कई बार हमारी परिस्तिथि ऐसी रहती है की हम बहुत ज्यादा परेशान रहते है, जैसे जब रिजल्ट आने वाला हो, हमारा कोई अपना हॉस्पिटल में एडमिट हो आदि| ऐसी परिस्तिथियो में बहुत से लोगो के दिल की धड़कन बढ़ जाती है| यह बहुत ही आम बात है|

लेकिन यदि आराम करते वक्त भी आपके ह्रदय की धड़कन बढ़ जाती है तो आपको ध्यान देने की जरुरत है| हम आपको बता दे की आराम करते वक्त भी जिन लोगो के ह्रदय की गति 100 धड़कन प्रति मिनट से भी ज्यादा है उन लोगो को सामान्य लोगो के तुलना में ह्रदय रोग होने की सम्भावना 78% अधिक होती है|

क्या आप जानते है इसका अर्थ क्या है? इसका मतलब यह है की आपके शरीर की बनावट सही नहीं है| इसके अलावा आप बहुत ज्यादा तनाव ग्रस्त है और आपका शरीर भी संतुलित नहीं है| आपकी ह्रदय गति अगर बहुत ज्यादा है तो इसे ठीक करने के लिए आपको उपाय करना होगा| आज के लेख में हम आपको बता रहे है How to Lower Heart Rate.

How to Lower Heart Rate: ज्यादा बढ़ी हुई ह्रदयगति को धीमा कैसे करे

How to Lower Heart Rate

ह्रदय की गति का बढ़ना ह्रदय के रोगों के अलावा और भी कई चीज़ों को न्योता देता है| इससे चिंता, घबराहट जैसी चीज़े भी सामने आती है| और कुछ केसेस में तो लोगो की जान भी चली जाती है| यदि आपके सीने की गति बहुत ज्यादा बढ़ी हुई हो और इसके साथ ही आपको सीने में दर्द भी हो तो बिना देर किये चिकित्सक से संपर्क करे|

कब इमरजेंसी में डॉक्टर को दिखाना जरुरी

टेकीकार्डिया की स्तिथि में आपको आपातकालीन चिकित्सकीय देखभाल की जरुरत होती है| यह एक ऐसी कंडीशन है जिसमे आपके ह्रदय की धड़कन एकदम से बड़ जाती है, यह धड़कन इतनी ज्यादा तेज होती है की हार्ट अटैक आने जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है|

किन बातो का आपको रखना है ख्याल?

बार बार धड़कनो का बढ़ना, यदि यह सिलसिला लंबे समय से चल रहा है तो आप High Heart Rate के लिए निम्नलिखित उपचार खुद से अपना सकते है|

नियमित मालिश

नियमित रूप से मालिश करने पर तेजी से धड़कने वाली धड़कन को आप शांत कर सकते है| रिलैक्सेशन तकनीक शरीर में एड्रेनालाईन, नॉएपिनेफ्रीन, एपिनेफ्रीन और तनाव के हार्मोन को कम करने में मदद करती है| यह सभी हॉर्मोन दिल से जुड़े खतरे बढ़ाते है|

ब्रिटिश में 2007 में किये गए एक अध्यन में सामने आया है की जिन लोगों को रिफ्लेक्सोलॉजी उपचार दिया गया उनके ह्रदय का दर लगभग 8 बीपीएम कम था| रिफ्लेक्सोलॉजी में एक प्रकार से पैर या हाथ की मालिश की जाती है|

गहरी सांस लेने का अभ्यास करें

आपने टी वी में देखा होगा, की जब किसी एक्ट्रेस को किसी बात को कहने में घबराहट महसूस होने लगती और उसकी हार्ट बीट बढ़ जाती है तो वो गहरी सास लेने और छोड़ने लगती है और इसके बाद रिलैक्स महसूस करने लगती है| यह टेक्निक हमेशा काम करती है इसलिए यह एडवाइस वो दुसरो को भी देने लगती है|

