Royal Indian Veg Thali: जाने भारत के प्रसिद्ध वेज थाली कौन कौन से हैं

भारत में सभी पारंपरिक उत्सवों में स्वादिष्ट क्षेत्रीय व्यंजनों से सजा हुआ एक शाही थाली अपना अलग हीं स्थान रखता है । भारत एक बड़ा देश है और यहाँ हर क्षेत्र से जुड़ी स्पेशल थालियों का चलन हैं ।

इन स्पेशल थालियों में भारत के अलग अलग राज्यों की विशेषताएँ आपको आराम से देखने को मिल जायेगी । हर क्षेत्र की थाली में उस क्षेत्र की विशेषता परिसी जाती है जिसकी लज्जत लोग बड़े चाव से उठाते हैं ।

जब आप भौगोलिक सीमाओं को पार करते हैं, तो आपका स्वागत विभिन्न स्थानीय व्यंजनों की एक श्रृंखला करेगी । एक ठेठ भारतीय थाली में कई व्यंजन होते हैं और इसमें सबकुछ थोड़ा थोड़ा सा होता है।

आज के इस लेख में हम इन्हीं भारतीय थालियों के बारे में जानेंगे । जैसे कि वे विविध और विशिष्ट क्यों हैं । सभी भारतीय थाली स्थानीय और मौसमी प्रसन्नता प्रदान करते हैं और विभिन्न खाना पकाने की तकनीकें प्रदर्शित करते हैं जो एक विशेष क्षेत्रीय व्यंजन को अद्वितीय बनाती हैं। आइये जांए हैं कौन कौन से हैं Royal Indian Veg Thali.

Royal Indian Veg Thali: भारत के अलग अलग राज्यों की प्रसिद्ध वेज थाली

Royal Indian Veg Thali

हरियाणवी थाली

  • Indian Veg Thali में यह एक बहुत हीं अच्छा और देशी विकल्प है । एक ठेंठ देशी और देहाती खाने का मजा लेने के लिए आपको हरियाणवी थाली का मजा जरूर लेना चाहिए, इस थाली का अनुभव बहुत हीं जबरदस्त होता है ।
  • हरियाणवी थाली मुख्य रूप से हरियाणा के साधारण व्यंजनों और घर के बने देसी घी या सफेद मक्खन से भरपूर होता है ।
  • हरियाणवी थाली में स्थानीय व्यंजन जैसे काचरी की सबजी, खच्ची, हर धानिया चोलिया, बाजरा आलू की रोटी और बेसन मसाला रोटी शामिल होती हैं,
  • इसके अलावा इसमें अलसी की पिनी, मीठे चावल और भुरा घी रोटी जैसे डेसर्ट होते हैं । इस भव्य भोजन को आखिर में पचाने के लिए अक्सर घर के बने लस्सी के लंबे गिलास भी इस थाली का एक अभिन्न हिस्सा होते हैं।

महाराष्ट्रीयन थाली

  • महाराष्ट्र राज्य में खाने का स्वाद बाकी सारे राज्यों से जुदा होता । वैसे तो ये सब जानते हीं हैं कि महाराष्ट्र का स्ट्रीट फूड हर कोई पसंद करते हैं।
  • ठीक इसी तरह से यहा की The Great Indian Thali भी बहुत सारे लोगों को बहुत ही ज्यादा पसंद आता है। यहां के खाने के नाम की तरह उनका स्वाद भी बहुत अलग और जुदा होता है।
  • हेल्दी तथा टेस्टी खाने के लिए महाराष्ट्रियन या मराठी फूड को जाना जाता है और यहां पर लोग पारम्परिखा खाने के साथ साथ कई तरह के नए नए एक्सपेरिमेंट भी करते रहते हैं।
  • महाराष्ट्र की प्रसिद्ध थाली वहां के स्थानीय लोगों द्वारा इस्तेमाल में लाये जाने वाले मसालों की वजह से जानी जाती है।
  • इस थाली में वैसे तो नॉन-वेज भी परोसे जाते हैं पर आपकी स्पेशल मांग पर यह खालिस वेज भी परोसी जा सकती है ।
  • ये स्पेशल थाली महाराष्ट्र के अलग-अलग क्षेत्रों में मौजूद अलग-अलग प्रकार के टेस्ट के लिए भी जाने जाते हैं ।
  • महाराष्ट्र की थाली में मौजूद साबुदाना वड़ा और मट्ठा पूरे शरीर को तरावट प्रदान करता है और इसमें सबका पसंदीदा पाव-भाजी तो होता ही हैं, जो इसे सामान्य से एक विशेष श्रेणी में स्थापित कर देता है ।
  • इसके अलाव आम, कोसिंबिर, भाकरी रोटी (एक बाजरा फ्लैटब्रेड), भारली वंगी (भरवां बैंगन), पिटला (मोटी चम्मच आटा करी), अम्मी (मसालेदार और टेंगी टोर दाल), सबुदाना वाडा और खेर या बसुंडी (मिठाई घने दूध मिठाई) जैसे मिठाई इसमें शामिल होते हैं ।

