सीताफल एक प्रकार का फल है जिसे बड़े बूढ़ो से लेकर बच्चो तक सभी खाना पसंद करते है। यह स्वाद में मीठा होता है और इसका आकर दिल के समान दिखाई देता है। यह फल बाहर से सख़्त, अंदर से नरम होता है।

इस फल का गुदा सफेद रंग का चमकदार और मलाईदर होता है। इस वजह से आप इसकी स्मूदी, शेक और नेचुरल आइस-क्रीम बनाकर भी खा सकते है। इसके अलावा इसके और भी फायदे जानने के लिए पढ़े Custard Apple Benefits in Hindi.

सीताफल के अन्दर चमकदार काले बीज भी होते है जिसका प्रयोग भी स्वास्थ्य की देखभाल के लिए किया जाता है। सीताफल अगस्त से नवंबर के बीच उगने वाला फल है। यह शीतल प्रकृति का होता है। इसके सेवन से पित्त और उल्टी आना बंद हो जाती है। साथ ही यह शरीर को पोष्टिकता प्रदान करता है।

Custard Apple Benefits in Hindi: शरीर के लिए फायदेमंद सीताफल

Custard Apple Benefits in Hindi

सीताफल हमारे शरीर को कई प्रकार की बीमारियो से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। इसमे फाइबर, विटामिन, खनिज तत्व और प्रोटीन की उचित मात्रा होती है साथ ही यह कम वसा वाला फल होता है। इस वजह से यह हृदय, उच्च रक्तचाप और त्वचा से जुड़ी कई प्रकार की परेशानियो से निजाद दिलाने में मदद करता है।

गंजापन दूर करने में मदद करे

जो लोग गंजेपन का शिकार है उनके लिए सीताफल खाना बहुत ही फायदा करता है। इसके साथ-साथ यदि सीताफल के बीज को बकरी के दूध के साथ मिलकर पीस ले और इस प्रकार बने लेप से सर की मालिश करे। ऐसा करने से सर के उड़े हुए बाल शीघ्र आ जाते है साथ ही इससे मस्तिष्क को ठंडक भी पहुचती है।

हृदय के लिए फायदेमंद

हृदय और दिल से संबंधित बीमारियो से ग्रसित व्यक्तियो के लिए भी सीताफल फायदेमंद होता है। सीताफल में उपस्थित मैग्नीशियम और पोटैशियम हमारे ब्लड कोलेस्टरॉल को कम करने में मदद करता है। इस वजह से जिनका हृदय बहुत कमजोर होता है, हृदय का स्पंदन बहुत अधिक हो रहा हो, बहुत घबराहट होती है या फिर जो व्यक्ति उच्च रक्तचाप से पीड़ित है उनके लिए सीताफल का सेवन करना चाहिए।

इसके अलावा सीताफल में उपस्थित मैग्नीशियम, दिल का दौरा पड़ने जैसी समस्याओ को रोकने में मदद करता है, साथ ही यह हृदय की सभी मांसपेशियों को आराम देता है। इसके अलावा इसमे उपस्थित विटामिन बी 6 बीमारियो के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

शरीर का ताप नियंत्रित रखे

कुछ लोग ऐसे होते है जिनके शरीर में गर्मी बहुत अधिक होती है और उनका शरीर बहुत अधिक गरम रहता है उनको सीताफल खाना बहुत फायदेमंद होता है। दरहसल सीताफल ठन्डे तहसीर का होता है जिससे इसके सेवन से शरीर में ठंडक का एहसास होता है। इसलिए गरम तहसीर वाले लोगो को सीताफल का नियमित सेवन करना चाहिए।

गर्भवती महिलाओ के लिए

गर्भवती महिलाओ के लिए भी सीताफल का सेवन बहुत लाभप्रद होता है। गर्भावस्था के समय महिलाओ को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे मूड का बदलना, शरीर में कमज़ोरी, अकड़न आदि। इन सभी से राहत पाने के लिए महिलाओ को रोजाना सीताफल का सेवन करना चाहिए।

आँखो के लिए

आँखो की देखभाल के लिए भी सीताफल बहुत अच्छा होता है। इसमे विटामिन सी, रिबॉफ्लेविन और विटामिन ए की अच्छी मात्रा होती है जो की आँखो के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी होती है। यह विटामिन हमारी आँखो के देखने की शक्ति को और भी बढ़ाने का कम करता है।

पेट के लिए फायदेमंद

सीताफल के गूदे में ऐसे घुलनशील तत्व होते है जो की हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करते है। इसके साथ ही इसमे उपस्थित कॉपर और फाइबर की उच्च मात्रा भोजन के पाचन में मदद करती है। यह तत्व मल को नरम करता है जिससे मल और शरीर के सभी विषाक्त पदार्थ आसानी से बाहर निकल सके। इस वजह से सीताफल पाचन से जुड़ी समस्याओ और कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है।

दमा से राहत दे

सीताफल में विटामिन बी 6 जैसे कई प्रकार के पोषक तत्व होते है जो की व्यक्ति को होने वाली ब्रोन्कियल सूजन और दमा से राहत दिलाने में मदद करते है।

वजन बढ़ने में मदद करे

सीताफल में वजन को बढाने की क्षमता होती है। कुछ लोगो का वजन कई प्रकार की बीमारियो और खाना ना खाने की वजह से बहुत कम हो जाता है। ऐसे में उन्हे कई अन्य प्रकार की परेशानिया हो जाती है। इससे बचने के लिए सीताफल बहुत लाभकारी होता है। इसलिए वजन को बढ़ने के लिए आज से अपनी डाइट में सीताफल का इस्तेमाल करना शुरू कर दे और रखिए अपने आप को कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओ से दूर।