यही नुस्खा हकीकत में भी काम करता है| आपके सांस लेने की गति को धीमी करने से हृदयगति कम करने में मदद मिल सकती है। इसे करने के लिए 5-8 सेकंड तक गहरी सांस ले, 3-5 सेकंड तक इसे रोक कर रखे फिर धीरे धीरे 5-8 सेकंड की गिनती में ही बाहर छोड़ें।

गहरी नींद में सोयें

आपने अगर नोटिस किया हो, आप सोये हुए हो और पडोस में अचानक से कुत्ता भौंकने लगे तो आपकी नींद एक दम से खुलेगी और आप नोटिस करेंगे की आपकी दिल की धड़कने बढ़ी हुई है|

एक ऑस्ट्रेलियाई अध्ययन में शोधकर्ताओं द्वारा एक शोध किया गया था| इसमें शोधकर्ताओं ने कई बार लोगों को जगाने के लिए ध्वनि का इस्तेमाल किया और पाया की इस शोर के बाद उन लोगो के दिल की दर 13 बीपीएम औसत से बढ़ी हुई थी| ह्रदय दर को कम करने के लिए अच्छी नींद लेना जरुरी है| यदि आपको शोरगुल में नींद नहीं आती है तो आप एक्सट्रीम प्रोटेक्शन सीरीज इयरप्लग का इस्तेमाल कर सकते है| इसकी मदद से 33 डेसिबल तक शोर को कम किया जा सकता है|

दवा लें

यदि आपको लंबे समय से लग रहा है की आपकी ह्रदय दर बार बार बढ़ जाती है तो अपने चिकित्सक की मदद से हृदयगति कम करने की दवा लें| चिकित्सक द्वारा दी गयी दवा का ही सेवन करे, मन से दवाई लेने की कोशिश ना करे|

ओमेगा 3

ओमेगा-3 के फायदों के बारे में तो आप सभी ने सुना होगा| इसलिए चिकित्सक मछली के तेल के कैप्सूल या ओमेगा 3 का कोई अन्य स्रोत लेने की सलाह देते है| दरहसल रोज मछली तेल का कैप्सूल आपकी हृदयगति को 2 सप्ताह के भीतर ही 6 bpm कम कर सकता है।

दरहसल कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार मछली का तेल आपके हृदय को वेगस तंत्रिका के प्रति प्रतिक्रिया देने में मदद करता है जिसके चलते आपके हृदय की गति नियंत्रित रहती है|

अनुलोम विलोम भी फायदेमंद

श्वासों वाले व्यायाम जैसे की अनुलोम विलोम भी आपकी ह्रदय गति के दर को कम करने में मदद करते है| इसे करने के लिए सबसे पहले अपने दाये नाक के छिद्र को बंद करे और बाए नाक के छिद्र से सांस ले|

श्वास लेने के बाद कुछ सेकण्ड्स तक श्वास को रोककर रखे| बाए नाक के छिद्र को बंद करले दाये नाक से 10 की गिनती में बाहर छोड़े| अब नाक के दाये छिद्र से सांस ले, कुछ सेकण्ड्स रोक के रखे| इस छिद्र को बंद करके नाक के बाएं छिद्र से सांस छोड़े| योग गुरुओ के अनुसार यह आपके दिमाग में संतुलन बनाये रखता है| इससे ना केवल आपका शरीर बल्कि मन भी शांत रहता है|

टेकीकार्डिया के जोखिम के कारण जानिए:-

  • वृद्धावस्था
  • मानसिक तनाव
  • परिवार में दिल की धड़कन सम्बन्धी विकारों का इतिहास
  • उच्च रक्तचाप
  • धूम्रपान
  • शराब का भारी प्रयोग
  • कैफीन का भारी प्रयोग

ऊपर आपने जाना How to Lower Heart Rate. बताई गयी जानकारी और चिकित्सकों की सलाह दोनों की मदद से आप अपनी ह्रदय गति को सामान्य कर अच्छा जीवन जी सकते है|