यदि कोई व्यक्ति प्यार के रिश्ते की नयी शुरुआत करता है तो उसे प्यार के सिवा कुछ और नहीं सूझता है। क्या सही है और क्या गलत है वह ऐसी चीज़ो का कुछ भी ध्यान नहीं रख पाता है।

उसे प्यार के सिवा कुछ नहीं दिखाई देता है। बहुत लम्बे समय से उसने खुद के लिए कुछ रूल्स एंड रेगुलेशन सेट किये होते है उन्हें भी वह भूल जाता है। परन्तु हर रिश्ते की कुछ सीमाएं होती है।

गहरे प्यार में भी अपनी सीमा को नजर अंदाज़ नहीं करना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से भी आपके रिश्ते में दरार आ सकती है और वह टूट सकता है। सीमा होने के कारण ही आप अपने रिश्ते को और मजबूत बना सकते है और इससे भी रिश्ता लंबा बना रहता है।

साथ ही झगड़ा और वाद विवाद होने का खतरा भी कम रहता है। इसलिए जरूरी है की आप पहले से ही तय करे की आपके रिश्ते में क्या सीमाएं होनी चाहिए और इसे अपने पार्टनर से शेयर करे। इससे आप बिना किसी टेंशन के अपने रिश्ते को लम्बे समय तक भी निभा सकते है और यदि आपने गलत पार्टनर चुन लिया है टी तो इससे भी आप बच सकते है। आइये जानते है How to Set Boundary in Relationship.

How to Set Boundary in Relationship: रिश्तो में सीमाएं कैसे तय करे?
How to Set Boundary in Relationship
पार्टनर के साथ स्पष्ट रहें

  • किसी भी विषय में अपने पार्टनर के साथ स्पष्ट बात करे
  • क्योंकि इससे पार्टनर को जानने का भी अवसर मिलता है और उसकी पसंद और नापसंद का भी पता चलता है।
  • ध्यान रहे की जब भी आप अपने पार्टनर से बात करे तो बोलते समय अपने शब्दों को बदलने का प्रयास ना करें, क्योंकि यह आवश्यक है कि आपका पार्टनर आपकी सारी बातें जानें और समझे।

ना कहना भी है जरूरी

  • यदि आपका पार्टनर कभी भी ऐसी बात करे जो आपको अच्छी न लगे तो उसे अपने पार्टनर के सामने रखे।
  • आपको केवल उसके बारे में सोचना नहीं चाहिए की आपका पार्टनर क्या सोचेगा?
  • उसे भी मालूम होना चाहिए की आप उसके बारे में क्या सोचते है।
  • प्यार में खुद की भावनाओं को आहत करना भी सही नहीं होता है।

उनकी सीमाओं का भी सम्मान करे

  • रिश्ते में हर व्यक्ति यही सोचता है की सामने वाला उनकी सोच और भावनाओं का भी सम्मान करे।
  • इसके लिए यह जरूरी है की आप को भी आपके पार्टनर के लिए ऐसा ही करना चाहिए।
  • क्योंकि जब आप उनका सम्मान करेंगे, तभी आपको भी सम्मान मिल पायेगा।

खुद को कभी भी गलत ना समझें

  • कभी कभी जब आप अपने पार्टनर के कुछ बातों के विरोध में जाते है तो उसको बुरा भी महसूस हो सकता है।
  • लेकिन इसका यह मतलब नहीं होता ही आप गलत है, इसलिए अपने आत्मविश्वास को कभी भी कम ना करे।

अपनी बात को सही ढंग से उनके सामने रखे

  • यदि आप अपने रिश्ते में सीमाएं रखना चाहती हैं तो ऐसे में आपको अपने पार्टनर से इस बारे में खुल कर बात करनी चाहिए।
  • क्योंकि कभी कभी ऐसा होता है की भले ही आप सही हो लेकिन इस बात का पता आपके पार्टनर को नहीं चल पाता।
  • फिर रिश्तों में गलत फहमी होने के कारण भी दरार आने लगती है।
  • यदि आप बात करेंगे तो आपका पार्टनर आपकी बातों की अहमियत को समझ सकता है।