Reflexology Massage: उच्च रक्तचाप और तनाव की समस्या से राहत देगा रिफ्लेक्सोलॉजी

रिफ्लेक्सोलॉजी एक प्राचीन कला है जिसमे पैरों की मालिश की जाती है। रिफ्लेक्सोलॉजी की चिकित्सा विधि में मालिश के लिए तेल या लोशन का इस्‍तेमाल नहीं किया जाता है। इसमें अंगूठे, अंगुली तथा हस्त तकनीक द्वारा पैर और हाथ पर दबाव डालने का काम किया जाता है।

Reflexology एक वैकल्पिक चिकित्सीय पद्धति है जो चीन में शुरु हुई थी। कहा जाता है की पैरों की मालिश होने से शरीर के ऊर्जा के चैनल उत्तेजित होते है और इन चैनल के माध्यम से ऊर्जा पूरे शरीर में प्रवाह करने लग जाती है।

दरअसल मानव पैर का हर हिस्सा शरीर के एक क्षेत्र से मेल खाता है। इसलिए इस चिकित्सा पद्धति में सिर्फ पैरों की मालिश करने को ही पूरे शरीर की मालिश के बराबर माना जाता है। अर्थात अगर इस पद्धति से पैरों की मालिश कर दी जाती है तो आपके पूरे शरीर की समस्याओं में राहत प्राप्त हो जाती है।

आजकल इस चिकित्सा का उपयोग भारत में भी होने लग गया है। इस थेरेपी की मदद से घुटनो का दर्द, गठिया के रोग में होने वाला दर्द, तनाव और अवसाद आदि की समस्या में राहत मिल जाता है। यह चिकित्सा विश्राम को बढ़ावा देती है। आइये आज के इस लेख में विस्तार से जानते है Reflexology Massage के बारे में।

Reflexology Massage: चिकित्सा की एक प्राचीन प्राकृतिक पद्धति रिफ्लेक्सोलॉजी

Reflexology Massage

रिफ्लेक्सोलॉजी एक प्रकार की नेचुरल थेरेपी है जो इस सूत्र पर कार्य करती है कि पैर, हाथ, कान आदि के भीतर मौजूद पॉइंट्स रिफ्लेक्स होते हैं, जो शरीर के हर भाग, ग्रंथि तथा अंगों से रिलेटेड होते हैं। इन रिफ्लेक्सेस पॉइंट पर किसी उपकरण, क्रीम, तेल या फिर लोशन का उपयोग किये बिना सिर्फ दबाव दे कर शरीर के अंगों का तनाव कम किया जाए। आइये अब जानते हैं Reflexology Therapy Ke Fayde के बारे में एक एक कर के।

रिफ्लेक्सोलॉजी किस प्रकार होता है फायदेमंद: Benefits of Reflexology

तनाव कम करे

  • रिफ्लेक्सोलॉजी का सबसे अधिक फायदा तनाव में कमी है। रिफ्लेक्सोलॉजी तकनीक की बात करे तो इसमें उंगली और अंगूठे का इस्तेमाल किया जाता है।
  • वही रेफ़्लेक्सयोलोगिस्ट उंगली या अंगूठे के माध्यम से पैरो के कई हिस्सों पर दबाव बनाता हैं।
  • रिफ्लेक्सोलॉजी सभी के लिए है, हर उम्र के लोग, चाहे बच्चे हो या बूढ़े, इस विधि से हर कोई फायदा उठा सकते है।
  • हालाँकि इसका फायदा सभी के लिए अलग अलग होता है। जो भी रिफ्लेक्सोलॉजी थेरेपी अपनाते है वे बहुत आरामदायक महसूस करते है।

दर्द से छुटकारा दिलाये

Reflexology Treatment आपको कई तरह के दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। इसकी मदद से सिरदर्द, गर्दन दर्द, निचले और ऊपरी हिस्से वाले पीठदर्द में आराम मिलता है।

  • पीठदर्द के लिए, धीरे से अपने अँगूठे के मदद से पैरो की मालिश करे। अँगूठे की ओर से शुरु करते हुए पैरो के नीचे तक ले जाए। फिर अपने पैरो के तलवों की भी मालिश करे।
  • अगर आपको गर्दन दर्द हो रहा है तो 5 मिनट के लिए पैरो के अँगूठे और पैरो के अँगूठे को जोड़ने वाली हड्डी के ऊपर मालिश करे, बहुत जल्द आपका दर्द दूर हो जायेगा।
  • आप टखने में सूजन और दर्द को कम करने के लिए पूरे टखने की मालिश कर सकते हैं। इससे सरदर्द में राहत मिलती है।

