हर कोई खूबसूरत दिखना चाहता है। और जब भी खूबसूरती की बात की जाए तो सबके मन में दाग रहित, गोरे चेहरे की छवि आती है। लेकिन कुछ लोगो के चेहरे पर पिंपल्स के दाग होते है तो कुछ लोग अपने चेहरे पर मौजूद अनचाहे बालो से परेशान रहते है।

लेकिन इन सारी परेशानियो के होने के बाद भी सुंदर दिखने का एक उपाय है। आप अपनी इस चाहत को पूरा करने के लिए ब्लीच का सहारा ले सकते है। ब्लीच के ज़रिए ना केवल अनचाहे बालो से छुटकारा मिलता है, बल्कि सोंदर्य भी बढ़ता है।

आजकल के दौर में सिर्फ़ महिलाए ही नही बल्कि पुरुष भी इसका इस्तेमाल करने में पीछे नही है। ब्लीच हमारे चेहरे के अनचाहे बालो को छुपाने का काम करती है। ब्लीच लगाने से चेहरे का रंग तुरंत गोरा दिखने लगता है। दरहसल ब्लीचिंग के दौरान त्वचा की मृत कोशिकाएं ख़तम हो जाती है। त्वचा में नई कोशिकाओं का जन्म होता है। चेहरे की गंदगी साफ होती है और चेहरा दमक उठता है। तो आइए जाने Face Bleaching Benefits और उसे करने का तरीका।

जानिए ब्लीचिंग करने के फायदे और इससे जुड़े भ्रम और हकीकतों के बारे में

Face Bleaching Benefits

ब्लीचिंग के फायदे

  1. ब्लीचिंग करने से मृत कोशिकाएं हट जाती है।
  2. इसे करने से सन टैन कम होता है।
  3. त्वचा में निखार लाने में भी यह फायदेमंद है।
  4. इससे त्वचा के रोम छिद्र खुलते है।
  5. ब्लीच करने से चेहरे पर ग्लो दिखता है।

 

ब्लीच करने से पहले ध्यान देने वाली बाते

  1. ब्लीच करने से पहले स्किन को साफ़ करना ज़रूरी है। इसके लिए आप क्लींजर का इस्तेमाल कर सकते है।
  2. Face Bleach करने से पहले प्री ब्लीच क्रीम से स्किन पर मसाज करना ज़रूरी है। इससे स्किन सेफ रहती है।
  3. ब्लीचिंग क्रीम लगाने से पहले इसका इस्तेमाल का तरीका ज़रूर पढ़े। हर ब्लीच फेस पर लगाकर रखने का वक्त अलग अलग होता है।
  4. जिस किसी को भी चेहरे पर मुहासे है वो ब्लीच बिल्कुल भी ना करवाए। इससे मुहासे भी बढ़ सकते है।
  5. एक्टिवेटर पाउडर और क्रीम का मिक्सर बनाते समय सिर्फ़ प्लास्टिक के चम्मच का ही इस्तेमाल करे।

 

क्यों करना चाहिए ब्लीचिंग

हम सभी को धूप में जाना पड़ता है और प्रदूषण का भी सामना करना पड़ता है। जिस वजह से हमारे चेहरे का कलर काला दिखने लगता हा। लेकिन ब्लीचिंग की मदद से हम चेहरे को अच्छा दिखा सकते है। ब्लीचिंग करने से हमारे फेस को फेयरनेस तो मिलती ही है साथ ही सन टैनिंग से भी सुरक्षा मिलती है। ब्लीच धूल और मिट्टी से हमारी बंद त्वचा के छेद को खोलने का काम करती है और मृत कोशिकाओं को भी हटाती है।

सौन्दर्य एक्सपर्ट कहते की नियमित व्यायाम और सेहतमंद भोजन से भी हमारी त्वचा निखारती है। लेकिन त्वचा का सबसे बड़ा दुश्मन सूरज होता है। सूरज की धूप का हमारी त्वचा में उपस्थित मेलनिन पर प्रभाव पढ़ता है जिससे वो बढ़ने लगती है। इसके लिए यह बहुत ज़रूरी होता है की हम मेलनिन को कम कर अपनी त्वचा को निखार सके।

ब्लीचिंग से जुड़े कुछ भ्रम और हक़ीकत

कुछ लोगो का कहना है की ब्लीच रसायनो से बनी होती है जिससे त्वचा को हानि पहुचती है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नही है बल्कि इससे त्वचा का कॉम्प्लेक्शन बेहतर होता है और साथ ही यह जर्म्स को भी मारती है।

ब्लीचिंग की ज़रूरत सिर्फ़ ज़्यादा ऐज की महिलाओं को ही होती है लेकिन सही बात तो यह है की आज सभी युवा वर्ग की लड़कियों और महिलाओं को भी धूल और प्रदूषण से बचने के लिए ब्लीचिंग की ज़रूरत होती है।

कुछ लोग बोलते है की ब्लीच करने से हमारे फेस के बालो की गरोठ बढ़ जाती है, जबकि ऐसा करने से चेहरे के बाल छिप जाते है और बालो का रंग चेहरे के रंग से मिल जाता है। और जब ब्लीचिंग का असर ख़तम होता है तो बाल काले दिखाई देने लगते है जिससे ऐसा प्रतीत होता है की बालो की ग्रोथ बढ़ गयी है।

यह भी जाने

ब्लीचिंग का इफ़ेक्ट 15-20 दिन तक रहता है। ब्लीच करते समय बहुत सी महिलाओ को जलन होने की समस्या होती है। इसका मुख्य कारण होता है पाउडर एक्टिवेटर का क्रीम में ज़्यादा मात्रा में होना। इसलिए ब्लीच क्रीम को पहले कोहनी या हथेली की उल्टी तरफ ट्राइ कर लेना चाहिए। जलन हो तो क्रीम में पेस्ट की मात्रा बढ़ा ले।

  • ब्लीचिंग के बाद त्वचा लाल हो जाती है।
  • ब्लीच में केमिकल होता है जो त्वचा को नुकसान पहुंचाता है।
  • रूखी त्वचा वालो को हर्बल ब्लीच की जगह ऑक्सी ब्लीच करना चाहिए।
  • कभी भी ब्लीच का इस्तेमाल आँखो के नीचे के डार्क सर्कल्स को ख़तम करने के लिए नही करना चाहिए।