Sleep And Alzheimer’s Disease: क्या कम नींद लेने से हो सकते है दिमागी रोग?

दुनिया भर में करोड़ों लोग नींद से जुड़ी बीमारियों से ग्रस्त है। कुछ लोगो को अनिद्रा के कारणवश नींद नहीं आती, तो वही कुछ लोगो को नींद तो आती है, लेकिन व्यस्तता के चलते वो सोने के लिए पर्याप्त समय नहीं निकाल पाते हैं।

क्या आप जानते है कम सोने से आपका वजन बढ़ने की भी सम्भावना बढ़ जाती है। इससे आपका पाचन तंत्र बुरी तरह प्रभावित होता है। वजन के बढ़ने से बीमारियाँ होने का खतरा होता जैसे की इससे ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और डायबिटीज होने के चान्सेस दोगुने हो जाते है।

पिछले कुछ सालों में किये गए कुछ शोधों के अनुसार जो लोग कम सोते हैं उनकी अवसाद से घिरने की समस्या आम लोगों की तुलना में दोगुनी नहीं बल्कि पांच गुना ज्यादा होती है।

वैज्ञानिकों ने आगाह किया है कि जो लोग कम नींद लेते है वे कम से कम 6 घंटे की नींद ज़रूर ले। कम नींद से अल्जाइमर और मस्तिष्क से जुड़े अन्य विकार होने का खतरा बढ़ जाता है। आइये इस बारे में और विस्तार पूर्वक जानते है। Sleep And Alzheimer’s Disease.

Sleep And Alzheimer’s Disease: अधूरी नींद की वजह से हो सकता है अल्जाइमर रोग

Sleep And Alzheimer Disease

नींद कम लेने से क्या होता है?

  • स्वीडन की उपसाला यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है की अच्छी नींद, मस्तिष्क की कोशिकाओं को स्वस्थ रखने में मददगार होती है।
  • जब नींद पूरी नहीं होती है तब दिमाग को नुकसान पहुंचाने वाले अणु काम में लग जाते हैं।
  • जब कुछ लोगो पर शोध किया गया तो शोध में शामिल लोगों के खून में इन अणुओं की संख्या में सिर्फ एक रात ना सोने की वजह से ही करीब 20 प्रतिशत इज़ाफा हुआ था।

नींद कम लेने से दिमाग को खतरा क्यों

  • इस बात का शोध करने के लिए इटली के मार्के पॉलिटेक्निक विश्वविद्यालय के रिसर्च करने वालो ने चूहों के दो समूहों के मस्तिष्क का अध्ययन किया।
  • अध्ययन के दौरान इन्होंने चूहों के एक समूह को उनकी इच्छा के अनुसार जब तक चाहे सोने दिया गया या 8 घंटे तक जगाया गया।
  • वही चूहों के अन्य समूह को लगातार पांच दिन तक जगा कर रखा गया।
  • इस तरह किये गए अध्ययन में पाया कि अबाधित नींद लेने वाले चूहों के मस्तिष्क के साइनैप्स में एस्ट्रोसाइट करीब 6 फीसदी सक्रिय थे।
  • वही जिन चूहों की बिल्कुल नहीं सोने दिया गया उनमे इसका स्तर साढ़े 13 प्रतिशत निकला।
  • एस्ट्रोसाइट की बात करे तो यह मस्तिष्क में अनावश्यक अंतर्ग्रंथियों को अलग करने का काम करता है।

अल्जाइमर रोग: Alzheimer’s Disease

  • अल्जाइमर एक तरह का मानसिक रोग है जो की धीरे धीरे वृद्धि करता है। यह दिमाग में स्मरण शक्ति वाले भाग से उत्पन्न होना शुरू करती है।
  • धीरे धीरे करके यह समस्या पूरे दिमाग में फैल जाता है।
  • इसके होने से व्यक्ति को भूलने की बीमारी हो जाती है। साथ ही ऐसे लोग कभी कभी अपने ही घर में खो जाते है।
  • अपने आप के साथ बाते करने लगते है। इस बीमारी से दिमाग पूरी तरह से प्रभावित हो जाता है।

