Emotional Insecurity in Relationship: रिश्तो में क्यों नहीं होनी चाहिए असुरक्षा की भावना

जब कोई व्यक्ति रिलेशनशिप में होता है तो वह विश्वास, केयर और इमोशन सभी तरह से अपने पार्टनर से जुड़ जाता है। वह अपने पार्टनर के प्रति खुद से ज्यादा ध्यान देने लगता है। ज्यादा से ज्यादा समय उसके साथ ही बिताता है।

कभी कभी कुछ रिलेशनशिप में असुरक्षा की भावना पनपने लगती है। जिसके कारण उनके रिश्ते सही ढंग से नहीं चल पाते है और वह बिखर कर रह जाते है। असुरक्षा होने पर व्यक्ति खुद को भीड़ में भी अकेला महसूस करने लगता है।

क्या आपने कभी यह सोचा है की रिश्ते में यह असुरक्षा की भावना क्यों पैदा हुयी? ऐसा क्या हुआ की आप खुद को असुरक्षित महसूस क्र रहे है?

असुरक्षा की भावना होने से आप किस तरह प्रभावित होते है इसके लिए जानते है Emotional Insecurity in Relationship के बारे में?

Emotional Insecurity in Relationship: क्या आपके रिश्ते में है भावनात्मक असुरक्षा

Emotional Insecurity in Relationship in Hindi

मानसिक और भावनात्मक रूप से परेशान होना

  • कभी कभी रिश्तों में एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से बहुत ज्यादा अटैच हो जाता है जिसके कारण उसे हर समय यह डर बना रहता है की कहीं वह उसे छोड़ तो नहीं देगा।
  • उसे अपने साथ रखने के लिए अजीब सा व्यवहार करने लगता है। वह मानसिक और भावनात्मक दोनों रूप से चिंतित रहता है।

चिड़चिड़ा व्यवहार करना

  • असुरक्षा की भावना के विकसित होने पर व्यक्ति का व्यवहार चिड़चिड़ा हो जाता है। वह हर छोटी छोटी बात पर चिढ़ने लगता है भले ही उस बात में चिढ़ने जैसा कुछ न हो।
  • चिड़चिड़ाहट के कारण भी रिश्तों में दरार आ जाती है।

सही ढंग से काम न कर पाना

  • इस तरह की भावना मन में आने से व्यक्ति का किसी भी काम में मन नहीं लगता है। जिस कारण भी वह चिंता और तनाव में रहना शुरू कर देता है।
  • ऐसे व्यक्ति के साथ भी कोई रहना पसंद नहीं करता है जिससे रिश्ते टूट सकते है।

पार्टनर पर हद से ज्यादा ध्यान देना

बात बात पर रोना

  • असुरक्षा की भावना होने से व्यक्ति बातों को सहन नहीं कर पाता है।
  • हर छोटी छोटी बातों पर रोना शुरू कर देता है।

असुरक्षा की भावना को कम करने के तरीके

  • असुरक्षा की भावना आपके मन में विकसित ना हो उसके लिए आपको खुद को समझना होगा। आप कितने मूल्यवान है इस बात को जाने इससे भी आप अपने अंदर आ रहे इस भावना को दूर कर सकते है।
  • आत्म-सम्मान का होना सबके लिए जरुरी है। इसलिए अपने आत्म सम्मान को बनाये रखे। आत्म सम्मान होने पर आप पोसिटिव विचारों के बारे में ही सोच पाएंगे। असुरक्षा जैसी नकारात्मक विचार आपसे कोसो दूर रहेंगे।
  • आपको अपने ऊपर विश्वास रखना सीखना होगा क्यूंकि यदि आप को खुद पर विश्वास होगा तो आप जान पाओगे की आपका पार्टनर आपको छोड़कर कहीं नहीं जाने वाला है।
Spread the love

You may also like...