कई बार त्वचा में भी ऐसे रोग हो जाते है जो लंबे समय तक व्यक्ति को परेशान कर देते है| इसका इलाज करवाने पर भी यह ठीक होने में काफी समय लेते है| सोरायसिस भी इसी तरह का त्वचा रोग है|

सोरायसिस में त्वचा की पर्त बदसूरत हो जाती है| इस रोग का मुख्य कारण खून की खराबी है| इसके अलावा सोराइसिस, शरीर में अम्ल व क्षार का असंतुलन होने और प्रतिरोधक तंत्र के कमजोर होने के कारण होता है।

वही 10% मामलो में यह बीमारी अनुवांशिक कारणों से भी होती है| यह एक ऑटोइम्यून डिजीज है, जो शरीर के अन्य अंगो को भी प्रभावित करता है| और यह चर्म रोग किसी भी उम्र में लोगो को प्रभावित कर सकता है|

आंकड़ों के मुताबिक दुनिया भर में लगभग 1% लोग इस रोग से ग्रसित हैं| इसके अधिकतर मामले 20-30 वर्ष की आयु में देखने को मिलते है जबकि 60 वर्ष की आयु के बाद इसकी संभावना ना के बराबर होती है| इस रोग में हल्दी का प्रयोग फायदेमंद होता है। आइये हम विस्तार पूर्वक जानते है Turmeric for Psoriasis Cure कैसे होता है|

Turmeric for Psoriasis Cure: सोरायसिस रोग में फायदेमंद है हल्दी

Turmeric for Psoriasis Cure

सोराइसिस के इलाज में किस तरह फायदेमंद है हल्दी

  • दरहसल कच्ची हल्दी एंटीबैक्टीरियल और एंटी सेप्टिक गुणों से भरपूर होती है साथ ही इसमें इंफेक्शन से लडने के भी गुण होते है|
  • सोराइसिस जैसे त्वचा संबंधी रोगों से बचाव करने में भी हल्दी मददगार होती है|
  • आपको जनकरी दे की हल्दी में छः प्रतिशत एक हरे भूरे रंग का उड़नशील तेल पाया जाता है, साथ ही इसमें करक्यूमिन नामक रंजक द्रव्य होता है।
  • इसके अलावा इसमें स्टार्च एवं एल्ब्यूमिनॉयड भी होता है|
  • यही वजह है की हल्दी का उपयोग रक्त विकार एवं त्वचा रोगों को दूर करने के लिए औषधियों की तरह उपयोग किया जाता है|

हल्दी के अन्य गुण

  • हल्दी एंटी बायोटिक गुणों से भरपूर होती है|
  • हल्दी खून को साफ करने का कार्य करती है|
  • यह शरीर तथा ऊर्जा तंत्र की भी सफाई करती है।
  • इसलिए इससे रोग प्रतिरोधक तंत्र सुधरता है और त्वचा संबंधी समस्या ज्यादा होती है|

हल्दी का प्रयोग कैसे करना है

आतंरिक प्रयोग

आधा किलो हल्दी पीस ले| फिर इसे चार लीटर पानी में घोलकर उबलने रखदे| अच्छे से उबलने के बाद इसे ठण्डा होने दे फिर दो सौ ग्राम शहद मिला दें। अब दो सप्ताह तक इस मिश्रण को किसी शीशे के बर्तन में रखे| फिर इसको छानकर किसी साफ बोतल में भरकर रख दें।रोज खाना खाने के बाद इस मिश्रण की दस या पन्द्रह ग्राम की मात्रा का सेवन करें।

बाहरी प्रयोग

बाहरी सफाई के लिए आप अपने नहाने के पानी में भी एक चुटकी हल्दी डालें और फिर इस पानी से नहाएं।