Newborn Baby Bath: नवजात बच्चों को नहलाते समय रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप पहली बार माँ बनी है तो आपको भी अपने बच्चे को नहलाते समय थोड़ा डर लगता होगा की कही उसे दर्द तो नहीं हो रहा है या फिर गलती से उसे कही कोई चोट तो नहीं लग जाएगी। ऐसी ही कुछ शंकाएँ अक्सर आपको अपने बच्चे को नहलाते समय आती होंगी।

अक्सर नई नई बनी माँ को यह लगता है की एक तो बच्चा इतना छोटा और ऊपर से इसे नहलाते समय कही हाथ से छूट न जाए और यह ख्याल माँ के अंदर घबराहट ला देता है और वह अपने बच्चे को नहलाने से डर जाती हैं।

आपका ये डर बिलकुल सही है, कई बार नई माँ के साथ ऐसा होता है की वे बच्चे को जब नहलाती हैं तब नहलाते समय बच्चा इतना रोता है की जिससे उसका बैलेंस बिगड़ जाता है और चोट भी लग जाती है ।

आपको हमेशा अपने आप पर भरोसा रखना चाहिए क्योंकि बच्चे के लिए उसकी माँ का स्पर्श बिलकुल भी अनजाना नहीं होता है और वो सिर्फ इसी स्पर्श को पहचानता है। आज हम आपको इस लेख में बता रहे है Newborn Baby Bath के बारे में।

Newborn Baby Bath: ऐसे करे बच्चे की नहलाते समय देखभाल

Newborn Baby Bath

बच्चे तो नहलाते समय अपने मन को शांत रखें

  • बच्चों को नहलाते समय माँ को हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए की वो अपने बच्चे के सामने घबरा कर कुछ ना करें।
  • घबराहट में अक्सर कुछ ना कुछ गलती हो हीं जाती है।
  • अगर आप अपने बच्चे को घबराहट में नहलाएंगी तो बच्चे को चोट लगने की समस्या बढ़ जायेगी।
  • इसीलिए ये कोशिश करें की आप अपने बच्चे को नहलाते समय शांत और सयमित रहें।

बच्चे को नहलाते समय सही पोजीशन में बैठे

  • अपने बच्चे को सही तरीके से नहलाते में आपकी बैठने की स्थिति भी डिपेंड करती है।
  • आपको बच्चे को नहलाते समय एक आरामदायक स्थिति में बैठना चाहिए।
  • अगर आप आरामदायक स्थिति में होंगी तो आप बच्चे को नहलाते समय बच्चे पर पूरा ध्यान दे पाएंगी।
  • वैसे अगर माँ अपने बच्चे को घुटनो के बल बैठ कर नहलाती है तो यह एक बहुत ही अच्छी स्थिति मानी जाती है।

बच्चे का ध्यान भटकाए

  • सभी बच्चे एक जैसे नहीं होते है वैसे ही हर बच्चा नहाते समय एक जैसा रियेक्ट नहीं करता है।
  • कुछ बच्चे नहाते समय रोते हैं तो कुछ बच्चे पानी से खेलना स्टार्ट कर देते हैं, जब की कुछ बच्चे पानी से घबराने लग जाते है।
  • अगर आप बच्चे को नहला रही हैं तो आपको उसका ध्यान दूसरी चीजों में भटकाना चाहिए जिससे वो आपकी तरफ अट्रैक्ट हो।
  • अगर आप अपने बच्चे से बात करते हुए उसे नहलाएंगे तो आप उसे अच्छे से नहला पाएंगे।
  • बच्चे को नहलाते समय आप उसका ध्यान भटकाने के लिए उससे कोई खिलौना भी दे सकते है।
  • जिससे की वह पानी में खेलेगा और आप अपने बच्चे को अच्छे से नहला पाएंगे।

