Eye Lenses Side Effects: आँखों में लेंस लगाने के हो सकते हैं ये दुष्परिणाम

शरीर में अगर कही कोई समस्या होती है तो शायद हम एक बार के लिए उसे सह लेते है पर जब आँखों को कोई तकलीफ होती है तो हम नहीं सह पाते। आँखे मनुष्य के शरीर का एक बहुत ही सेंसिट‍िव हिस्सा होती है, ज़रा सी तकलीफ होते ही आँखों में से पानी निकल आता है, और जल्द ही आँखों की दृष्टि ख़राब होने का डर भी लगा रहता है।

आजकल के समय में देखे तो हर दूसरे इंसान को चश्मा लगा होता है और वे चश्मा लगाने से बचने के लिए लेंस का इस्तेमाल करते है। लोग चश्मा लगाने से ज्यादा कांटेक्ट लेंसेज लगाना पसंद करते है। आजकल मार्केट में कलर वाले लेंस भी मिलते है जो वो लोग भी लगाते है जिन्हे चश्मा नहीं लगा होता है।

लेकिन आँखों को सुरक्षित रखने के लिए कांटेक्ट लेन्सेज लगाने में ध्यान रखना पड़ता है कई चीज़ो का जिससे की आपकी आँखे स्वस्थ रहे और ज्यादा सेहतमंद रहे। कांटेक्ट लेन्सेज का इस्तेमाल बड़ी ही समझदारी से और सावधानी से करना चाहिए क्योंकि थोड़ी सी चूक से ही आपको आँखों की समस्या हो सकती है। कांटेक्ट लेन्सेज के रख रखाव का भी ध्यान रखना चाहिए ताकि आप किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन से ग्रस्त न हो जाये।

आपको कांटेक्ट लेंस लेने से पहले अपने नेत्र विशेषज्ञ से ज़रूर सुझाव लेना चाहिए और जिस तरह से वो आपको कांटेक्ट लेंस लगाने का बोले आपको उसी प्रकार के कांटेक्ट लेंस लगाने चाहिए जिससे आप कांटेक्ट लेंस से होने वाले नुक्सान और उसके साइड इफेक्ट्स से बच सकते है। इस लेख में जाने Eye Lenses Side Effects.

Eye Lenses Side Effects: कान्‍टैक्‍ट लेंस के साइड इफेक्‍ट

Eye Lenses Side Effects

कांटेक्ट लेंस की सफाई

  • आँखे शरीर का सबसे संवेदनशील हिस्सा होती है इसलिए कांटेक्ट लेंस से किसी भी प्रकार से आँखों को कोई हानि न पहुंचे इसके लिए हमेशा लेंस को
  • अच्छी तरह से साफ कर के ही इस्तेमाल करना चाहिए।
  • आँखों को इन्फेक्शन से बचाने के लिए लेंसेज लगाने से पहले लेंसेज को हमेशा अच्छी तरह धो कर ही लगाना चाहिए।
  • कांटेक्ट लेंसेज की सफाई उसके साथ मिलने वाले सोल्यूशन से ही करना चाहिए इसे कभी भी किसी और पानी से साफ़ न करे।
  • कांटेक्ट लेंसेज इस्तेमाल करने के बाद भी इसे अच्छी तरह सोल्यूशन से साफ़ कर के ही रखे।
  • जिस डिब्बे में डाल रहे है उसे भी सोल्यूशन से साफ़ करे और फिर ही उसमे लेंसेज रखे सोल्यूशन डाल कर।

कांटेक्ट लेंसेज से संक्रमण होने का खतरा

  • कांटेक्ट लेंस को इस्तेमाल करने के पहले अपने हाथों को भी अच्छी तरह धो ले उसके बाद ही लेंस का इस्तेमाल, इससे संक्रमण का खतरा कम होगा ।
  • हमेशा कांटेक्ट को धो कर ही इस्तेमाल करे ताकि अगर गलती से भी कोई संक्रमण आपकी आँखों तक न पहुंच पाए।
  • एक शोध में पता चला है की कांटेक्ट लेंसेज पहने वाले 10,000 लोगो में 4 लोगो को लेंसेज से संक्रमण हो जाता है।
  • और यह भी पता चला है की एक्सटेंडेड कांटेक्‍ट लेंसेज पहने वाले 10,000 लोगो में 20 लोगो की आँखों की समस्या गंभीर हो जाती है और आँखों की समस्या भी बढ़ जाती है।

