How to Clean Mouth of Newborn: शिशु के मुंह की सफाई करने के आसान तरीके

नवजात शिशु खुद अपनी स्वच्छता का ख्याल नहीं रख सकता है इसलिए बच्चों के मुंह की साफ-सफाई (Baby Oral Care) का विशेष तौर पर ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। नवजात सबसे अधिक संक्रमण के शिकार होते हैं जिसके कारण उनके लिए परेशानियां बढ़ जाती हैं।

अतः जन्म के पश्चात शिशु के प्रत्येक अंग की साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए। ज़रुरी है की बच्चे का मुंह भी साफ किया जाये क्योंकि यदि बच्चे का मुंह साफ रहेगा तो कीटाणुओं के होने का खतरा भी कम होगा।

इससे बच्चे के अंदर भी इन्फेक्शन नहीं होगा और आप अस्पताल और डॉक्टर्स के चक्कर लगाने से भी बच सकते है। थोड़ी सी देखभाल से आप अपने बच्चे का स्वास्थ्य अच्छा बनाये रख सकते हैं और इससे ज्यादा भला एक माँ को क्या चाहिए होता है।

कुछ लोग सोचते है की शिशु का मुँह धोने की जरुरत नहीं होती। लेकिन यह सही नहीं है बच्चों के मुंह की साफ़ सफाई का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। यदि बच्चे के दांत निकल रहें हैं तो Newborn Mouth Care और ज्यादा जरुरी हो जाता है। जानते है How to Clean Mouth of Newborn जिससे उनको निरोग रखा जा सके और कुछ सावधानियां जो आपको बरतनी जरूरी है।

How to Clean Mouth of Newborn: ऐसे करें अपने नवजात शिशु के मुंह की सफाई

How to Clean Mouth of Newborn in Hindi

क्यों है जरुरी नवजात के मुंह की सफाई: Cleaning Newborn Mouth

  • शिशु के मुँह को साफ करना बहुत ही ज़रुरी होता है क्योंकि शिशु की साफ सफाई रखने से उसे बीमारियों और संक्रमण से बचाया जा सकता है।
  • इसके लिए हर पेरेंट्स को जानकारी होना चाहिए की उन्हें Newborn Mouth Care कैसे करनी है और कैसे उनकी देखभाल करनी है।
  • यदि आप गलत तरीके से शिशु के मुँह की सफाई करते है तो उससे भी शिशु को नुकसान पहुंच सकता है।

जानते है आप अपने शिशु के मुंह को किस प्रकार से साफ रख सकते है।

पहले अपने हाँथ को साफ रखें

  • बच्चे के मुंह में हाँथ डालने से पूर्व अपने हाथों को गर्म पानी से धो लें ताकि आपके हाथों में मौजूद कीटाणु हट जाये।
  • यदि आप गंदे हाथों से बच्चों के मुंह की सफाई करेंगे तो शिशु के अंदर इन्फेक्शन का खतरा बढ़ सकता है।
  • इसलिए सदैव ध्यान रखे की जब भी आप बच्चे के मुंह में हाँथ डाले तो हाँथ साफ होने चाहिए।
  • साथ ही आप जब अपने शिशु को कुछ खिला रही हों तो भी अपने हाथों को साफ रखे। यह शिशु के स्वास्थ्य के लिए बहुत ज़रुरी होता है।

सूती कपड़े का उपयोग

  • बच्चे के जीभ की सफाई सूती कपड़ों से ही करें।
  • सफाई करने के लिए पहले सूती कपड़े को पानी में भिगो दे।
  • ध्यान रहे की जब भी जीभ को साफ करे शिशु के जीभ को जोर से न रगड़ें, क्योंकि उनकी त्वचा बहुत कोमल होती हैं।
  • कभी भी शिशु को टूथपेस्ट से जीभ को साफ करने की कोशिश ना करे। शिशु की स्किन बहुत ही सॉफ्ट होती है। इसका उपयोग करने से मुंह छिल भी सकता है।

साफ करते समय होंठ के निचले हिस्से को पकड़ें

  • बच्चे के जीभ को साफ करते वक्त इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि उनका मुंह अच्छे से खुला होना चाहिए।
  • अक्सर बच्चे जीभ को साफ करते वक्त अपने मुंह को बंद कर लेते हैं जिसके कारण आपको साफ करने में परेशानी हो सकती है।
  • इस समस्या के लिए जीभ साफ करते समय शिशु के होंठ के निचले हिस्से को एक हाथ से पकड़ कर रखें इससे आपको मुंह साफ करने में आसानी होगी।

बच्चे के दांत को कैसे साफ करे?

