ठंड के दिन चल रहे है। इन दिनों यदि किसी शाम आप अपने परिवार वालो को गरमागरम कचौरी बना कर दे, तो आपके घर वाले बेहद खुश हो जाएँगे। कचौरी सभी को अच्छी लगती है, यहा तक की इसका नाम ही मुह में पानी ला देने के लिए काफ़ी है।

यह बहुत ही फेमस भारतीय व्यंजन है। इसे आप किसी भी त्यौहार या खास अवसर पर बना सकते है। या फिर जब आप पिकनिक पर जाने का प्लान कर रहे है, तब भी आप कचौरियों को बनाकर ले जा सकती है।

कचौरियों को स्टफ कई चीज़ो से किया जाता है जैसे आलू से, उड़द दाल से, मटर से आदि। लेकिन अधिकतर लोगो को मुंग दाल की कचौरी पसंद आती है तो आज हम आपको इसे ही बनाना बताएँगे। तो चलिए जानते है मूंग दाल कचौरी बनाने की विधि|

मूंग दाल कचौरी रेसिपी: इसे बनाने की आसान विधि

Moong Dal Kachori Recipe

आटे के लिए ज़रूरी सामग्री


मैदा 250 ग्राम (2 कप)
तेल 60 ग्राम (1/4 कप)
नमक आधा छोटा चम्मच

 

भरने के लिए पिट्ठी

  • मूँग दाल – 100 ग्राम (आधा कप दो घंटे पानी में भीगी हुई)
  • हरी मिर्च – 2 (बारीक कटी हुई)
  • हरा धनिया – 2 टेबल स्पून (बारीक कटा हुआ)
  • हींग – 1 चुटकी
  • नमक – स्वादानुसार
  • धनिया पाउडर – 1 छोटी चम्मच
  • सौंफ पाउडर – 1 छोटी चम्मच
  • लाल मिर्च – 1 छोटी चम्मच
  • गरम मसाला – ¼ छोटी चम्मच
  • जीरा – आधा छोटी चम्मच
  • अदरक पाउडर – ½ छोटी चम्मच

 

आटा ऐसे तैयार करे

मूँग कचौरी बनाने के लिए सबसे पहले 2 कप मैदा ले और उसे एक तपेली में दाल दे। अब उसमे स्वाद अनुसार नमक और तेल मिला ले और आटे को अच्छे से मोयन कर ले। अब इसमे थोडा थोडा पानी डालकर रोटी के आटे की तरह नरम आटा गुथ ले। लेकिन हा आटे को मसलकर एकदम चिकना ना करे।

आटे को 20 मिनिट के लिए धक कर रख दे, ताकि आटा अच्छे से सेट हो जाए। जब तक यह सेट होता है तब तक स्टफिंग के लिए पित्ति तैयार करके रख ले।

स्टफिंग ऐसे बनाए

भीगी हुई मूँग की डाल को मिक्सर में दरदरा पीस ले। एक पेन गरम करे और उसमे 4 टेबल स्पून तेल डाल दे। जब तेल गरम हो जाए उसमे तड़के के लिए जीरा डाले। जब जीरा भुन जाए तब उसमे हींग डाले। हींग से स्वाद तो बढ़ता ही है, साथ ही यह रक्त को गाढ़ा नही होने देता है। हींग के बाद हरी मिर्च, धनिया पाउडर, सौंफ पाउडर भुन डाले।

सारे मसालो को अच्छी तरह से भुने फिर उसमे पीसी हुई दाल दे। दाल डालने के बाद उसमे गरम मसाला, नमक, अदरक पाउडर और लाल मिर्च का पाउडर डाले। डाल को आपको अच्छी तरह भुनना है। महक से आपको समझ में आ जाता है की डाल अच्छे से भुन गयी है या नही।

दाल चिपके नही इसके लिए लगातार दाल में चम्मच चलाते रहे। फिर भी यदि दाल चिपक रही है तो आप कढ़ाई में थोडा सा तेल और मिला सकते है। अब दाल को एक बर्तन में निकाल ले ताकि वो ठंडी हो सके।

कचौरी बनाने की विधि

  • आटा अब तक सेट हो चुका होगा। अब आटे से नींबू के आकार की गोल गोल लोई बनाकर तैयार कर ले।
  • अब एक लोई ले, और उसे हाथो पर रखे तथा उंगलियो की सहायता से बड़ा करे। और एक टोकरी की तरह आकर दे।
  • अब इस टोकरी में जो स्टफिंग आपने बनाई थी उसे डाले। इसके बाद आटे को चारो और से उठाकर अच्छे से बंद कर ले।
  • आपको सारी लोई के अंदर इस तरह ही मसाला भरना है।
  • एक कढ़ाई में तेल गरम करे। तेल को बहुत ज़्यादा गर्म नही करना है क्योकि कचौरियों को मीडियम टेंपरेचर पर तला जाता है।
  • बनी हुई कचौरी को हाथ के सहायता से थोडा दबाए। दबाव हल्का होना चाहिए।
  • अब कचौरियों को तलने के लिए गर्म तेल में डाले। एक बार में जितनी कचौरी अच्छे से तली जाएगी उतनी ही डाले।
  • जब कचौरिया अच्छे से फूल जाए और नीचे से अच्छी तरह सिक गयी हो तो उसे पलट दे।
  • आपको कचौरियों को गोल्डन ब्राउन रंग होने तक तलना है। आँच को मीडियम पर ही रखे।
  • प्लेट में एक नैपकिन रखे और कचौरियों को उस पर उतार कर रखे। इससे कचौरियों का एक्सट्रा आयिल हट जाएगा।
  • सारी कचौरियों को तल ले। आपकी कचौरिया तैयार है।

सर्विंग टिप: कचौरी को ईमली की मीठी चटनी या फिर धनिए की चटनी के साथ परोसे। चाहे तो बारीक सेव भी डाल सकते है।

उपर आपने जाना Moong Dal Kachori Recipe in Hindi. जब आप कचौरिया बनाते है तब उसमे मसाला भरते वक्त उसे अच्छे से बंद करे, नही तो कचौरिया तलते वक्त खुल जाएगी। इसे तलते वक्त गैस तेज ना करे, नही तो कचौरिया ख़सती नही बनेंगी।