पलकों में सूजन की समस्या होना

  • कांटेक्ट लेंसेज लगाने वाले कई लोगो को पलकों में सूजन की समस्या हो जाती है।
  • कांटेक्ट लेंसेज को बड़े ध्यान से लगाए ताकि आपको भी पलकों में सूजन जैसी समस्या न हो।
  • पलकों में अगर सूजन है तो लेंस लगाना पूरी तरह से अवॉयड करे वरना समस्या और बढ़ सकती है।
  • जब तक सूजन पूरी तरह से ठीक न हो जाए तब तक लेंस से दुरी बनाये रखे।

कांटेक्ट लेंसेज से आँखों में सूखापन

  • कांटेक्ट लेंसेज को पहनने का सबसे बड़ा दुष्परिणाम है आँखों का सूखापन जबकि डॉक्टर्स के अकॉर्डिंग आँखों में हमेशा पानी रहना चाहिए।
  • यह समस्या सॉफ्ट और हार्ड दोनों प्रकार के लेंसेज पहनने से हो जाती है।
  • लेंस लगाने के बाद आँखों में जलन होती और आंसू निकलना शुरू हो जाते है और थोड़ी देर बाद बंद भी हो जाते पर इस वजह से आँखों का सारा पानी निकल जाता है।
  • आंसुओं के सूखने को टीयर ग्‍लैंड का सुख जाना भी कहते है और इस वजह से आँखों में खुजली भी होती है और साथ ही सूखापन भी महसूस होता है।

कांटेक्ट लेंसेज से कॉर्निया सम्बंधित समस्या

  • कांटेक्ट लेंसेज इस्तेमाल करने से कॉर्निया सम्बंधित समस्या होती है जिससे सूजन और साफ़ दिखाई नहीं देता है।
  • और यह इसलिए होता है क्योंकि लेंस कॉर्निया को पूरी तरह से कवर कर लेता है और कॉर्निया तक ऑक्सीजन सही मात्रा में नहीं पहुंच पाता।
  • इस स्थिति को ‘हाईपोक्सिया’ कहते है।
  • कांटेक्ट लेंसेज का रोज़ इस्तेमाल करने से कॉर्निया का आकार भी बदल जाता है।

कांटेक्ट लेंसेज से आँखों का लाल होना

  • रोज़ाना कांटेक्ट लेंसेज पहनने से आँखों का लाल होने एक समान्य समस्या हो जाती है।
  • और कई लोगो को इस समस्या के बारे में पता नहीं होता है वो इस समस्या को अनदेखा कर देते है।
  • उन्हें लगता है की आँखों की जलन के कारण आंखे लाल हो रही है।
  • रोज़ कांटेक्ट लेंसेज इस्तेमाल करना और आँखों का लाल होना दोनों ही आँखों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

कांटेक्ट लेंसेज से आँखों की जलन

  • जैसे हीं आप आँखों में कांटेक्ट लेंसेज हैं है वैसे ही आँखों में जलन होना शुरू हो जाती है।
  • और कई बार ऐसा होता है की आँखों पर लेंस लगाते समय जलन होती है, जिस वजह से कभी कभी लेंस पलकों पर लग जाता है।
  • इस वजह से आँखों में सूजन आने की संभावना होती है।

कांटेक्ट लेंसेज से आँखों में पानी इकठ्ठा होना

  • कांटेक्ट लेंस लगाने से आँखों में पानी इकठ्ठा हो सकता है।
  • लेंस में इंट्राकुलर नामक तरल पदार्थ होता है जो की लेंस लगाने के बाद आँखों की रेटिना पर इकट्ठा हो जाता है।
  • इस पदार्थ से आँखो में इन्फेक्शन होने का डर हो बना रहता है।
  • ज्यादातर यह तब होता है जब आप रोज़ सॉफ्ट लेंस का इस्तेमाल करते है।

लोग चश्मे से बचने के लिए लेंस का सहारा लेते है लेकिन लेंस की पूरी जानकारी न होने के कारण कई बार हो सकता है की उन्हें आँखों की बड़ी समस्या से गुजरना पड़े। तो ऊपर दिए लेंस के साइड इफेक्ट्स को ध्यान रखे और लेंस का इस्तेमाल सही तरीके से और सावधानी से करे।


You may also like...