Ganesh Sthapana Vidhi: गणेश चतुर्थी पर गणपति की स्थापना कैसे करे व आरती

Spread the love

हर साल की तरह इस बार भी भाद्रपक्ष के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी में भगवान गणेश जी का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन भगवान गणेश जी का जन्म हुआ था।

इस दिन से पूरे धूम धाम के साथ 10 दिन तक गणेश पर्व की शुरुआत होती है। आपको बता दे कि इस बार गणेशोत्सव 10 दिन का ना होकर, 11 दिनों का होगा| क्योंकि इस अवधि में दो दशमी तिथि पड़ रही हैं।

इस दिन हर व्यक्ति अपने घर, दुकान और मोहल्ले में धूम धाम से गणेश जी को स्थापित करते है और उनकी पूजा अर्चना की जाती है।

भगवान श्री गणेश जी की मूर्ति की स्थापना के दौरान कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक होता है। आइए जानते है Ganesh Sthapana Vidhi के बारे में|

Ganesh Sthapana Vidhi – स्थापना करते वक़्त ध्यान रखने योग्य बातें

Ganesh Sthapana Vidhi

घर में बिठाये बैठक मुद्रा वाले गणेश

  • जब भी घरों में भगवान श्री गणेश जी मूर्ति स्थापित की जाती है तो सभी लोगो को गणेश जी की बैठक मुद्रा वाली मूर्ति या तस्वीर को ही रखना चाहिए।
  • दुकान या ऑफिस में जब भी गणेश जी मूर्ति रखे तो खड़े गणपति जी की मूर्ति या तस्वीर को रखना शुभ माना जाता है।

इन बातो पर गौर करे

  • जब भी आप भगवान श्री गणेश की प्रतिमा को अपने घर, ऑफिस या दुकान में रखते है।
  • तो आप को इस बात का ध्यान रखना होगा कि गणेश जी के दोनों पैर ज़मीन को स्पर्श कर रहे हो।
  • इस प्रकार की प्रतिमा को रखने से आप सभी के कामों में स्थिरता और सफलता आती है।

सिंदूरी रंग के गणेश जी मनोकामना पूर्ति के लिए

  • जब भी आप किसी मनोकामना की इच्छा करते है।
  • तो आप लोगों को सिंदूर रंग के गणेश जी की पूजा अर्चना करना चाहिए।
  • क्योंकि सिंदूर रंग वाले गणेश जी जल्द ही आप सभी की मनोकामना को पूरा कर देते है।

किस ओर हो श्रीगणेश की सूंड

  • गणेश जी मूर्ति या तस्वीर खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि गणेश जी की सूंड बाएं हाथ की ओर घुमी हुई हो|
  • दाएं हाथ की ओर घुमी हुई सूंड वाले गणेश जी को हठी कहते है।

श्री गणेश के साथ जरूर हो ये दो चीज़ें

  • आप सभी लोग जब भी भगवान गणेश की मूर्ति या तस्वीर अपने घरों, दुकान या ऑफिस में लगाते है।
  • तो आप लोग इस बात का ध्यान रखे कि उस मूर्ति या तस्वीर में गणेश जी के हाथ में मोदक और उनकी सवारी मुस्क (चूहा) होना बहुत ही जरुरी है।
  • इस प्रकार के मूर्ति या तस्वीर से घर में बरकत बनी रहती है।

मेन गेट पर लगाएं श्रीगणेश की तस्वीर

  • आप सभी लोग अपने घर के मेन गेट पर भगवान गणेश जी की दो मूर्ति या तस्वीर लगाए।
  • इस तस्वीर या मूर्ति में भगवान गणेश जी की पीठ मिलना चाहिए|
  • इस प्रकार की तस्वीर से घर में सभी प्रकार के वास्तु दोष ख़त्म होते है।

इस तरह कर सकते है वास्तुदोष का अंत

  • घर के किसी भी हिस्से में वास्तु के मुताबिक कुछ भी सही न हो रहा हो।
  • तो इसके लिए आप घी मिश्रित सिंदूर से दीवार पर स्वास्तिक बनाये|
  • यह स्वास्तिक गणेश स्वरुप होना चाहिए|
  • इससे वास्तु दोष का प्रभाव कम होने लगता है|

सुख शांति के लिए घर लाए सफ़ेद मूर्ति

  • आप सभी लोग अपने घर, दुकान या ऑफिस में सुख शांति और समृद्धि की इच्छा रखते होंगे|
  • इसके लिए आप लोग सफ़ेद रंग वाले भगवान श्री गणेश की मूर्ति या प्रतिमा की मूर्ति या तस्वीर लगाए|

भगवान श्री गणेश की आरती

हमारे हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश जी को सर्वप्रथम पूजनीय माना गया है। किसी भी प्रकार के शुभ कार्य को करने से पहले गणपति जी की आरती को किया जाता है। भगवान श्री गणेश जी की आरती का विशेष महत्व है।

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥

एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी

माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी।

पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा

लड्डुअन का भोग लगे सन्त करें सेवा॥

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥

अन्धे को आँख देत, कोढ़िन को काया।
बाँझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ।।

‘सूर’ श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥


Spread the love

You may also like...