Betel Nut Benefits: पान में उपयोग के अलावा भी हैं सुपारी के कई फायदे

सुपारी का उपयोग प्राचीन काल से किया जाता आ रहा है । धार्मिक कार्यो में भी इसका उपयोग किया जाता है साथ ही इसका सेवन भी किया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम ऐरेका कटेचु है।

भारत में ज्यादातर इसका उपयोग पान में किया जाता है, और ये पान के स्वाद को बढ़ाने का कार्य करता है। लोग सुपारी को माउथ फ्रेशनर के लिए भी इस्तेमाल करते है।

सुपारी का सेवन करने से स्वास्थ्यवर्धक लाभ भी होते है । यह पेट की समस्याओं को दूर करने का कार्य भी करता है। सुपारी में कार्बोहाइड्रेड, प्रोटीन और मिनरल्स भी पाए जाते है। यह रोगों को भी दूर करने में मदद करता है।

डिप्रेशन जैसी समस्या को दूर करने में भी सुपारी बहुत ही लाभकारी होती है।सुपारी में टेनिन कैलिस एसिड, एरिकेन और लिग्निन जैसे एल्काइड्स भी मौजूद होते है।जानते है Betel Nut Benefits के बारे में विस्तार से।

Betel Nut Benefits: जानिए इसके सेवन से होने वाले लाभ और हानि

Betel Nut Benefits

डिप्रेशन दूर करने में सहायक

  • तनाव, चिंता और डिप्रेशन को दूर करने में सुपारी बहुत ही मददकार साबित होता है।
  • सुपारी का सेवन करने से तंत्रिका तंत्र तेजी से कार्य करने लगता है। जो की डिप्रेशन को कम करने में मदद करता है।
  • शोध के दौरान पता चला है की यदि सुपारी को चबाकर खाया जाए तो उससे तनाव को दूर किया जा सकता है। क्योंकि चबाकर खाने से तनाव महसूस नहीं होता है।

मधुमेह रोगियों के लिए फ़ायदेमंद

  • मधुमेह रोग में रोगियों का मुँह सूखने लगता है। सुपारी मुँह को ड्राई होने से रोकती है। इसे चाबने से स्लाइवा बनता है जिसके कारण मुँह सूखेपन की समस्या नहीं झेलता है।
  • इस कारण से भी यह मधुमेह रोगियों के लिए उत्तम होती है।
  • साथ ही सुपारी में अर्कोलाइन नाम का बॉयो कैमिकल होता है जो की मधुमेह को नियंत्रित रखने का कार्य करता है। यह रक्त सर्करा को भी संतुलित रखता है।
  • यदि सुपारी की क्लाथ को खेर की क्लाथ के साथ मिला कर उसमे शहद मिला मिला कर इसका सेवन करने से मूत्र के साथ में सर्करा का आना बंद हो जाता है।

दांतो के लिए भी फ़ायदेमंद

  • दांतो को स्वस्थ रखने के लिए भी सुपारी उपयोगी होती है।
  • इसमें एन्टी बैक्टीरियल गुण भरपूर मात्रा में होते है जो की दांतों की समस्याओं को दूर करने में मदद करते है।
  • सुपारी के इस्तेमाल से बने मंजन से दाँतों को साफ करने पर दांतों की सड़न भी दूर हो जाती है। साथ ही दाँतों में होने वाली कैविटी से भी छुटकारा मिलता है। दाँतों में यदि कीड़े की समस्या है तो भी इसका मंजन करने से राहत मिलती है।
  • कई आयुर्वेदिक मंजन में सुपारी का उपयोग किया जाता है।
  • सुपारी को जलाकर उसका मंजन बना सकते है। इसका उपयोग करने से मसूड़ों से निकलने वाला रक्त बंद हो जाता है।
  • इससे दांत भी चमकदार बनते है। दाँतों को चमकाने के लिए पहले 3 सुपारी को अच्छे से भून ले। फिर इनको अच्छे से पीस ले। इस पीसे हुए पाउडर में पांच बून्द निम्बू का रस और एक ग्राम काला नमक मिला ले।
  • इस पाउडर से प्रतिदिन 2 बार मंजन करने से दांतों में चमक आती है।

