अब यह बात तो हम सभी जानते है की योग से कई तरह की बीमारियों पर नियंत्रण पाया जा सकता है। योग के अलग अलग आसन आपको अलग अलग बीमारियों से मुक्ति दिलाते है| यदि आप नियमित रूप से योग करते है तो कई रोगो से दूर रह सकते है|

आज के समय में लोगो को अधिकतर होने वाली समस्या मधुमेह और मोटापा है| इसलिए आज हम आपको गोमुखासन के बारे में बता रहे है| यह मधुमेह के रोगियों के लिए फायदेमंद माना गया है|

संस्कृत में ‘गोमुख  का मतलब गाय का मुख़ होता है और इस आसन में आपके पैरो की स्तिथि कई हद तक गाय के मुख के समान होती है इसलिए इसे गोमुखासन कहा जाता है|

वैसे तो यह आसन सभी के लिए फायदेमंद है, लेकिंन विशेषकर इसे महिलाओ के लिए फायदेमंद कहा गया है| इस आसन से आप कब्ज, कमर दर्द, अपचन आदि रोगो में राहत पा सकते है|आइये विस्तार से जानते Gomukhasana Yoga के बारे में|

Gomukhasana Yoga: गोमुखासन योग की विधि और लाभ जानिये

Gomukhasana Yoga

Gomukhasana Steps: गोमुखासन कैसे करे?

  • अंग्रेजी में इस आसन को Cow Face Pose कहते है| इसे करने के लिए सर्वप्रथम अपने दोनों पैरों को आगे की ओर फैला कर बैठे|
  • अपने हाथो को बगल में रखें। बाएं पैर को घुटने से मोड़ें तथा दाएं नितंब के बगल से जमीन पर रख लें।
  • दाएं पांव को भी घुटने से मोड़ें और बाएं पांव के ऊपर से लेजाते हुए इस पैर की एड़ी को बाएं नितंब के पास रखें।
  • बाईं हाथ को कोहनी से मोड़े और पीछे की ओर लेजाकर कंधों की और करे|
  • अब दार्इं बांह उठाएं और ऊपर की और ले जाये| कोहनी से मोड़ते हुए पीछे पीठ पर ले जाएं।
  • दोनों हाथों की अंगुलियों को पीठ के पीछे से एक दूसरे में क्रॉस करने की कोशिश करे|
  • अब अपने सर को कोहनी पर टिकाये, यथासंभव पीछे की ओर धकेलने का प्रयास करें।
  • एकदम सीधे रहे, और आगे की और देखे| इस आसन में क्षमता अनुसार रहने की कोशिश करे|
  • यह आधा चक्र पूरा हुआ| अब पांवों और हाथों की स्थिति बदले और इसे वापिस दोहराये|
  • इस तरह से यह एक चक्र पूरा हुआ| आप इस क्रिया को तीन से चार बार तक दोहराये|

Gomukhasana Benefits: इसे करने के फायदे

  1. यह आसन करने से आपका शरीर सुड़ोल बनता है और इसमें लचीलापन आता है|
  2. रोजाना इसका अभ्यास करने से आप रोजमर्रा की समस्या याने की कमर दर्द से राहत पा सकते हैं।
  3. जिन लोगो की रीढ़ की हड्डी झूखी हुई है वे इसे करे, यह रीढ़ को सीधा रखने के साथ साथ इसे मजबूत भी बनाता है|
  4. यह छाती को मजबूत बनाता है साथ ही फेफड़ों की सफाई करते हुए इसकी क्षमता को बढ़ाने का कार्य करता है|
  5. गोमुखासन से वजन घटता है तथा यह मधुमेह में भी लाभकारी आसन है|