शरीर में हड्डियों का मजबूत होना बहुत ही आवश्यक होता है। यह शरीर का आधार होती है। जैसे जैसे उम्र बढती है, हमारे शरीर कि हड्डियाँ भी कमजोर होने लगती है।

बुढ़ापे में हड्डियाँ कमजोर होना आम बात है परन्तु आजकल कि जीवन शैली ने खान पान को बहुत प्रभावित किया है। जिसके कारण शरीर के साथ साथ समय से पहले ही हड्डियाँ भी कमजोर हो लगती है।

इसके अतिरिक्त भी हड्डियों के कमजोर होने के कई कारण हो सकते है। दूध का प्रतिदिन सेवन करना हड्डियों में होने वाली समस्यायों को दूर करने में लाभकारी होता है। साथ ही संतुलित आहार भी हड्डियों कि सेहत के लिए अच्छा होता है।

हड्डियों का कमजोर होना विटामिन डी की कमी को भी दर्शाता है। इसलिए जरुरी है कि हमे हमारी हड्डियों का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए ताकि भविष्य में हड्डियों से संबंधित कोई समस्या न आये। आज के लेख में हम आपको Weak Bones Causes बता रहे है।

Weak Bones Causes: इन कारणों से कमजोर हो जाती है हड्डियाँ

Weak Bones Causes

कैल्शियम की मात्रा में कमी

  • यदि आपके शरीर में कैल्शियम की मात्रा कम होती है। तो इसका असर आपकी हड्डियो पर पड़ता है।
  • कैल्शियम कि कमी से हड्डियाँ कमजोर होने लगती है और आसानी से टूटने लगती है, जिसके कारण कई प्रकार कि समस्या उत्पन्न हो सकती है।

धूम्रपान और शराब का सेवन

  • धुम्रपान और शराब का भी अधिक मात्रा में सेवन करना आपकी हड्डियों को प्रभावित करता है।
  • इसके सेवन से हड्डियाँ शीघ्र ही कमजोर होने लगती है साथ ही ऑस्ट‍ियोपोरोसिस जेसे बीमारी होने का भी खतरा बढ़ जाता है।
  • धुम्रपान और शराब में निकोटीन पाया जाता है जो कि आपके स्‍वास्‍थ्‍य और फेफड़ों के लिए नुकसानदायक है।
  • साथ ही एक शोध के मुताबिक इसके सेवन से आपकी हड्डियों, मसल्स और जोड़ों को भी नुकसान पहुचता है।
  • यदि आप धुम्रपान करते है और आपके हड्डियों में दर्द रहता है तो इसे कभी भी अनदेखा न करे ।

आरामदायक जीवनशैली

  • यदि आपका शरीर सक्रीय रहता है तो शरीर कि हड्डियाँ भी मजबूत और स्वस्थ रहती है।
  • आरामदायक जिंदगी से भी स्वास्थ्य संबंधित और हड्डियों से जुडी कई समस्याएँ आ सकती है।

अनुवांशि‍क कारण

  • अनुवांशि‍क कारणों या फिर कुछ दवाओं के सेवन से भी हड्डियों कि समस्या हो सकती है।
  • इसके बचाव के लिए नियमित व्यायाम और कैल्शियम कि सही मात्रा लेकर इस तरह ही समस्या से बचा जा सकता है।

थाइरॉइड संबंधी समस्या

  • यदि आप थाइरॉइड संबंधी समस्या से ग्रसित है और आपकी थाइरॉइड ग्रंथि सही ढंग से काम नही कर रही है। तो ऐसे में इसका प्रभाव आपकी हड्डियों पर पड़ेगा।
  • हड्डियों पर इसका प्रभाव इसलिए पड़ता है क्यूंकि थाइरॉइड ग्रंथि से स्त्रावित होने वाले थाइरॉक्स‍िन की अधि‍कता होने पर हड्डियां कमजोर हो जाती है।

बुजुर्गों की हड्डियां के कमजोर होने का कारण

  • शोधकर्ताओं को पता चला है कि ऑस्टियोपेरोसिस अर्थात हड्डी के पतलेपन और घनत्व में कमी के कारण हड्डी टूटने का खतरा बढ़ जाता है।
  • यह समस्या बुजुर्गो की एक प्रमुख स्वास्थ्य समस्या है।