शक्ति प्रदान करे

कुछ लोग अधिक कम काज की वजह से बहुत कमज़ोरी महसूस करते है। इससे बचने के लिए सीताफल का सेवन करे। सीताफल एनर्जी का बहुत अच्छा स्त्रोत है जिसके सेवन से थकावट, मांसपेशियों और हड्डियों की कमज़ोरी अपने आप दूर हो जाती है। इसलिए रोजाना सीताफल का सेवन करना चाहिए।

शीतलता प्रदान करे

दिमाग़ में भारी गर्मी को शांत करने के लिए सीताफल का सेवन करना चाहिए। सीताफल में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की अधिक मात्रा होती है जो की दिमाग़ को शांत रखती है। साथ ही यह हमारे चिड़चिड़ेपन को दूर करता है। इसलिए अपने मस्तिष्क को स्वस्थ रखने और दिमाग़ में शांति बनाए रखने के लिए सीताफल का सेवन ज़रूर करे।

रक्त में शर्करा की मात्रा नियंत्रित रखे

सीताफल हमारे शरीर में शुगर के लेवेल को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। इसमे शर्करा को सोख लेने का गुण होता है जिससे यह शरीर के शुगर लेवेल को बढ़ने नही देता है। जो की मधुमेह रोगियो के लिए अच्छा होता है।

गठिया रोग में फायदेमंद

गठिया रोग और जोड़ो के दर्द को भी ठीक करने में सीताफल मदद करता है। इसमे मोजूद मैग्नीशियम हमारे शरीर में पानी के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। इस तरह यह जोड़ो में जमने वेल हानिकारक एसिड को हटाने में मदद करता है। यह एसिड ही गठिया रोग का कारण बनता है। इस तरह सीताफल के सेवन से गठिया रोग में आराम मिलता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए

सीताफल में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते है। यह गुण शरीर को कई कई प्रकार के रोगो से लड़ने की शक्ति प्रदान करते है। इस तरह यह हमारे शरीर के इम्यूनिटी सिस्टम को बढाने में मदद करते है।

बाल और त्वचा को स्वस्थ रखे

सीताफल शरीर को रोगो से लड़ने की शक्ति देने के साथ-साथ हमारे बालो और त्वचा के स्वास्थ्य को दुरस्त रखने में भी मदद करता है। इसमे उपस्थित विटामिन ए और विटामिन सी हमारी त्वचा को कोमल और मुलायम बनाने में मदद करता है साथ ही बालो की भी सही देखभाल करता है।

सीताफल के अन्य फायदों को भी जानिए:-

  1. सीताफल हमारे शरीर में खून की कमी को पूरा करता है जिससे शरीर को एनीमिया जैसे रोगो से बचाया जा सके। साथ ही सीताफल के सेवन से अल्पता का रोग दूर होता है।
  2. सीताफल हमारे दांतो को भी मजबूती प्रदान करता है। इसके सेवन से दांतो और मसुडो का दर्द दूर हो जाता है।
  3. फोड़ो और अल्सर को ख़तम करने के लिए सीताफल के गूदे का प्रयोग करना चाहिए।
  4. डिहाइड्रेशन से बचने के लिए सीताफल के कच्चे फल को काटकर धूप में सूखा ले। फिर इसे पीसकर रोगी को खिलाए इससे डिहाइड्रेशन की समस्या से निजाद मिलता है।
  5. पके हुए सीताफल का गुदा एक कपड़े में बांधकर हथेली और पंजो पर पड़ी गाँठ पर लगाने से गाँठ टूट जाती है और ठीक हो जाती है।
  6. सीताफल में उपस्थित विटामिन ए त्वचा को स्वस्थ रखने में मदद करता है। यह बढ़ती उम्र के बाद त्वचा में आने वाली एजिंग की समस्या को भी दूर करने में मदद करता है।
  7. शोधो से पता चला है की सीताफल के 10 ग्राम बीजो को रोजाना नाश्ते में लेने से प्रॉस्टेट से संबंधित बीमारी दूर हो जाती है।
  8. सीताफल की छाल में जो टॅनिन होता है उसका प्रयोग दवाओ के रूप में किया जाता है। इसके पेड़ के पत्तो का प्रयोग कैंसर और ट्यूमर जैसी बीमारियो के इलाज के लिए किया जाता है। साथ ही इसके पेड़ की छाल का इस्तेमाल मसूडो और दांतो के दर्द को कम करने में किया जाता है।

शायद आप जानते होंगे की सीताफल हमारे सर के कीड़ो यानी जुओं को दूर भागने में भी मदद करता है। इसके लिए सीताफल के बीजो से बने महीन चूर्ण में पानी को मिलाकर लेप बना ले। अब इसे रात में सर में लगाए फिर सुबह सर को धो ले। 2 से 3 दीनो तक ऐसा करने से जुओं से छुटकारा मिल जाता है। दरहसल सीताफल के बीजो से निकालने वाला तेल विषेला होता है इसलिए इसके बीजो को पीसकर जब भी बालो पर लगाए तो आँखो को बचाकर लगाए।

उपर आपने जाना Custard Apple Benefits in Hindi. यदि आप भी अपने शरीर को उपर दी गयी परेशानियो से मुक्त रखना चाहते है तो सीताफल का सेवन करना शुरू करे और रहे स्वस्थ।