क्या आपके सिर में लगातार दर्द बना रहता है? क्या आप माइग्रेन की समस्या से जूझ रहे है? क्या आप जानते है की यह समस्या एक गंभीर रूप भी ले सकती है? नहीं जानते है तो जानना बहुत ही आवश्यक है|

क्यूकि यह समस्या ब्रेन स्ट्रोक की समस्या में परिवर्तित हो सकती है। इसलिए माइग्रेन पीड़ित को पर्याप्त नींद लेना चाहिए| इसके अलावा हो सके तो जल्दी उठने की आदत डालना चाहिए और तनाव से भी बचना चाहिए।

कई बार ऐसा होता है की हम माइग्रेन और स्ट्रोक के बीच अंतर नहीं कर पाते हैं। यदि आपको लगता है आपको स्ट्रोक का खतरा है तो आपको इस समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए।

स्ट्रोक की समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाएं को ज्यादा होती है। इसलिए दर्द ज्यादा होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। चलिए आज के लेख में विस्तार से जानते है आखिर Migraine and Stroke में क्या सम्बन्ध है ?

Migraine and Stroke: ब्रेन स्ट्रोक और माइग्रेन को समझे

Migraine and Stroke

माइग्रेन क्या होता है?

  • माइग्रेन की समस्या में सिर के आधे हिस्से में दर्द रहता है, जबकि आधा हिस्सा दर्द से मुक्त होता है।
  • और जिस हिस्से में दर्द होता है, उसमे आदमी को विकराल चुभन भरी पीड़ा होती है जिसे वह सहन नहीं कर सकता है।
  • दर्द इतना भयंकर होता है की आप शरीर के अन्य भाग को भूल जायेंगे।
  • मूल रूप से माइग्रेन न्यूरोलॉजिकल समस्या है। जिसमे रह-रह कर सिर में एक ओर बहुत ही चुभन भरा दर्द होता है।
  • यह दर्द कुछ घंटों से लेकर तीन दिन तक बना रहता है।
  • इसमें सिरदर्द के साथ-साथ जी मिचलाने, गैस्टिक और उल्टी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

ब्रेन स्ट्रोक क्या होता है?

  • ब्रेन स्ट्रोक की समस्या में मस्तिष्क की कोशिकाएं अकस्मात ही मृत हो जाती हैं।
  • और ऐसा मस्तिष्क में तभी होता है जब मस्तिष्क में रक्त संचरण के सुचारु रूप न होने के कारण,खून का थक्का बनने लगता है या ब्लीडिंग होने लगती है|
  • रक्त संचार में अवरोध आने पर कुछ मिनट में मस्तिष्क की कोशिकाएं मृत होने लगती हैं, क्योकि उनमें ऑक्सीजन की आपूर्ति रुक जाती है।
  • और जब मस्तिष्क को रक्त पहुंचाने वाली नलिकाएं फट जाती हैं, तो इसे ब्रेन स्ट्रोक कहते हैं।
  • ब्रेन स्ट्रोक के कारण याद्दाश्त जाना, लकवा, बोलने में असमर्थता जैसी समस्या हो सकती है।

ब्रेन स्ट्रोक के क्या लक्षण हैं:-

  1. अचानक चक्कर आना
  2. उलझन होना
  3. अस्थिरता या कमजोरी
  4. बोलने में परेशानी या दूसरों को समझने में परेशानी
  5. एक या दोनों आँखों में विजन की समस्याएं

क्या है माइग्रेन और ब्रेन स्ट्रोक में संबंध?

जो लोग माइग्रेन से पीड़ित होते है उनको अन्य लोगो की तुलना में ब्रेन स्ट्रोक होने का खतरा दोगुना होता है। इस पर जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा शोध किया गया,  जिसके लिए 21 अलग-अलग अध्ययनों के परिणामों का विश्लेषण किया गया। इन शोधों में लगभग दो लाख लोगों को शामिल किया गया था। वैज्ञानिकों ने इससे पता लगाया कि माइग्रेन के मरीजों में स्ट्रोक का खतरा अन्य लोगों की अपेक्षा ज्यादा होता है। आपको बता दे की धूम्रपान के साथ दिनचर्या से जुड़ी अस्वस्थ आदतें भी माइग्रेन का कारण हो सकती हैं|