  • ध्यान रहे की जब तक बच्चे अपनी इच्छा से पानी को मुंह से बाहर निकालना ना सीखे टूथपेस्ट का उपयोग ना करें।
  • जब तक शिशु का दांत नहीं निकल जाता उसके मसूड़ों को साफ कॉटन के कपड़े से पोछ कर ही सफाई करें।
  • परन्तु जैसे ही शिशु का पहला दांत निकले, उसे गुनगुने पानी से ब्रश कराएं।

ऐसे करे मसूड़ों की सफाई

  • शिशु के मसूड़ों को साफ करने के लिए सबसे पहले थोड़ा सा पानी को गर्म कर ले। पानी इतना गर्म करे जिससे शिशु को पानी ज्यादा गर्म न लगे।
  • उसके बाद एक साफ कॉटन के कपड़े को ले ले और उसे हलके गर्म पानी से भिगो ले। फिर कपड़े को अपनी तर्जनी अंगुली में फसाकर धीरे धीरे बच्चे के मसूड़ों को साफ करे।
  • मसूड़ों को साफ करना आसान काम नहीं है क्योंकि बच्चे अपने मुंह में अंगुली को डालने नहीं देते है। इसलिए उन्हें मनाकर ही उनके मसूड़ों को साफ करे।

मुंह साफ करते समय रखे सावधानियां

  • यह ध्यान रहे कि बच्चे के मुंह को धोने वाली सारी प्रक्रिया को आराम से करें। ऐसा नहीं होना चाहिए कि बच्चा इस प्रक्रिया से इतना घबरा जाए कि अगली बार आपको सहयोग ही न दे।
  • आपको बता दे की टूथपेस्ट कई केमीकल से मिलकर बनता है। जिसे बच्चे का नया शरीर पचा नहीं पाता। इसलिए ध्यान रखें कि शिशु के मुंह में टूथपेस्ट लगा न हो।
  • बच्चे का मुंह को साफ करने के लिए अपने हाथों को ढीला रखे। कड़े और टाइट हाथों से बच्चे के मुंह को साफ ना करे। ऐसा करने से बच्चे को चोट भी लग सकती है।
  • बच्चे के मुंह को एक बार में ही पूरा साफ करे। बार बार मुंह को साफ करने से बच्चे चिढ़ जाते है और हो सकता है की वह दूसरी बार मुंह को साफ ना करने दे। साथ ही बार बार मुंह को साफ करने से बच्चे को भी परेशानी भी होती है इसलिए जितना हो सके एक ही बार में ही बच्चे के मुंह को साफ करे।
  • बच्चे बहुत ही नाजुक होते है उनकी देखभाल सुरक्षित तरीके से करे। यदि आपको किसी भी तरह की परेशानी आ रही है तो आप अपने बच्चे को डॉक्टर को ज़रूर दिखाए।
  • साथ ही समय समय पर डॉक्टर द्वारा चेकअप कराना भी चाहिए। इससे बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी रहेगी और आप उसी के अनुसार अपने बच्चे की देखभाल कर सकेंगे।

अब तो आप समझ ही गए होंगे की Infant Oral Care आपको किस तरह से करनी है। अपने शिशु के लिए उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए उसके मुंह को साफ करते है। यदि शिशु का मुंह साफ नहीं रहेगा तो उसे संक्रमण होने का खतरा भी हो सकता है। इस बात का ख्याल रखे। हर पेरेंट्स को चाहिए की वह अपने शिशु की देखभाल सुरक्षित तरीके से करे।

You may also like...