दिमाग से जुड़ी बीमारयां: Brain Diseases

  • यदि नींद पूरी नहीं होती है तो इसका सबसे ज्यादा असर दिमाग पर ही पड़ता है जिसके कारण अनेक समस्याएं उत्पन्न हो जाती है।
  • Alzheimer के अलावा हिस्टीरिया, ब्रेन फॉग’, दिमाग में सूजन आदि बीमारियाँ भी हो सकती है। इसलिए नींद लेना दिमाग के लिए बहुत ही ज़रुरी होता है।
  • शोधकर्ताओ का कहना है की जब आप लंबी अवधि तक ठीक से नहीं सोते तो इससे अल्जाइमर व अन्य मस्तिष्क विकार का खतरा बढ़ जाता है।
  • शोधकर्ताओं ने साफ़ कर दिया की Incomplete Sleep Can Cause Alzheimer’s Disease.
  • इस अध्ययन का प्रकाशन ‘न्यू साइंटिस्ट जर्नल में किया गया है। अल्जाइमर की बीमारी के बारे में आप यहाँ से जान सकते है।
  • नींद की कमी हृदय के स्वास्थ्य के लिए भी सही नहीं है इसलिए वयस्कों को रोज 7 से 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए।

अन्य जानकारी

  • रात को सही समय पर नींद आ जाए इसके लिए सोने से पहले चाय या कॉफ़ी का सेवन ना करे। इसे पीने से भी नींद नहीं आती है। इसके स्थान पर आप एक गिलास दूध का सेवन कर सकते है। यह नींद को लाने में मदद करता है और आप चैन की नींद सो सकते है।
  • रात का भोजन भी नींद के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यदि आप अधिक मसालेदार और ज्यादा खाना रात के समय खाते है तो यह भी नींद ना आने का कारण बनती है। इसलिए रात को हल्का और कम तीखा खाना ही खाये।
  • रात के समय सोने से पहले पानी भी कम मात्रा में पीये क्योंकि कुछ लोगो को बार बार बाथरूम की समस्या भी हो जाती है जिसके कारण भी नींद पूरी नहीं हो पाती है।
  • जिन लोगो को देर रात तक जागने की आदत होती है उन्हें भी इस आदत को बदल देना चाहिए क्योंकि यह सेहत के लिए अच्छी नहीं होती है। आप इसके लिए योग और व्यायाम का सहारा भी ले सकते है। यह भी आपको अच्छी नींद दिलाने में मदद करता है।
  • यदि आपको गाने सुनकर सोने की आदत है तो लाउड गाने ना सुने इससे भी नींद उड़ जाती है आपको इसके लिए सॉफ्ट गाने ही सुनाने चाहिए। इनसे नींद अच्छी आती है।
  • नींद को लाने के लिए सोने वाला कमरा भी बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसके लिए सोने वाले कमरे की लाइट को मद्धम ही रखना चाहिए साथ ही ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए जिससे नींद आसानी से आ सके। कमरे को अव्यवस्थित नहीं रखना चाहिए क्योंकि यदि सोने का कमरा अव्यवस्थित रहता है तो इससे भी नींद नहीं आ पाती है।
  • यदि आपको नींद नहीं आ रही है तो आप सोने से पहले नहा लें। ऐसा करने से नींद जल्दी आ जाती है। यह बहुत ही असरकारी नुस्खा होता है।
  • साथ ही तनाव और चिंता के कारण भी लोगो को नींद नहीं आती है। इसके लिए भी आपको मेडिटेशन करना अच्छा होता है। या फिर आप कुछ अन्य उपायों की मदद से तनाव को दूर करने की कोशिश करे।

इस तरह आप नींद ले सकते है और यह आपके लिए बहुत ही ज़रुरी होती है। तभी आप स्वस्थ रह सकते है और अपने कार्यों को अच्छे से और सही ढंग से कर सकते हैं। नींद को अनदेखा कभी भी ना करे और इस पर ज़रूर ध्यान दे। यदि इन तरीकों से भी आपको राहत नहीं मिल रही है तो आप अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क कर सकते है।

You may also like...