Yoga for Stress in Hindi:अब जिंदगी के हर तनाव को करें दूर

तनाव की समस्या आजकल सबको ही है। तनाव किसी भी कारण से हो सकता है जैसे आर्थिक, व्यक्तिगत, पारिवारिक सबंधी आदि| तनाव मन की वह स्थिति है जिसमें मनुष्य एक प्रकार का मानसिक बोझ महसूस करता हैI

तनाव से शारीरिक एवं मानसिक दोनों प्रकार की बीमारियाँ पैदा होती हैं| इसलिए तनाव हमारे लिए सही नहीं है| किन्तु योग के द्वारा आप इस समस्या को दूर कर सकते है। योग तनाव दूर करने के लिए आपको ना केवल सकारात्मक बनाता है बल्कि यह भौतिक, मानसिक, आत्मिक और आध्यतमिक पहलुओं पर भी काम करता है।

इसलिए आज हम आपको कुछ आसन बता रहे है जिन्हे रोज 10 मिनट करने से आप तनाव मुक्त महसूस करेंगे| आपको बतादे की कोर्टिसोल और एड्रेना लाइन मुख्य तनाव हार्मोन्स है| इनकी वजह से आप तनाव महसूस करते है। योगा इन हार्मोन्स को कम करने में सहायक होता है।

आइये जानते है Yoga for Stress जिन्हे प्रतिदिन 30 से 60 मिनट करने से तनाव से आपको राहत मिलेगी। तनाव दूर करने के लिए कई सारी योग शैलिया लाभदायक है। पर हठ योग ,प्राणायाम और ध्यान विशेष है।

Yoga for Stress in Hindi: तनाव दूर करने में मददगार योग

Yoga for Stress in Hindi

आसन के प्रकार जिससे तनाव को कम कर सकते है:-

मालासन (Malasn Yoga) – Garland Pose

  • यह नीचे बैठ कर किये जाने वाला मुख्य आसन है। इस आसन का अभ्यास भी आप 1 से 2 मिनट के लिए कर सकते है|
  • यह वात की समस्या को संतुलित करता है जिससे तनाव दूर होता है।
  • यह शारीरिक समस्या जैसे जोड़ों में दर्द, जांघों में खिंचाव आदि से भी राहत दिलाता है|

शवासन (Savasana) – Corpse Pose

  • तनाव को दूर करने के लिए इससे बेहतर और आसान कोई आसन नहीं है। Stress Relief के लिए इसे जरूर करना चाहिए|
  • इस आसन में आपका शरीर आराम अवस्था में होता है। जो तनाव के स्तर को कम करता है|
  • इस आसन में आपका शरीर मृत अवस्था की तरह होता है इसलिए इसे शवासन नाम दिया गया है|
  • शवासन को 5-10 मिनट करे| इस दौरान मन में कोई विचार नहीं आने दे|

बालासन (Balasana) – Child Pose

  • इससे आपके पूरे शरीर को आराम मिलता है इससे न केवल तनाव कम होता है बल्कि थकान भी मिटती है।
  • इस आसन का अभ्यास आप किसी भी आसन के बाद कर सकते है| रोजाना आपको इसे 2-3 मिनट करना है|

उत्तानासन (Uttanasana) – Standing Forward Fold Pose

  • उत्तानासन का नियमित अभ्यास करने से आपके सर के रक्त प्रभाव में वृद्धि होती है।
  • यह मस्तिष्क को शांत रखने में भी सहायक होता है इस आसन को 1-2 मिनट के लिए रोज करे|
  • यह आसन दिखने में तो आसान दिखता है पर यह आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करता है।

हलासन (Halasana) – Plow Pose

  • यह आसन तनाव को कम करने के लिए विशेष रूप से लाभदायक होता है। यह पेट की चर्बी कम करने में भी सहायक है|
  • इस आसन को करने से सर का रक्त प्रवाह बढ़ता है। जो आपके दिमाग को शांत करता है।
  • इसका अभ्यास उच्च रक्तचाप, सर दर्द, चक्कर और माहवारी की समस्या होने पर ना करे|

सर्वांगासन (Sarvangasana) – Shoulderstand

  • इस आसन को भी 1-2 मिनट करे| इस आसन में आपका शरीर औंधी अवस्था में रहता है
  • इसलिए इस आसन को करते वक्त सर में रक्त का संचार अच्छा होता है और तनाव को कम करने में सहायता मिलती है।
  • ये आसन करने से पहले आप सेतुबंधासन, हलासन, वीरासन कर सकते है।

