How To Care Your Kids Friendship: बच्चों की दोस्ती और बातों का ध्यान कैसे रखें

जीवन में दोस्ती बहुत ही मायने रखती है। प्रत्येक व्यक्ति को एक दोस्त की आवश्यकता होती है जिसके साथ वह खेल सके, बातें शेयर कर सके, घूम सके और अपना समय गुजार सके।

दोस्ती बहुत कुछ सिखाती भी है फिर चाहे वह अच्छा हो या बुरा। इसके लिए एक कहावत भी चली आ रही है जैसी संगत वैसी रंगत यानी जैसे साथी के साथ आपकी दोस्ती रहेगी आप भी वैसे ही होते चले जायेंगे।

कभी कभी बच्चों में दोस्ती के कारण उनके व्यवहार में भी अंतर आता है जिसके चलते उनके माता पिता चिंतित रहते है। इसके लिए आवश्यक है की आप अपने बच्चों का ध्यान रखे खास कर वह किसके साथ उठता बैठता है और उसके दोस्त कैसे बन रहे हैं इन बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी होता है।

उसके Friendship के बारे में जानकारी रखे ताकि आप उनकी गलत आदतों पर नजर रख सकते है। बच्चों को पता नहीं होता की जिससे वह दोस्ती कर रहे है वह उसे सही राय दे रहा है या फिर गलत। देखरेख के लिए ज़रुरी नहीं की आप उस पर बंदिशे लगा दे। बस कुछ बाते है जिन्हे आपको ध्यान रखना है। आइये जाएँ हैं How to Care your Kids Friendship.

How to Care your Kids Friendship: बच्चों की दोस्ती पर नजर रखना जरूरी होता है

How To Care Your Kids Friendship

अपने बच्चों को समय दे

  • अपने बच्चों से प्रतिदिन बातचीत करें साथ ही उन्हें क्वालिटी टाइम दें।
  • यह जानने की कोशिश करें कि बच्चे अपनी डेली-लाइफ में क्या-क्या करते हैं।
  • उनके कौन कौन से फ्रेंड्स है और वे फ्रेंड्स किस तरह की बातें करते हैं, उनकी आदतें क्या हैं आदि।
  • इसके लिए आप अपने बच्चों की एक्टिविटीज में पार्टिसिपेट करें ऐसा करने से बच्चे आपके साथ सारी बातें शेयर करते है।
  • जिससे आप जान सकते है की कब आपका बच्चा गलत कर रहा है और आप उनको समझा सके की यह गलत है और उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए।

अपनी भाषा पर भी रखे नियंत्रण

  • बच्चों के सामने आपको भी बोलचाल की भाषा पर ध्यान देना चाहिए।
  • बच्चा जो कुछ भी सीखता है, उसमें पैरेंट्स का हाथ सबसे अधिक होता है।
  • इसलिए आपके बच्चों के लिए आपके घर पर माहौल कैसा है इसका भी फर्क पड़ता है।
  • यदि कभी भी आपके मुंह से गलती से भी बुरे शब्द निकले जाएं तो तुरंत ही ‘सॉरी’ बोलें।

फ्रेंड्स के सामने बच्चों को न डांटे

  • ध्यान रखें की फ्रेंड्स के सामने बच्चों को उसकी गलती पर न डांटे।
  • बल्कि उसके फ्रेंड्स के जाने के बाद उसको समझाए कि उसने क्या गलती की थी।

बच्चों से करे प्यार

  • कभी कभी बच्चे अटेंशन पाने के लिए भी गलत काम करने लगते है। परन्तु बाद में ये उनकी आदतों में शामिल हो जाता है।
  • ऐसे में आपको अपने बच्चे को प्यार के साथ देखभाल भी करनी चाहिए।
  • अच्छी परवरिश के लिए आप यहाँ फ़ायदेमंद सलाह देख सकते है।