राजस्थानी थाली

  • राजस्थानी थाली बहुत हीं रंगीन होती है । इस थाली में कई सारे रंगीन व्यंजनों के साथ कुछ स्थानीय डिशेज का भी मिश्रण होता है जिन्हें आप जब खायेंगे तो कभी इसका स्वाद भूल नहीं पाएंगे ।
  • यहाँ की विस्तृत Thali Menu में दाल बाटी चूरमा, मिस्सी रोटी, बेसन के गत्ते की सब्जी, पंचमेला दाल, लाल मास और बाजरा रोटी के साथ स्वादयुक्त मक्खन शामिल होते हैं।
  • वही डेसर्ट के लिए, आपके सामने होंगे गोंद के लड्डू और मालपुआ जो आखिर में आपके मुह को मिठास से भर देंगे ।
  • एक राजस्थानी थाली में वो सब-कुछ मौजूद होता है जिसे आप सम्पूर्ण भारतीय थाली के रूप में देखन पसंद करते हैं ।
  • जोधपुर की मशहूर मावा कचौड़ी, बिकानेर के मीठे रसगुल्ले और पुष्कर के स्वादिष्ट मालपुए । राज्य भर के हर कोने से आने वाली कई सारी डिशेज़ का मजा आपको बस इस एक थाली को खा कर मिल जाएगा ।  और इस थाली को खाने के बाद आप इसके ताउम्र के लिए दीवाने हो जायेंगे ।

भोजपुरी थाली

  • शाकाहारी भोजन पसंद करने वालों के लिए यह Vegetarian Thali किसी ट्रीट से कम नहीं है ।
  • बिहार राज्य से सम्बन्ध रखने वाले भोजपुरी थाली में ऐसा बहुत कुछ होता है जिसे खा कर आप इसके फैन बन जायेंगे ।
  • इसके विविध व्यंजनों में लिट्टी चोखा, भरभारा (हरी ग्राम फ्रिटर), दही चुरा (चावल के गुच्छे के साथ दही), सत्तु का पराठा, काले चेन, गुर्मा (कच्ची आम चटनी) और रसिया (चावल मिठाई) प्रमुख होते हैं ।
  • आखिर में मीठे में बालुशही का एक टुकड़ा खा कर इस थाली का इतहास के साथ अंत किया जाता है ।

गुजराती थाली

  • Indian Thali में शाकाहारी भोजन पसंद करने वालों के लिए गुजराती थाली भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है इसमें केवल शाकाहारी व्यंजन होते हैं ।
  • इसमें ख़ास तौर पर दाल, कढ़ी, दो से तीन सब्जी जैसे रिगना पालक नु शाक (बैंगन करी में पालक) और गाजर मिर्च संभार (मसालेदार गाजर और कैप्सिकम) खट्टा ढोकला, चास, मेथी थेप्ला और श्रीखंड होते हैं।

छत्तीसगढ़ी थाली

  • एक छत्तीसगढ़ी थाली में इतना सारा कुछ परोस दिया जाता है कि आप समझ नहीं पाओगे की आखिर खाने की शुरुआत किस व्यंजन से की जाए।
  • इस थाली में मुख्य रूप से फारा, देहाती वड़ा, राइस, पकौड़े और मुठिया मौजूद होती है।
  • छत्तीसगढ़ी थाली में इसके अलावा अलग अलग तरह की रोटियां और पूड़ियां भी मौजूद होती हैं, इनमे अंगकार पूड़ी, पान रोटी और चूसेला प्रमुख हैं।
  • आखिर में इस थाली के मिष्ठान्न व्यंजन के तौर पर मिलने वाले गुलगुले, कुसली और मिठी फारा का तो मजा हीं अलग होता है।

आज के इस लेख में आपने जाने कुछ Thali Food के बारे में जो भारत के अलग अलग क्षेत्रों में बहुत ज्यादा प्रसिद्द हैं । आप भी नए नए व्यंजन खाने के शौक़ीन हैं तो इन थालियों का स्वाद एक बा जरूर लें।

Spread the love

You may also like...