मधुमेह की समस्या आजकल बहुत ही आम हो गयी है| आज के वक्त में इंटरनेट के बढ़ते चलन से यह बात तो तय है की अधिकतर लोगो को इसके बारे में जानकारी तो होगी|

इसके बावजूद भी हर दूसरे घर में एक न एक व्यकित को इसकी समस्या देखने को मिलती है| मधुमेह की समस्या से निजात के लिए  व्यायाम के साथ साथ आप कुछ घरेलू दवाओं का सेवन भी कर सकते है|

मधुमेह होने पर लोग आपको करेला, नीम आदि खाने का बोलते होंगे| यह बहुत ज्यादा कड़वे होते है इसलिए आप इसे लम्बे समय तक नहीं खा सकते है| और लोग सामान्य चीजों से ही नहीं, एक ही प्रकार की दवाई लेकर भी बोर हो जाते है|

इसलिए आज हम आपको मधुमेह के लिए दूसरे घरेलू उपचार के बारे में बता रहे है| मधुमेह को कण्ट्रोल करने के लिए शहतूत की पत्तिया भी बहुत ही प्रभावी इलाज है| बस आपको इसके इस्तेमाल का तरीका आना चाहिए| तो चलिए जानते है Berry Leaves to Cure Diabetes.

Berry Leaves to Cure Diabetes: मधुमेह के रोगियों के लिए उत्तम इलाज

Berry Leaves to Cure Diabetes

मधुमेह में क्यों फायदेमंद है शहतूत की पत्तिया

  • मधुमेह से निजात पाने के लिए शहतूत की पत्ती का इस्तेमाल कर सकते है|
  • हम आपको बताना चाहते है की शहतूत की पत्ती के सेवन रक्त में ग्लूकोज की मात्रा कम हो जाती है जो की डायबिटीज कंट्रोल में सहायक है|
  • शहतूत की पत्तियों में एकरबोस नाम का एक कम्पोनेंट होता है जो भोजन के बाद शरीर में बनने वाली शर्करा को कंट्रोल करने में मदद करता है।
  • मधुमेह के अलावा शहतूत की पत्तियां कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी मेंटेन करने में सहायता प्रदान करती है|
  • एक शोध के मुताबित यदि आप5 से 5 ग्राम तक शहतूत की पत्तियों का सेवन करते हैं तो आधे घंटे पहले ली गयी शुगर भी नियंत्रित हो जाती है|

जानिए प्रयोग करने का तरीका

  • मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए नियमित थोड़ी मात्रा में शहतूत की पत्तियों का इस्तेमाल करना चाहिए|
  • इसे आप सब्जी में डालकर खाएं या फिर सलाद में डालकर भी खा सकते है|
  • जो लोग इसे सब्जी या सलाद में डालकर नहीं खाना चाहते है वे लोग दिन में एक बार किसी भी वक्त इसे मुंह में रख लें।

शहतूत की पत्तिया ही नहीं इसका फल भी है फायदेमंद

  • यदि आप शहतूत और शहतूत की पत्तिया दोनों का सेवन करते है तो इससे आपको दोगुना फायदा मिलता है|
  • शहतूत शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स का निर्माण करता है जो रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज को कंट्रोल में रखते हैं।
  • एक उम्र के बाद हमारे शरीर में अपने स्वास्थ्य को सही रखने का स्टेमिना कम हो जाता है|
  • ऐसी स्तिथि में हमारे शरीर से प्रदूषित पदार्थ बाहर नहीं निकल पाते है जिससे कई प्रकार की बीमारिया होने की संभावना बढ़ जाती है|
  • उचित मात्रा में शहतूत खाने से आप इस समस्या से निजात पा सकते है|