बच्चो को स्पेस दे

  • कभी कभी घर में बच्चें को पूरी तरह से स्पेस न मिलने से बच्चों की दोस्ती ऐसे बच्चों से हो जाती है जो व्यवहार में तेज होते हैं, मारपीट करते हैं और गालियां देते हैं।
  • अगर ऐसे किसी बच्चे से आपके बच्चे की दोस्ती हो गई है तो निश्चित रूप से कुछ दिनों के अंदर ही आपके बच्चे में भी ये गुण दिखाई देंगे
  • यह बात बच्चे के व्यक्तित्व विकास के लिए हानिकरक है।
  • इसलिए अपने बच्चों को ऐसे बच्चों से दूर रखने की कोशिश करे। यह भी देखे की कहीं आपका बच्चा ऐसे बच्चों से दोस्ती तो नहीं रख रहा है।
  • यदि ऐसा है तो आपको अपने बच्चे से बात करनी चाहिए। उसे समझाना चाहिए की ऐसा करना बच्चे के लिए कितना नुकसानदायक होता है।

घर का वातारवण सही रखे

  • बच्चों के लिए घर का वातावरण भी अच्छा होना चाहिए क्योंकि ज्यादा से ज्यादा चीजे बच्चे घर में ही सीखते है। इसलिए घर का माहौल अच्छा रहेगा तो बच्चे अच्छी संगती में रहते है।
  • बच्चे अपने माता पिता और परिवार से बहुत कुछ सीखते है इसलिए घर में अपने आपको अच्छे से प्रेजेंट करे क्योंकि जो आप करेंगे वही आपका बच्चा भी देख कर करेगा। इसलिए उसे अच्छी आदते सिखाये ख़ास कर जैसी आदतें आप अपने बच्चे से चाहते है।
  • आप उन्हें बताये की दोस्त किस तरह के होने चाहिए ताकि वह अपने दोस्त चुनते समय इन बातों का ध्यान रखे।

Friendship Activities पर दें ध्यान

  • अपने बच्चों के फ्रेंड सर्कल के बारे में आपको पता होना चाहिए। वह किसके साथ समय बिता रहा है इस बात की जानकारी आपको रखनी होगी।
  • वह अपने दोस्तों के साथ क्या क्या कर रहे है इसकी जानकारी भी रखे ताकि आप उनकी एक्टिविटी के बारे में जान पाएं की वह सही कर रहे है या नहीं।
  • साथ ही उनके दोस्तों की एक्क्टिविटी पर भी नजर रखे। अपने बच्चों के भविष्य के लिए आपको थोड़ा समय तो निकालना ही पड़ेगा।

बच्चे कैसे दोस्त बनायें: Make Friends

  • बच्चे जब फ्रेंड बनाते है तो उनको आप यह बताये की फ्रेंड्स किस तरह के बनाने चाहिए। क्योंकि बच्चे यदि गलत बच्चों से फ्रेंडशिप करते है तो वह भी गलत आदते सिखने लगते है। इसलिए आपका फर्ज बनता है की आप उनको फ्रेंड्स बनाने में मदद करे।
  • साथ ही किस तरह के फ्रेंड बनाने चाहिए इस बारे में उन्हें समझाएं । ताकि वह आपकी बातों के अनुसार ही अपने सही दोस्तों को चुने और अपनी लाइफ में कुछ अच्छा करे।
  • लाइफ में एक अच्छा दोस्त आपको उन्नति की तरफ भी ले जा सकता है। इसलिए दोस्तों के बारे में सही चुनाव करना बहुत ही ज़रुरी होता है।

इस तरह आप Child Care कर सकते है और अपने बच्चे के भविष्य को सही दिशा भी दे सकते है। बच्चे जितना अपने साथ रहते है उससे ज्यादा समय वह अपने दोस्तों के साथ बिताते है। इसलिए उनके दोस्तों के बारे में आपको जानकारी होना बहुत ही ज़रूरी होता है। बच्चे नादान होते है उन्हें सही गलत की पहचान नहीं होती है इसलिए आपकी ज़िम्मेदारी है की आप उन्हें उनके दोस्त बनाने में मदद करे। साथ ही खुद भी उनके दोस्त बने। अपने बिजी समय से थोड़ा समय अपने बच्चो को भी निकाल कर दें।

पेरेंट्स को चाहिए की वह उपरोक्त बातों को ध्यान में रखकर अपने बच्चे की परवरिश करे क्योंकि यदि बच्चों की सही परवरिश मिलेगी तो वह दोस्ती भी अच्छी रखेंगे। आप उसे जिस प्रकार का माहौल देंगे बच्चा भी वैसा ही करेंगे।

You may also like...