मत्स्यासन (Matsyasana) – Fish Pose

  • इस आसन को अपनी क्षमता अनुसार करें और शुरुआत में थोड़े कम समय के लिए करें फिर धीरे धीरे इसे करने की समय अवधि बढ़ाये।
  • इस आसन का अभ्यास गले और चेस्ट के लिए एक बहुत ही बेहतरीन स्ट्रेचिंग साबित होता है।
  • इसी के साथ यह कंधे और गले दोनों से तनाव को दूर करता है।
  • इसके अलावा मत्स्यासन के नियमित अभ्यास से साँस संबंधित बीमारियों में मदद मिलती है।
  • इसके साथ यह लम्बी और गहरी सांसे लेने में भी सहायक होता है।
  • यह आसन पैराथाइरॉइड, पिट्यूटरी और पेनल ग्लैंड को टोन में रखता है।

मार्जरासन (Marjariasana) – Cat Stretch

  • इस आसन को करने से रीढ़ की हड्डी की समस्याएं दूर होती है और साथ ही यह रीढ़ की हड्डी को फ्लेक्सिबल बनाने में मदद करता है।
  • मार्जरासन का नियमित अभ्यास कलाइयों और कंधो को मजबूत बनाने में मददगार होता है।
  • इसी के साथ यह डाइजेस्टिव सिस्टम को भी स्वस्थ रखने मे मदद करता है। साथ ही पेट कम करने में सहायक होता है।
  • दिमाग को शांत करता है और ब्लड सर्कुलेशन सही रखता है।   

शीर्षासन (Shirshasana) – Headstand Pose

  • शीर्षासन का अभ्यास आपको रोज़ाना के तनाव से दूर रखने में मदद करता है और साथ ही दिमाग को शांति प्रदान करता है।
  • इसके अलावा यह किडनी, लिवर, पेट, इंटेस्टाइन, और रिप्रोडक्टिव सिस्टम की समस्या में फायदेमंद होता है।
  • इस आसन को करने से सिर तक ब्लड फ्लो सही रहता है। जिससे की बालो के झड़ने की समस्या, सफ़ेद बाल की समस्या से जल्द ही छुटकारा मिलता है।

भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari Pranayama) – Humming Bee Breathing

  • इसके अभ्यास से आप क्रोध,चिंता और निराशा से राहत पाएंगे। इसे आप 5-10 मिनट कर करे। इसे कहीं भी कर सकते है|

स्ट्रेस मैनेजमेंट के लिए मैडिटेशन करें

  • एक रिसर्च में पाया गया है कि वो लोग जो डिप्रेशन की मेडिसिन लेने के साथ साथ योग करते है वो डिप्रेशन जैसी गंभीर समस्या से जल्द ही छुटकारा पा सकते है।
  • साँस संबंधित एक्सरसाइज करने जैसे की प्राणायाम, यह स्ट्रेस से राहत दिलाने में सक्षम होता है।
  • मैडिटेशन करने से भुतकाल का अफ़सोस और भविष्य की चिंता दोनों दूर हो जाती है।
  • यह शरीर में एड्रेलिन नामक हॉर्मोन को कम करता है।
  • अगर व्यक्ति किसी बात को लेकर चिंता करता है तो शरीर में यह हॉर्मोन काफी बढ़ जाते है।
  • फिर इससे दिल की गति कम हो जाती है और इसी के साथ मांसपेशियों में तनाव बढ़ने लगता है।
  • मैडिटेशन से एड्रेलिन हॉर्मोन को कम करने की शक्ति होती है।

ऊपर दिए योगासनों के अलावा आप चाहे तो जानुशीर्षासन, सेतुबंधासन, पश्चिमोत्तानासन, अधोमुख श्वान आसन भी कर सकते है। Yoga for Stress in Hindi का अभ्यास करके आप भी लाभ प्राप्त कर सकते है| लेकिन जान ले योगा करने से आपको एक दिन में आराम नहीं मिलेगा इसके लिए आपको नियमित रूप से थोड़ा समय रोज देना होगा।

इसके अतिरिक्त आपको अपनी शारीरिक क्षमता से ज्यादा इसे नहीं करना है। यदि इन्हे करने पर दर्द या अन्य परेशानी महसूस हो तो आपको योग नहीं करना चाहिए और शीघ्र ही डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

Spread the love

You may also like...