एक पादासन योग, एकपाद आसन या एकपादासन इनका अर्थ होता है एक पैर से किया जाने वाला योग आसन। इसे अंग्रेजी में one legged posture या one foot posture भी कहते है| शरीर में संतुलन लाने के यह एक फायदेमंद आसन है|

योग के अंतर्गत ऐसे कई आसन आते है जिनसे संतुलन सुधरता है| लेकिन एक पादासन के अभ्यास से शरीर में संतुलन तो आता ही साथ ही साथ पैरो और पीठ की माशपेशियों में खिचाव लाने में भी यह आसन मददगार है|

जिन लोगो की एकाग्रता शक्ति बहुत कमजोर होती है उन्हें इस आसन का अभ्यास जरूर करना चाहिए| यदि आप इसे नियमित तौर पर करते है तो आपके फोकस करने की क्षमता बढ़ जाती है|

यह मांसपेशियों को विकसित करता है| इसे कंधे और कलाई भी मजबूत होती है| जब इस आसन को करने के इतने फायदे है तो चलिए हम Eka Padasana की विधि जान लेते है|

Eka Padasana Yoga: जाने इसकी विधि और सावधानिया

Eka Padasana Yoga

एक पादासन कैसे करे?

  • इसे करने के लिए सर्वप्रथम सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं।
  • अब अपने दोनों हाथो को सिर के ऊपर ले जाकर हाथों की अंगुलियों को मिला दें।
  • इस वक्त आपका शरीर ताड़ासन की मुद्रा में होगा|
  • अपनी कमर को सीधा रखें और फिर पांच फिट की दुरी पर किसी चीज पर ध्यान केंद्रित कर दें।
  • अब सांस लेते हुए कंधों को ऊपर खींचे तथा सांस छोड़ते हुए कमर की और से झुके|
  • आपको 90 डिग्री के कोण में झुकना है|
  • इसके पश्चात दाहिने पैर पर संतुलन बनाये तथा बाएं पैर को पीछे की ओर ऊपर करे|
  • चित्र में दिखाए अनुसार अपने दोनों हाथों को आगे की ओर इस तरह लें जाए की आपका बायां पैर, सिर और कंधे एक ही सीध में रहे|
  • कुछ देर इसी स्तिथि में रहे और वापिस पहले वाली स्तिथि में आने के लिए अपने बाए पैर को जमीन पर टिकाये|
  • अपने हाथों को भी सीधा करले और पुन: सावधान की मुद्रा में आ जाए।
  • इस तरह आप इसका एक चक्र पूरा करते है।
  • अब दूसरे पैर के साथ भी इसे दोहराये|

एक पादासन के लाभ

  • एक पादासन का नियमित अभ्यास करने से शरीर के अंग दृढ़ होते हैं।
  • यह शारीरिक स्वास्थ्य सुधारने के साथ साथ मानसिक संतुलन सुधारने में भी मददगार है|
  • जो लोग इसे रोज करते है उन्हें कमर और पिंडलियों का दर्द से निजात मिलती है|
  • इससे पीठ और हिप्स की मांसपेशियों में खिचाव होता है| साथ ही पीठ दर्द में लाभ मिलता है

एक पादासन में सावधानिया:-

जिन लोगो को उच्च रक्तचाप की समस्या है उन लोगो को इस आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए|