Back Pain Causes: लगातार एक जगह बैठे रह कर काम करने से हो सकता है कमर दर्द

कमर दर्द (Back Pain) की शिकायत किसी भी उम्र के इंसान को होना आज कल आम बात हो गयी है। पहले तो अक्सर 35 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो को ही कमर और पीठ दर्द की समस्याएँ होती थी पर अब ऐसा नही है अब 20 साल के लोगो में भी कमर दर्द की परेशानी देखने को मिल जाती है।

भागदौड़ की इस दुनिया में कमर दर्द के बहुत सारे कारण हो सकते है जैसे बहुत देर तक एक जैसे बैठकर काम करना, गलत पोजीशन में सोना, मांसपेशियों में अकड़न आदि किसी भी कारण से कमर दर्द हो सकता है।

अक्सर महिलाओ में कमर दर्द जैसी शिकायतें डिलीवरी के समय और उसके बाद ज्यादा देखने को मिलती है। डिलीवरी के बाद महिलाओ का शरीर बहुत कमजोर हो जाता है जिसके चलते उन्हें कमर दर्द, पीठ दर्द के साथ हाथ पाँव में दर्द आदि परेशानियों का भी सामना करना पड़ जाता है।

बहुत ज्यादा भारी भरकम सामान उठने से भी कमर दर्द की परेशानी हो सकती है। गलत पोजीशन में बैठने या बिना ध्यान रखे हुए हड़बड़ी में कोई कार्य करने से भी कमर दर्द का सामना करना पड़ जाता है। कमर दर्द की परेशानी गलत तरीके से व्यायाम करने से भी हो सकती है। बहुत बार हम अपनी क्षमता से ज्यादा काम कर लेते है जिसकी वजह से भी कमर दर्द जैसी समस्याएं खड़ी हो जाती है। आइये जानते है Back Pain Causes.

Back Pain Causes: जाने कमर दर्द होने के कारण और इसके घरेलु उपचार

Back Pain Causes

कमर दर्द के कारण: Back Pain ke Karan

  • अगर आपको कोई पुरानी चोट लगी हो तो हो सकता है उसके असर के कारण भी कमर दर्द की परेशानी आपको हो रही हो।
  • अगर आपके सोने का गद्दा बहुत ज्यादा कड़क रहता है तो इसके कारण कमर दर्द और पीठ दर्द की तकलीफ होना बहुत सामान्य बात है।
  • महिलाओ को महावारी होने के पहले कमर दर्द होना एक साधारण सी बात है। ज्यादातर महिलाओ को महावारी के 1-2 दिन पहले या महावारी के दिनों में कमर और पेट में दर्द रहता है।
  • ऐसी महिलाएं जिनकी डिलीवरी ऑपरेशन के द्वारा हुई हो उन्हें ज्यादातर कमर दर्द की परेशानी बनी हुई रहती है।
  • ज्यादातर ऑफिस में लम्बे समय तक एक जैसे चेयर पर बैठे रहने से कमर दर्द की परेशानी हो जाती है।
  • बहुत ज्यादा वजन वाले इंसान को भी अपने भरी भरकम शरीर के कारण कमर दर्द या पीठ दर्द जैसी समस्या होना सामान्य बात है।
  • महिलाओ द्वारा एक जैसे बैठकर बच्चे को दूध पिलाने के कारण भी उन्हें कमर दर्द की तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है।
  • बहुत अधिक धुम्रपान या तनाव के चलते भी कमर दर्द जैसी परेशानी होना सामान्य बात है।
  • जिन्हें नींद न आने की समस्या रहती हो उन लोगो में भी कमर दर्द की तकलीफ ज्यादा देखने को मिलती है।
  • अगर रीढ़ की कोशिकाएं बहुत अधिक कमजोर हो जाती है तो इसके चलते भी कमर दर्द जैसी तकलीफ होना शुरू हो जाता है।
  • उम्र बढने के साथ-साथ हड्डियाँ कमजोर होने लगती हैं और इससे डिस्क पर जोर पड़ने लगता है जिससे कमर दर्द की परेशानी होने लगती है।
  • बचपन से अगर कैल्शियम की कमी हो तो ऐसे में हड्डियाँ कमजोर होने की वजह से भी कमर दर्द की तकलीफ उठानी पड़ सकती है।

बहुत सारे घरेलू उपायो को अपनाकर के कमर दर्द से आसानी से निजात पाई जा सकती है। आइये जानते है आप कौन से घरेलू उपायों को अपनाकर अपनी कमर दर्द की परेशानी को ग़ायब कर सकते है।

कमर दर्द के घरेलू उपाय: Back Pain Treatment at Home in Hindi

नियमित मालिश करना

  • हमारा शरीर एक मशीन की तरह काम में जुटा हुआ रहता है और जायज़ सी बात है हमे अपने शरीर को नियमित रूप से सुचारु चलाने के लिए उसकी देखभाल करने की भी बहुत आवश्यकता है।
  • इसलिए हमे अपने सभी कामो से समय निकालकर प्रतिदिन अपने शरीर की मालिश ज़रूर करनी चाहिए।
  • कुछ ही हफ्तों में आप खुद देखेंगे की आपको कमर दर्द , पीठ दर्द, हाथ या पाँव में दर्द किसी भी तरह की थकान का अनुभव बहुत कम हो जायेगा।
  • नियमित मालिश से आप शरीर को और अधिक स्फूर्तिवान बना सकते है।

बर्फ का सेंक

  • कमर दर्द में सेंक का प्रभाव बहुत आराम प्रदान करने वाला होता है। कमर दर्द और सूजन को कम करने के लिए बर्फ की सेंक ली जा सकती है।
  • इसे घर में तैयार करने के लिए बर्फ के टुकड़ों को एक प्लास्टिक बैग में भरें और एक तौलिये में लपेट कर इसे सेंक के रूप में लें।
  • अगर आप बाज़ार से भी आइस बैग लेना चाहे तो आपको आसानी से बाज़ार में आइस बैग उपलब्ध हो जायेगा। जब भी आपको कमर दर्द हो तो आप इससे आसानी से सेंक करके अपनी कमर दर्द को कम कर सकते है।

तुलसी

  • तुलसी में दर्दनिवारक गुण पाए जाते हैं जो कमर दर्द में राहत देता है। रोजाना 8 से 10 तुलसी के पत्तों को एक कप पानी में उबाल ले।
  • जब पानी आधा रह जाये तो इसे ठंडा कर लें इसमें एक चुटकी नमक मिलाकर दिन में दो बार पियें।
  • इसे पीने से कमर का दर्द कम होता है। तुलसी में हर दर्द का निवारण होता है इसलिए इसे औषधि के रूप में उपयोग में लिया जाता है।

दूध

  • दूध में अगर थोड़ी मात्रा में हल्दी मिलाकर इसे पीया जाये तो इससे भी आसानी से दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • दूध कैल्शियम का एक प्रमुख स्रोत है और कैल्शियम की कमी की वजह से कमर दर्द हो तो नियमित रूप से दूध का सेवन ज़रूरी होता है।
  • आप दूध में शहद मिला कर भी पी सकते है। शहद दूध को मीठा स्वाद देने के साथ कमर दर्द में भी राहत देता है।

अदरक

  • अदरक कमर दर्द को खत्म करने का एक अचूक घरेलू नुस्खा है। इसलिए जब भी कमर का दर्द सताए अदरक को विभिन्न तरीकों से इस्तेमाल करें।
  • आप अदरक का पेस्ट बनाकर दर्द वाली जगह पर लगायें और ऊपर से नीलगिरी का तेल लगा लें।
  • इसके अलावा आप ताजा अदरक के 4-5 टुकड़े लें और डेढ़ कप पानी में डालकर 10 से 15 मिनट के लिए हलकी आंच में उबालें और इसके बाद इसे छानकर कुछ देर के लिए ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर पी लें।
  • दरअसल अदरक में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते है जो कमर दर्द में राहत पहुंचाने का काम करते है।

सुझाव : जब भी कमर दर्द या पीठ दर्द 4-5 दिनों तक भी घरेलू नुस्खो से ठीक नही हो रहा हो तो एक बार चिकित्सक से परामर्श ज़रुर ले।


You may also like...