Pregnancy Tips for Healthy Child: एक स्वस्थ बच्चे के जन्म के लिए हर गर्भवती पढ़े

यदि आप प्रेग्नेंट है या इसकी प्लानिंग कर रहे है तो कुछ बेसिक चीज़े आपको मालूम होना चाहिए, जिससे आप आपका और आपके बच्चे का ध्यान रख सके।

जब भी कोई महिला गर्भवती होती है तो अपने गर्भ में पल रहे बच्चे को लेकर उसकी यही सोच होती है कि उसका बच्चा स्वस्थ पैदा हो तथा वह किसी भी प्रकार की विकलांगता से ग्रसित ना हो।

डॉक्टर्स का कहना होता है की गर्भावस्था के दौरान की गई छोटी-छोटी गलतियों से भी बच्चों में विकलांगता की स्तिथि आ जाती है। जैसे की कैल्श‍ियम और विटामिन डी की कमी के चलते ही बच्चों के पैरों में परेशानी आने का खतरा रहता है।

इस दौरान महिला क्या खा रही है, क्या कर रही है दोनों बातों का उसके बच्चे पर असर पढता है। इसलिए आज के लेख में हम आपको बता रहे है Pregnancy Tips for Healthy Child.

Pregnancy Tips for Healthy Child: इससे बच्चे के विकास में नहीं आएगी कोई दिक्कत

Pregnancy Tips for healthy Child

पहले अपने स्वास्थ्य का पता करले

  • प्रेग्नेंसी की तैयारी से पहले अपने स्वास्थ्य के बारे में जान लेना चाहिए, की कई आपको कोई बीमारी तो नहीं है।
  • आपको सभी जरूरी टेस्ट जैसे थायरॉयड, सिस्ट आदि को करवा लेना चाहिए। ताकि डॉक्टर आपको प्रेगनेंसी को लेकर गाइड कर सके।
  • साथ ही प्रेग्नेंसी के 3 महीने पहले से ही फॉल‍िक एसिड का सेवन शुरू कर देना चाहिए। इससे बच्चे और मां में खून की कमी के चलते कोई कॉम्प‍िल‍िकेशन्स नहीं आते है।

केवल घर का स्वास्थ्यप्रद खाना

  • यह बात सभी जानते है की गर्भावस्था के दौरान महिला को चटपटा खाने का दिल करता है।
  • लेकिन इसके लिए पिज्जा, बर्गर या फिर रोड साइड चाट-पकौड़े को बिलकुल ना खाये, यह आपके बच्चे की सेहत के लिए नुकसान दायक हो सकता है।
  • इसलिए घर पर बना खाना ही खाये, कुछ टेस्टी खाने का मन हो तो घर पर ही स्प्राउट्स की भेल बना ले।
  • यदि आप प्रेग्नेंट है तो गर्भावस्था का सही आहार यहाँ जान सकती है।

सॉफ्ट चीज़ और मांस से दूर रहें

  • कुछ खाद्य पदार्थों में बैक्टीरिया हो सकता है जो आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है, इसलिए इन्हे ना खाये।
  • बकरी के दूध से बने पनीर , कम पका मांस या मछली आदि से दूर रहे।

ध्वनि प्रदूषण से बचे

  • एक अध्ययन में यह बात सामने आई है की ध्वनि प्रदूषण बच्चों को गर्भ में ही बहरा बना देता है।
  • कई बार तो इसके चलते बच्चों के बोलने की क्षमता भी प्रभावित हो जाती है। क्योंकि बच्चा जब तक कुछ सुनेगा नहीं, वो बोलना कैसे सीखेगा
  • इसलिए गर्भावस्था के दौरान महिला को ज्यादा शोरगुल वाले माहौल में नहीं रहना चाहिए।

सादा पानी और जूस पिए

  • गर्भावस्था के दौरान अल्कोहल के सेवन से दुरी बना लेनी चाहिए।
  • साथ ही कोल्ड ड्रिंक्स और सोडा भी ना पिए।
  • गर्भवती महिलाओ को केवल सादा पानी और जूस पीना चाहिए, वो भी घर का बना।
Spread the love

You may also like...