एसिड होते है जो की शरीर को कई प्रकार के कैंसर, हृदय और स्तन कैंसर से बचाने में मदद करते है। इसके अलावा सोयाबीन सीड्स को खाने से त्वचा का रंग साफ होता है, शारीरिक वृद्धि होती है, कब्ज दूर होता है और कई प्रकार की बीमारिया भी दूर होती है।

सोयाबीन को कई तरीक़ो से उपयोग में लाया जाता है जैसे इसके बीज की सब्जी बनाकर, इसके तेल का उपयोग कर, इसके छिलके से बनी बरी का उपयोग कर, इसके अलावा सोयाबीन का दूध भी स्वास्थ के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। यह शरीर को एनीमिया (हीमोग्लोबिन की कमी) और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियो का कमजोर होना) नामक बीमारियो से भी दूर रखता है। इसके अन्य फायदों को जानने के लिए पढ़े Health Benefits of Soybean in Hindi.

 

Health Benefits of Soybean in Hindi: जाने इसके स्वास्तवर्धक गुण

 
Health Benefits of Soybean in Hindi-compressed-compressed-compressed
सोयाबीन शरीर से रक्तवसा को घटाने का काम करता है साथ ही सीएचडी के वृद्धि के ख़तरे को भी बढ़ने से रोकता है।

 

दिल के रोगो के लिए

सोयाबीन दिल से जुड़े रोगो को ठीक करने में मदद करता है। दिल की बीमारी से जुड़े लोगो के खून में वसा की मात्रा बढ़ जाती है और फायदेमंद वसा यानी एचडीएल की मात्रा कम हो जाती है। इसमे 20 से 22 प्रतिशत तक वसा होता है। जिसमे 15 % सैचुरेटेड फैट, 15% मोनो-सैचुरेटेड फैट और 60% पॉली- अनसैचुरेटेड फैट की मात्रा होती है, जो की दिल के रोगियो के लिए फायदेमंद होता है। सुयाबिन एलडीएल की मात्रा को कम करने में सहायक होता है। इसके साथ ही इसमे उपस्थित लेसिथिन नामक पदार्थ दिल की नालियो में कोलेस्ट्रॉल को जमने से रोकते है। इस प्रकार यह दिल के रोगो से पीड़ित व्यक्तियो के लिए फयदेमंद होता है।

 

रजोनिवृत्ति

  • जब महिलाओ का मासिक चक्र आता है तो उस समय महिलाओ को बहुत कष्ट का सामना करना पड़ता है। इस समय महिलाओ के मासिक धर्म बंद होने से शरीर में एस्ट्रोजन की कमी हो जाती है जिससे महिलाओ की हड्डियो का तेज़ी से क्षरण होने लगता है। इस  वजह से उन्हे ओस्टेयोआर्थरिटिस की बीमारी जकड़ लेती है और घुटनो में दर्द भी रहने लगता है।
  • ऐसी स्थिति में सोयाबीन में उपस्थित फायटोएस्ट्रोजेंस शरीर में एस्ट्रोजन की कमी को पूरा करने में मदद करता है। इसलिए 3 से 4 महीने तक सोया का उपयोग करने से महिलाओ की सभी परेशानिया दूर हो जाती है।
  • इसके अलावा सोयाबीन महिलाओ को प्रोटीन देने के साथ-साथ मासिकधर्म के समय होने वाले कष्ट जैसे शरीर में सूजन, भारीपन, थकान, दर्द, कमर का दर्द आदि में राहत पहुँचाने में भी मदद करता है।

 

हड्डियो को मजबूत बनाए

सोयाबीन में उपस्थति कैल्शियम और प्रोटीन की मात्रा हड्डियो को मजबूत बनाने में सहायक होती है। सोयाबीन, कैल्शियम की कमी से होने वाले अस्थिक्षरता जैसे रोगो से बचाने में मदद करता है।
 

मधुमेह

मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्तियो के लिए भी सोयाबीन बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके उपयोग के लिए सोयाबीन से बनी रोटी का उपयोग लाभकारी होता है। इसके अलावा सोयाबीन का रोजाना उपयोग करने से मधुमेह रोग से पीड़ित व्यक्तियो की मुत्र से संबंधित परेशानियो को दूर करने में भी मदद करता है।

 

उच्च रक्तचाप के लिए

सोयाबीन का प्रयोग शरीर के उच्च-रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। इसके सेवन के लिए कम नमक के साथ भुने सोयाबीन को रोजाना 8 हफ़्तो तक सेवन करे, इससे उच्च रक्तचाप को काफ़ी हद तक काबू में किया जा सकता है। इसके साथ ही रॉस्टेट हुए आधा कप सोयाबीन खाने से महिलाओ का बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर कम होने लगता है

 

मानसिक रोगो के लिए

सोयाबीन में उपस्थित फोस्फोरस व्यक्तियो को दिमाग़, मिर्गी, याददाश्त कमजोर होना, सूखा रोग, और फेफड़ो से संबंधित बीमारियो से दूर रखने में मदद करता है। इसके उपयोग के लिए सोयाबीन के आटे का उपयोग करे, आटे में उपस्थित लेसिथिन नामक पदार्थ इन सभी बीमारियो को दूर करने में सहायक होता है।

 

शरीर को प्रोटीन दे

सोया, शरीर के विकास में सहायक होता है। यह त्वचा, मासपेशियां, नाख़ून, बाल के विकास में मदद करता है। इसके अतिरिक्त यह फेफड़ो, दिल, हृदय, शरीर के आंतरिक भागो की रचना में भी मदद करता है।

 

जाने कुछ अन्य लाभ

  1. पेट के कीड़े और हानिकारक बैक्टीरिया को खत्म करने में सोया की छाछ का सेवन करे।
  2. इसमे उपस्थित फाइबर, पेट के रोगो को ठीक कर भोजन के पचाने में मदद करता है।
  3. सोया शरीर को स्तन कैंसर से लड़ने में मदद करता है।
  4. गठिया रोग को दूर करने में सोया से बनी रोटिया और सोयाबीन का दूध बहुत ही फायदेमंद होता है।
  5. सोयाबीन में खून को बनाने और बढ़ाने वाले आइरन की अच्छी मात्रा होती है। इस वजह से यह शरीर में खून की कमी को पूरा करने में मदद करता है।
  6. सोयाबीन का उपयोग शरीर के वजन को बढ़ने में भी किया जाता है।इसके लिए रोजाना 15 से 20 सोया, 2 से 3 माह तक खाए और वजन बढ़ाए।

 

आज आपने जाना Health Benefits of Soybean in Hindi. इतने सारे फायदों को जानने के बाद अब आप भी सोया का सेवन शुरू कर दें।