शरीर से विषैले पदार्थ निकाले

  • रिफ्लेक्सोलॉजी केवल दर्द से छुटकारा दिलाने तक ही सीमित नहीं है इसमें किये जाने वाले मसाज से शरीर की अशुद्धि और गंदगी भी दूर होती है।
  • इसलिए इसे करने से चेहरे पर फ्रेशनेस आती है। इसके अलावा अनिद्रा दूर करने के लिए भी यह बहुत ज्यादा सहायक है।

पैरों को रखे हेल्दी

  • पैरो को स्वस्थ रखने और पैर की समस्याओं को दूर करने के लिए पैरो का नियमित रूप से मालिश किया जाना ज़रूरी है।
  • इससे आपके पैरो के आसपास की मांसपेशियाँ मजबूत बनती है। इससे पैरो की जकड़न कम होती है। यहाँ तक की यह एड़ी के दर्द को भी दूर करने में मददगार साबित होती है।

चिंता और अवसाद दूर करे

  • अक्सर यह देखा गया है की मेनोपॉज़ के समय महिलाओं में चिंता और अवसाद की परेशानी बढ़ जाती है।
  • शोधकर्ताओं के अनुसार रिफ्लेक्सोलॉजी पोस्ट मेनोपॉज़ के समय महिलाओं में चिंता और अवसाद को कम करने के लिए फ़ायदेमंद होता है।

किडनी के कार्य को सुधारे

  • एक शोध किया गया, जिसमे किडनी में होने वाले रक्त के प्रवाह को रिफ्लेक्सोलॉजी थ्योरी को अपनाने से पहले, अपनाने के दौरान और अपनाने के बाद में चेक किया गया।
  • इसका परिणाम सकारात्मक रहा, किडनी में रक्त का प्रवाह बढ़ गया, जिससे किडनी सारे बेकार पदार्थों को शरीर से बाहर कर सकती है।

उच्च रक्तचाप में दे राहत

  • आज के इस युग में पुरुष और महिलाओं में उच्च रक्तचाप की समस्या काफी आम हो गयी है।
  • इसके होने के पीछे कई कारण हो सकते है जैसे तनाव और अस्वास्थ्यकर आहार का सेवन इत्यादि।
  • लेकिन कुछ केसेज में इसके पीछे कोई विशेष कारण नहीं होता है।
  • ऐसे में माना जाता है की यह अनुवांशिकता और पर्यावरणीय कारकों का परिणाम है।
  • हफ्ते में केवल तीन दिन 10 मिनट तक के लिए Foot Reflexology अर्थात पैरों की मालिश करने से मूड में सुधार, कम चिंता और रक्त चाप में कमी आती है।

यह पाया गया है कि रिफ्लेक्सोलॉजी निम्नलिखित स्थितियों में मदद करती है:-

  • गठिया रोग
  • दमा
  • पीठ की समस्या
  • रक्त चाप
  • कब्ज
  • जमे हुए कंधे
  • मांसपेशी का खिंचाव
  • गर्दन की समस्याएं
  • श्वास– प्रणाली की समस्याएं आदि

Reflexology Therapy Ke Fayde तो कई है, लेकिन कई बार यह परिणाम दिखाने में बहुत वक्त लगा देती है। इसलिए यदि अगर आपकी परेशानी बहुत अधिक बढ़ जाती है और आप इससे निजात पाने के लिए लम्बे समय तक इन्तजार नहीं कर सकते है तो आपके लिए बेहतर होगा की आप किसी चिकित्सक से संपर्क कर ले, ताकि आप सही तरीके से इलाज कर सके। हालांकि अगर आप की समस्या बर्दाश्त करने लायक हो तो आप इसके उपचार के लिए रिफ्लेक्सोलॉजी मसाज का उपयोग कर सकते हैं। यह उपचार पद्धति थोड़ा टाइम लेगा पर आपको कुछ ही दिनों में इसके बेहतर और प्रभावी परिणाम नजर आने लग जाएंगे। अगर आपको या आपके किसी जान लोगों को इस प्रकार की कोई समस्या है तो इस उपचार विधि का इस्तेमाल ज़रूर करें। यह आपको ज़रूर राहत देगा।


You may also like...