बहुत बार जब इंटरनेट सर्फ करते है, या फिर कोई मैगजीन देखते है तो उसमे छोटे बच्चे भी आजकल एब्स के साथ नजर आने लगे है, और यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है|

यह देखने के बाद अधिकतर पेरेंट्स के मन में ख्याल आता है की क्या उनके बच्चे को फिट रखने के लिए सही तरीका है?

सबसे पहले तो आप यह बताये की क्या आप उन लोगो में से है जो यह सोचते है कि जिम और व्‍यायाम जैसी चीजें केवल युवाओं या अधिक उम्र के लोगों के लिए होती है|

तो हम आपको जानकारी देदे की फिटनेस के लिए जिम को अपनी दिनचर्या में हर कोई शामिल कर सकता है| और बच्चो को भी ऑफकोर्स जिम जाना चाहिए, क्योकि आजकल के बच्चे खेलकूद करने के बजाय अधिकतर समय कंप्यूटर और मोबाइल पर बिताते है, जिनसे उनकर शारीरिक विकास नहीं हो पाता है| तो चलिए हम जानते है Can Kids Go to the Gym.

Can Kids Go to the Gym: बच्चों के जिम से जुडी जानकारिया

Can Kids Go to The Gym

मेटाबोलिज्म बढ़ता है

  • व्यायाम करने ने दिमाग का भी मेटाबोलिज्म बढ़ता है|
  • कुछ शोध के अनुसार इससे बच्चे एक्टिव होते है जिसके चलते याद रखने की क्षमता बढ़ती है|

हड्ड़िया मजबूत होती है

  • छोटे बच्चो को जिम में फ्री रनिंग, एरोबिक्स, खेल जैसे की दौड़ना, बॉल कैच करना इत्यादि करवाया जाता है|
  • इन व्यायामों को करने से बच्चो की हड्डिया मजबूत होती है|

शरीर साफ़ रहता है

  • जिम में बच्चो को कार्डियो, ट्रेडमिल वॉक, सिटअप्स, पुशअप्स आदि करवा सकते है|
  • इसे करते वक्त बच्चे अच्छी तरह से सांस लेते है और उन्हें बहुत पसीना आता है|
  • यह शरीर को डेटॉक्स करने का अच्छा तरीका है, इससे शरीर साफ़ रहता है|

डायबिटीज से दुरी

  • आजकल आप देखे तो कम उम्र के बच्चे यहाँ तक की 15-20 उम्र के बच्चो में भी मधुमेह के लक्षण दिखाई दे रहे है|
  • व्यायाम करने से शर्करा रक्त में नहीं जाती है, क्योंकि व्यायाम करने से मांसपेशियों को ऊर्जा के रूप में इसकी जरुरत पढ़ती है|
  • इससे मधुमेह के विकास और इसके जोखिम को कम किया जा सकता है।

वजन नियंत्रित रहता है

  • आजकल के बच्चे घर का खाना छोड़कर, फ़ास्ट फ़ूड ज्यादा पसंद करते है|
  • इसलिए इन दिनों कम उम्र के बच्चो में ही मोटापे जैसी समस्या देखने को मिल रही है|
  • मोटापे से दूसरी बीमारिया भी होने में देर नहीं लगती है| लेकिन यदि बच्चा व्यायाम करेगा तो कई हद तक उसका वजन नियंत्रित रहेगा|

सावधानी:-

आपको ऊपर हमने यह तो कहा है की बच्चो को जिम जाना चाहिए| लेकिन इस बात का ध्यान रहे है की वे अच्छे ट्रेनर के निर्देशों में ही व्यायाम करे|

साथ ही साथ 18 साल से कम उम्र के बच्चों को वेट ट्रेनिंग और पावर लिफ्टिंग ना करवाए| इससे बच्चों को आंतरिक चोट लग सकती है और उनकी लंबाई या दूसरी चीज़ो पर गलत प्रभाव पढ़ सकता है|