बच्चे को नहलाते समय पकड़े

  • जब आप न्यू बोर्न बेबी की बात करते है तो उसकी हड्डियाँ और मांसपेशियाँ कमजोर होती है।
  • जिससे की बच्चे अपना बैलेंस नहीं बना पाते हैं।
  • इसलिए सभी माँ को यह ध्यान रखना चाहिए की बच्चे को नहलाते समय उसको सहारा दे।
  • बच्चे को हमेशा अपने एक हाथ से पकड़ के ही नहलाये।
  • बच्चे तो थोड़ा टाइट पकड़ कर रखें, इससे बच्चे के गिरने का डर खत्म हो जाएगा।
  • बच्चे की गर्दन और पीठ को अच्छे से पकड़ के नहलाये क्योंकि बच्चे की हड्डियाँ कमजोर होती है।
  • इसलिए कोशिश करे की बच्चे को नहलाते समय आप उसे पूरा सपोर्ट दे जिससे की वह गिरे या फिसले नहीं।

बच्चे को नहलाने की तैयारी पहले ही कर लें

  • बच्चे को नहलाने के पहले ही उसको नहलाने की तैयारी अच्छे से कर के रख ले।
  • बच्चे को नहलाने का सामान पहले ही अपने पास लेकर रख ले।
  • माँ को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की कभी भी अपने बच्चे को नहलाने के बाद उसे उस अवस्था में छोड़ कर उसके कपड़े लेने नहीं जाना चाहिए।
  • पहले से ही कपड़े और दूसरा सभी समान पास ला कर रख लेना चाहिए।
  • अगर आप बच्चे को नाहने के बाद ऐसी अवस्था में छोड़ देते है तो बच्चे को सर्दी लगने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

रोज़ रोज़ न नहलाएं

  • बच्चों को जल्दी ही सर्दी लग जाती है इसलिए बच्चों को हफ्ते में 2 से 3 बार ही नहलाये।
  • बाकि दिनों में बच्चों को एक कपड़े को गर्म पानी में भिगो कर साफ़ कर दे।
  • कपड़ा भी अच्छा और मुलायम ले और अच्छी तरह से बच्चे को पोछ दे।
  • वैसे बच्चे को आप सर्दियों के मौसम में हफ्ते में एक बार भी नहलाएंगे तो चलेगा।
  • लेकिन गर्मी के दिनों में बच्चे को 3 बार नहला सकते है।

बच्चे को नहलाते समय गर्म पानी का इस्तेमाल करे

  • बच्चे को नहलाते समय आपको हमेशा ही गर्म पानी का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • इससे बच्चे की कीटाणुओं से रक्षा होगी और साथ ही बच्चे को गर्भाशय वाली ही फीलिंग होगी।
  • यह बच्चे को कभी सुरक्षित लगता है क्योंकि वह थोड़े समय पहले तक गर्भाशय में ही था।

सोप का इस्तेमाल न करे

  • अपने बच्चे को नहलाने के लिए हमेशा ही माइल्ड बेबी सोप का इस्तेमाल करे।
  • न्यू बोर्न बेबी की स्किन काफी ज्यादा सेंसटिव होती है, तो इसपर कभी भी साबुन का इस्तेमाल ना करे।
  • अगर आपके पास माइल्ड सोप नहीं है तो आप एंटीसेप्टिक सोलुशन का भी इस्तेमाल कर सकते है।
  • इसे भी बच्चे को नहलाएंगे तो किसी भी प्रकार का कोई नुकसान नहीं पहुँचेगा ।

इस लेख में हमने आपको बताया की आप कैसे अपने बच्चे को नहला सकते है और साथ ही आपको किन चीज़ो का ध्यान रखते हुए अपने बच्चे को नहलाना चाहिए। तो अगर आप भी नई माँ है तो अपने बच्चे को नहलाने के पहले ऊपर दी सभी बातों का ध्यान रखते हुए बच्चे को नहलाये।


You may also like...