फेसबुक इन दिनों लोगो से कनेक्ट होने का सुपरफास्ट माध्यम बन गया है| दिन पर दिन इस सोशल नेटवर्किंग प्लेटफार्म का इस्तेमाल बढ़ता ही जा रहा है|

आपको लगता है की फेसबुक के इस्तेमाल से आप अपने स्पेयर टाइम को अच्छे से बिता पाते है, अपने दोस्तों से  कनेक्ट हो पाते है| फेसबुक पर अकाउंट खोलने के आपको पैसे भी नहीं लगते है| इसलिए आप इसे अपने फायदे की चीज़ समझते है|

लेकिन क्या आप इस बात से परिचित है की फेसबुक का अधिक इस्तेमाल आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है| दरहसल येल यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया में 2013 से 2015 के बीच 5,208 लोगो पर फेसबुक के इस्तेमाल से मानसिक और शारीरक तौर पर होने वाले प्रभावों का आंकलन देखने के लिए शोध किया गया था|

इस शोध में पाया गया की फेसबुक का बढ़ता इस्तेमाल शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य में भारी कमी लाता है| इस शोध के मुताबित जो लोग आम लोगो की तुलना में अपनी प्रोफाइल और स्टेटस में अधिकतर बदलाव करते रहते है उनमे दूसरे लोगो की अपेक्षा ज्यादा उदासीनता और तनाव देखने को मिलता है| आइये विस्तार से जानते है Facebook Side Effects on Health.

Facebook Side Effects: फेसबुक का इस्तेमाल पड़ सकता है स्वास्थ्य पर भारी

Facebook Side Effects: फेसबुक के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव

मानसिक दबाव के कारण शारीरिक स्वास्थ्य पर असर

  • आपने खुद ही महसूस किया होगा जब आपने फेसबुक पर कोई फोटो अपलोड की है तो आपके दिमाग में बस यही चलता रहता है की कितने लोगों ने इसे लाइक या कमेंट किया।
  • जो लोग फेसबुक पर पुरे वक्त लिखे पाने की सोच में लगे रहते है इससे उन पर मानसिक दबाव बनता है|
  • और ऐसे में यदि उनके किसी फ्रेंड ने उनकी पोस्ट लाइक ना की हो तो वो और दुखी हो जाते है|
  • इसके अलावा कुछ लोग इस चीज़ में इतना डूब जाते है की पूरा समय इसी पर लगा देते हैं जिसके चलते उनका शारीरिक स्वास्थ्य भी खराब रहता हैं।

फेसबुक से आप डिप्रेशन में भी जा सकते है

  • फेसबुक एक माध्यम है जहा हर रोज लोग कुछ न कुछ अच्छा शेयर करते है, जैसे यदि किसी का प्रमोशन हुआ हो, या किसी ने गाडी खरीदी हो, या फिर कोई अच्छी जगह घूमने गया हो|
  • यह सब चीज़े रोज रोज देखने के बाद आपको ऐसा लगता है की हर कोई आपसे काफी अधिक खुश और सबकी परिस्तिथि आपसे अच्छी है|
  • जब आपको हर कोई खुश नजर आता है तो आपको उनकी तुलना खुद से करने लगते है और दुखी होते है| ऐसा माहौल कई लोगो को डिप्रेशन का शिकार बनाता है।

ट्रिगर ईटिंग डिसऑर्डर

  • जो किशोरी अधिक से अधिक समय फेसबुक जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट पर बिताते है उन्हें आहार विकार जैसे एनोरेक्सिया, बुलीमिआ होने की सम्भावना अधिक होती है|
  • हाल ही में इजरायल के शोधकर्ताओं ने देखा की जो लड़किया पूरा वक्त टीवी शो देखने के साथ पूरा वक्त ऑनलाइन बिताती है उनमे खाने के विकारो का जोखिम ज्यादा था|
  • शोधकर्ता का यह नहीं कहना है की सोशल नेटवर्किंग साइट से यह विकार होते है| लेकिन फेसबुक चलाते वक्त होने वाले अवसाद से इस विकार की संभावना बढ़ती है|

ऊपर आपने जाना Facebook Side Effects on Health. हम यह नहीं कह रहे है की आप फेसबुक का इस्तेमाल बंद करदे, लेकिन इसे कम जरूर करे| इसके अधिक इस्तेमाल से शारीरिक एक्टिविटीज कम हो जाती है जो आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है|