शरीर में सूजन आने के कई कारण होते है| जैसे चोट लग जाना, शरीर का एक ही स्तिथि में बहुत समय तक रहना, किसी अन्य चिकित्सीय कारणों से आदि| इसके अलावा स्त्रियों को गर्भावस्था में सूजन आने की समस्या का सामना करना पढता है|

कुछ लोग बिलकुल भी शारीरिक कार्य नहीं करते है| जिसके चलते उनका अंग बिलकुल निष्क्रिय हो जाता है| और यह भी एक कारण है की शरीर में सूजन रहने लगती है| आपने देखा होगा जिनकी जॉब लगातार कंप्यूटर के सामने बैठेने की होती है, ऐसे में चलना कम होता है और उनके पैरो में सूजन दिखती है|

सूजन को चिकित्सकीय भाषा में एडेमा कहा जाता है| कई मामलो में तो यह सूजन अपने आप ही कम हो जाती है किन्तु कई मामलो में इसका उपचार करना पढता है| आइये आज के लेख में हम आपको बता रहे है How to Reduce Inflammation.

How to Reduce Inflammation- शरीर में सूजन का इलाज

मालिश करे

यदि हमारे शरीर के अंगो में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है तो इस वजह से भी वहा सूजन आने लगती है| इसलिए सूजन वाली जगह पर मालिश करकर भी सूजन को कई हद तक कम किया जा सकता है|

दरहसल मालिश करने से रक्त का प्रवाह बढ़ता है| आप खुद से ही मालिश कर सकते है या चाहे तो किसी पेशेवर की भी मदद ले सकते है| मालिश करने के लिए गुनगने सरसो के तेल का इस्तेमाल करे|

सूजे हुए अंगो को थोड़ी उचाई पर रखे

यदि आपको किसी तरह की चोट लगने के कारण अंगो में सूजन आ गयी है तो इस सूजन को दूर करने के लिए अपने शरीर के अंग को थोड़ी उचाई पर रखा करे| इसके लिए आप तकिये की मदद ले सकते है| आपके हाथो या पैरो जिसमे भी सूजन हो आप इनके निचे तकिये जरूर रखे| इससे उन अंगो में रक्त जमा नहीं होता और दर्द तथा सूजन में राहत मिलती है|

सूजन वाले हिस्से को आराम दे

एक्सीडेंट हो जाने के कारण किसी किसी को प्लास्टर चढ़ता है| प्लास्टर उतर जाने के बाद भी सूजन बानी रहती है| ऐसे में आप सूजन वाले हिस्से को ज्यादा परेशान ना करे और उस हिस्से को थोड़ा आराम करने दे|

जैसे की यदि आपके पैर में सूजन है तो उस पर पूरा वजन ना डाले और ना ही पूरा वक्त चले| आपको तब तक उस हिस्से को आराम देना है जब तक की उसकी सूजन कम नहीं हो जाती है|

आप चाहे तो सूजन वाली जगह को दबाव से बचाने के लिए छड़ी का इस्तेमाल भी कर सकते है| अगर हाथ में चोट है तो काम करने के लिए दूसरे हाथ का प्रयोग ज्यादा करे|

नमक का सेवन कम करे

कुछ लोग नमक का सेवन बहुत ज्यादा करते है| नमक में सोडियम अधिक मात्रा में होता है| यदि आप अपने आहार में नमक बहुत ज्यादा लेते है, इसका मतलब आप सोडियम बहुत ज्यादा ले रहे है| सोडियम की अधिकता कई बार आपके शरीर के लिए विषैली साबित हो सकती है जिससे सूजन बढ़ने की सम्भावना देखने को मिलती है|

ठंडा सेक

ठंडा सेक भी सूजन को कम करने में मदद करता है| इसलिए जहा भी आपको सूजन आयी है वहा ठंडा सेक करके उस हिस्से को आराम दे| लेकिन एक बात का ख्याल रखे की त्वचा पर सीधे बर्फ लगाने से बचें|

प्रयोग के लिए एक तौलिये में एक आइस पैक लपेटें और सूजन वाली हिस्से पर सेक करे| आप दिन में दो से तीन बार तक बर्फ की सिकाई कर सकते है, इसके अलावा एक बार में 10 से 15 मिनट तक सिकाई की जा सकती है|

तनाव ना ले

आपको जानकर शायद आश्चर्य होगा लेकिन तनाव के चलते भी शरीर में सूजन की समस्या आने लगती है| दरहसल तनाव लेने से आपका दिमाग पाचन क्रिया को रोक देता है| और जब तक यह सामान्य नहीं हो जाता, तब तक सारी पाचन क्रिया रुकी रहती है|

यहाँ तक की ऐसी स्थिति में तनाव वाले हार्मोन पेट तक जाने वाले रक्त प्रवाह को भी कम कर देते हैं। जिसके चलते पेट में सूजन महसूस होने लगती है। इसलिए हमेशा खुद को तनावपूर्ण स्तिथियों से बहार निकलने की हर कोशिश करे| आप चाहे तो ध्यान करे और फिर भी बात न बने तो किसी विशेषज्ञ से भी मिल सकते है|

व्यायाम करे

क्या आपको याद है की पिछली बार आपने कब व्यायाम किया था? अगर नहीं तो आपको व्यायाम करने की आदत डाल देना चाहिए| इससे आपके शरीर से अतिरिक्त पानी बाहर निकल जाते है| आप अपने पसंद का कोई भी व्यायाम कर सकते है जैसे घूमना, तैराकी, योग आदि| इससे आपके शरीर से ना केवल सूजन आने की समस्या दूर हो जाएगी बल्कि आपकी त्वचा पर भी निखार आएगा|

सेंधा नमक का स्नान

सेंधा नमक में Anti Inflammatory Properties मौजूद होती है जिससे सूजन को दूर करने में मदद मिलती है| प्रयोग के लिए दो चम्मच सेंधा नमक को गुनगुने पानी में दाल दे| फिर इस पानी से स्नान करले|

वजन कम करे

मोटे लोगो को अक्सर पैरो में सूजन की शिकायत होती है| इसलिए यदि आप मोटे है तो सबसे पहले अपना वजन कम करने का प्रयास करे| क्योकि जो महिलाये मोटी होती है उनमे ओइस्ट्रोजेन का स्तर बहुत ही ज्यादा होता है| शरीर में जमा हुआ वसा इस ओइस्ट्रोजेन का स्त्राव करता है| इसलिए यदि आपका वजन बहुत बढ़ा हुआ है तो इसे कम करने का प्रयास जरूर करे|

ऊपर आपने जाना How to Reduce Inflammation. यदि ऊपर बताई गयी विधियों का कुछ दिन तक प्रयोग करने के बावजूद भी सूजन कम नहीं होती है तो आपको फिर चिकित्सक से संपर्क जरूर कर करना चाहिए इससे आप यह सुनिश्चित कर सकते है की कही आपको कोई समस्या तो नहीं है|

  • गर्भावस्था के दौरान यदि आपको सूजन बनी हुई है तो यह सूजन प्री-एक्लेम्पसिया का संकेत हो सकता है| यह एक बेहद ही गंभीर समस्या है जिसमे सूजन के साथ रक्त चाप की समस्या भी देखने को मिलती है|
  • इसके अलावा कुछ दवाओं से भी शरीर में सूजन हो जाती है| दवाओं की बाद करे तो एंटी-डिप्रेसेंट दवाये या फिर बी पी की दवाएं सूजन पैदा कर सकती है |
  • किडनी फेलियर होने पर शरीर में तरल पदार्थ जमा होने लगता है और इससे भी सूजन हो सकती है|