Jerking In Sleep: क्या आपको भी आते है नींद में झटके? जाने इसका कारण

दिन भर की व्यस्तता की थकान के बाद जब कोई व्यक्ति सोने के लिए बिस्तर पर आता है तब उसे स्वर्ग की सी अनुभूति होती है। वह सुकून भरी नींद बहुत ही आरामदायक होती है। ऐसी नींद हर किसी को पसंद होती है।

परन्तु कुछ लोगो के साथ सोते समय कई अजीब चीजें होने लगती है जैसे की नींद में बड़बड़ाना, नींद में चलने की आदत का होना आदि।इसी तरह कुछ लोगो को सोते समय नींद में झटके लगने की समस्या हो जाती है। इस दौरान जब व्यक्ति नींद में होता है तब उसे अचानक से झटके आने लग जाते हैं।

क्या आप जानते है की ऐसा क्यों होता है? क्या वजह होती है जैसी किसी व्यक्ति की नींद में एकाएक ही झटके आने लग जाते है? शायद आपको इस बारे में पता नहीं हो की यह कब होता है? जब हम गहरी नींद में होते है या फिर जब हम कच्ची नींद में होते है?

सोते समय नींद में झटके लगना स्लीप जर्क या जर्किंग इन स्लीप के नाम से जाना जाता है। यह समस्या किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकता है। इसके होने से इससे पीड़ित व्यक्ति के नींद में व्यवधान पड़ता रहता है जिसकी वजह से उसकी नींद पूरी नहीं होती है और दूसरी कई परेशानी भी बढ़ने लग जाती है। तो आईये आज के इस लेख के जरिये जानते है Jerking In Sleep के बारे में विस्तार से।

Jerking In Sleep: क्या है नींद में झटके आने की यह समस्या? जाने इसका कारण और बचाव

Sleep Jerk in Hindi

Sleep Jerk क्या होता है?

  • स्लीप जर्क को हाइपेनिक जर्क (Hypnic Jerk) के नाम से भी जाना जाता है।
  • इसके कारण व्यक्ति झटके तब महसूस करता हैं जब वह गहरी नींद में नहीं होता है यानी न तो पूरी तरह जगा हुआ होता है और न ही पूरी तरह से सोया हुआ होता है। जिसे कच्ची नींद कहा जाता है।
  • कभी-कभी दिमाग की नसों में संकुचन हो जाता है जिसके कारण भी दिमाग कुछ ऐसी प्रतिक्रियाएँ करता है जो झटके के रूप में महसूस होती है।
  • इसमें कभी कभी ऐसी स्थिति आ जाती है की लोग अपने बिस्तर से नीचे भी गिर जाते है या फिर जोर-जोर से चिल्लाने लगते है।

Jerks While Sleeping की वजह

  • इसके होने के कारण अलग-अलग लोग अलग-अलग बताते है जैसे की उनका मानना होता है की जब लोग सपने में उलझे रहते है या फिर किसी सपने में घूम रहे होते है तो झटके लगते है।
  • शोध के अनुसार सोते समय मांसपेशियों में ऐंठन होने की वजह से भी झटके महसूस होने लगते हैं।
  • तनाव में होना, थकान का अनुभव करना या फिर कैफिन का अधिक मात्रा में सेवन करना भी नींद में झटके लगने का कारण होता है।
  • आजकल की भागदौड़ वाली जिंदगी में आराम करने की बजाय केवल काम करते रहना, देर रात तक जागना और टीवी देखना आदि के कारण दिमाग को आराम नहीं मिल पाता है जिसके कारण भी झटके लगते है।
  • जेनेटिक डिसऑर्डर के कारण भी स्लीप जर्क की समस्या होती है।
  • शाम के समय की जाने वाली फिजिकल एक्टिविटी के कारण भी स्लीप जर्क की समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • नींद का सही ढंग से ना होने के कारण भी स्लीप जर्क की समस्या होती है। इसलिए पर्याप्त नींद लेना ज़रुरी होता है।

कैसे करे Sudden Jerk While Sleeping से बचाव

शराब से बचे:

  • यदि आप रात को शराब का सेवन करने के बाद सोते है तो आपको स्लीप जर्क की समस्या हो सकती है। इसलिए जितना हो सके रात के समय शराब का सेवन ना करे।
  • साथ ही साथ धूम्रपान करने से भी स्लीप जर्क आ सकते है इसलिए धूम्रपान से भी जितना हो सकता है दूर ही रहे। यह दोनों स्लीप जर्क के अतिरिक्त अन्य बीमारियों को भी निमंत्रण देते है।

नहा कर सोये:

  • रात के समय नहा कर सोने से भी इस समस्या से निदान मिल सकता है। क्योंकि इसके लिए मन को शांत रखना बहुत ही ज़रूरी होता है साथ ही साफ भी रखना चाहिए।
  • यदि आपको भी स्लीप जर्क की समस्या है तो आप सोने से पहले अच्छी तरह से नहा कर ही सोये इससे नींद भी अच्छी आएगी।
  • इसके अलावा अपने खान पान पर भी ध्यान दे क्योंकि रात के समय हैवी खाना भी आपको अच्छी तरह से सोने नहीं देता है जो स्लीप जर्क का कारण बन सकता है। इसलिए अपने खाने पीने पर भी विशेष ध्यान दे।

चिंता और अवसाद को खुद से दूर रखें:

  • चिंता और अवसाद भी स्लीप जर्क का कारण होती है। इसलिए अपने दिमाग से चिंता को दूर करना चाहिए।
  • आप जितना आराम से सोयेंगे उतना ही यह आपके लिए फ़ायदेमंद रहेगा।साथ ही आपको अन्य बीमारियाँ भी नहीं होंगी।
  • यदि आप चिंता व अवसाद से दूर रहते है तो आपका दिन स्फूर्ति भरा रहेगा। चिंता और अवसाद को दूर करने के लिए आप योग व् मेडिटेशन का सहारा भी ले सकते है।

व्यायाम करे:

  • सोते समय व्यायाम करके इसे कम कर सकते है।
  • लेकिन ज्यादा और अपनी क्षमता से अधिक व्यायाम नहीं करना चाहिए नहीं तो अच्छे से नींद नहीं आ पाती है।

कैफीन के सेवन न करे:

  • कैफीन का सेवन भी स्लीप जर्क की समस्या को पैदा करता है।
  • कैफीन के सेवन में कमी भी इसके लिए फ़ायदेमंद होती है।

अपनी पसंद के सॉफ्ट सांग सुने:

  • ऐसा कहा जाता है की गाने सुनाने से नींद बहुत अच्छी आती है।
  • इसलिए आप एक अच्छी नींद को लाने के लिए रात को सोने से पहले सॉफ्ट सांग को सुने जिससे आपके मन को शांति मिल सके और आप सुकून से सो सके।
  • इस बात का भी ध्यान रखे की आपको रात में सोने समय लाउड म्यूजिक नहीं सुनना चाहिए इससे आपकी नींद में बाधा सकती है।

पर्याप्त नींद ले:

  • स्लीप जर्क के लिए वैसे तो कोई कारगर इलाज नहीं होता है परन्तु इसे पर्याप्त नींद के जरिये ठीक किया जा सकता है।
  • इसलिए प्रतिदिन कम से कम 6 से 7 घंटे की अच्छी नींद लेना बहुत ज़रुरी होता है।

नोट – यदि आपको उपरोक्त उपायों के बाद भी राहत नहीं मिल पा रही है तो ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करे।

उपरोक्त बातों को ध्यान में रखे और अच्छी नींद ले। ऐसा करने से Body Shakes While Sleeping की समस्या को कम किया जा सकता है। अपने खान पान और रहन सहन पर भी ध्यान देना ज़रूरी होता है। अनियमित जीवन शैली होने से स्लीप जर्क जैसी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। इसलिए इन सब से बचकर रहे। व्यायाम को नियमित रूप से करे। व्यायाम को सुबह के समय करना सबसे अच्छा होता है साथ ही पर्याप्त मात्रा में नींद ले और साथ ही जितना हो सके उतना पानी पिए। ऐसा करने से आप स्वस्थ्य रहेंगे। यह जानकारी अपने परिवारवालों और अपने सम्बन्धियों के साथ भी शेयर कर सकते है ताकि वह भी इसका लाभ ले सके।


You may also like...