स्किन समस्याएं करे दूर

  • स्किन से जुडी समस्याओं को दूर करने में भी सुपारी उपयोगी होती है क्योंकि इसमें एंटी-ऑक्‍सीडेंट का गुण पाया जाता है।
  • दाद, खाज, खुजली में भी यह बहुत ही असरकारी होता है।
  • यदि किसी को इसकी समस्या है तो सुपारी को पानी के साथ घिस ले और इसे प्रभावित स्थान पर लगाएं, ऐसा करने से दांतों की समस्या दूर हो जाती है।
  • यदि त्वचा पर खुजली हो रही है तो तिल के तेल में सुपारी की रॉक को मिला ले और खुजली वाले स्थान पर लगाए इससे आराम मिलता है।

घायल त्वचा के इलाज में सहायक

  • सुपारी घाव को भी तेजी से भरती है। घाव को भरने के लिए सुपारी का काढ़ा बनाये और उसे घाव पर लगाए।
  • इसका उपयोग करने से घाव जल्द भर जाता है।

इसके अन्य फायदे

  • सुपारी मूत्र नियंत्रण करने और मांसपेशियों को मज़बूती देने में भी सहायक होते है इसके लिए इसके अर्क का उपयोग किया जाता है।
  • यदि किसी को बोलने में परेशानी होती है तो आवाज़ को सुधारने के लिए सुपारी का अर्क देना उत्तम होता है।
  • सुपारी के सेवन से अर्क स्ट्रोक की समस्या भी दूर हो जाती है।
  • स्किजोफ्रेनिआ की समस्या होने पर सुपारी का उपयोग किया जाता है इसके उपयोग से इसके लक्षणों में सुधार हो पाता है।
  • मुंह के छालों को ठीक करने के लिए भी सुपारी का उपयोग करना अच्छा होता है। छालों के लिए सुपारी और इलायची की भस्म को मुंह में लगाने से मुंह के छाले ठीक हो जाते है।
  • स्ट्रोक रिकवरी में भी इसका उपयोग करना फ़ायदेमंद होता है। साथ ही एनीमिया की रोकथाम के लिए भी यह लाभकारी होता है। गर्भवती महिलाओं में एनीमिया से निपटने के लिए कई वर्षों से सुपारी का उपयोग किया जा रहा है। वे गंभीर लोहे की कमी और रक्त शर्करा का स्तर कम करने के लिए अच्छे होते है।
  • मस्तिष्क के लिए भी सुपारी फ़ायदेमंद होता है। साथ ही यह पेट की समस्याएं जैसे – गैस, कब्ज, अपच को भी दूर करने में मदद करता है।

सुपारी के सेवन से उपरोक्त फायदे प्राप्त होते है परन्तु इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे कुछ नुक्सान भी होते है।

  • महिलाओं के लिए सुपारी का अधिक सेवन नुक्सान दायक होता है। इसके सेवन से बांझपान, मानसिक धर्म की समस्या, स्तन कैंसर आदि रोग हो सकते है।
  • सुपारी को ज्यादा चबाने से मुंह का कैंसर होने का खतरा रहता है। साथ ही माउथ अल्सर की समस्या भी हो सकती है।
  • सुपारी को लगातार चबाने से हाई ब्लड प्रेशर होना, मूड में परिवर्तन, एकाग्रता, चिड़चिड़ापन और नींद की कमी जैसी परेशानियाँ भी आ सकती है।

इसलिए इनका सेवन एक उचित मात्रा में ही करे ताकि आप सुपारी के फ़ायदों का लाभ उठा सके और इसके नुक्सान से बच सके। सुपारी से सेवन से यदि कोई समस्या उत्पन्न हो रही है तो अपने डॉक्टर से परामर्श ले।


You may also like...