Testis Pain Treatment in Hindi: अंडकोष में दर्द की समस्या से कैसे पाएं निजात

पुरुषों को भी कई तरह की शारीरिक समस्याओं से दो चार होना पड़ता है।  इन्ही समस्याओं में से एक मुख्य समस्या है अंडकोष से सम्बंधित समस्या।

अंडकोष को वृषण, स्क्रोटम, टेस्टिस आदि नामों से भी जाना जाता है। अंडकोष पुरुषों के निचले भाग में अवस्थित होता है। जिसका आकार थैलीनुमा होता है। अंडकोष का प्रमुख कार्य पुरूष के शुक्राणु का निर्माण करना होता है।

पुरुषों में अकसर अंडकोष में सूजन या दर्द की समस्या देखने को मिलती है। इस प्रकार की समस्या पुरुषों को किसी भी उम्र में पीड़ित कर सकती है। जो की कभी कभी कम समय के लिए हो सकता है और कभी कभी अधिक समय के लिए भी हो सकता है।

अंडकोष में सूजन और दर्द की समस्या को अनदेखा नहीं करना चाहिए नहीं तो यह समस्या गंभीर रूप भी ले सकती है। इसके उपचार के लिए कुछ उपाय किये जा सकते है जानते है Testis Pain Treatment in Hindi.

Testis Pain Treatment in Hindi: जानिए इसके लक्षण, कारण और उपचार

Testis Pain Treatment in Hindi

अंडकोष में दर्द होने के कारण

अंडकोष वाला भाग बहुत ही कोमल और संवेदनशील होता है। जिस कारण यदि इस पर थोड़ा सा भी दवाब या हलकी सी चोट भी समस्या उत्पन्न कर देती है। अंडकोष में दर्द होने के कई कारण हो सकते है जैसे –

सामान्य कारण

  • अंडकोष में यदि किसी कारणवश चोट लग जाती है तो भी इसमें दर्द और सूजन आ जाती है।
  • साथ ही यदि इसमें हल्का सा भी दबाव होता है तो भी इसमें दर्द उत्पन्न हो जाता है। साथ ही इससे सूजन भी आ सकती है।

मेडिकल कारण

मरोड़ या ऐंठन

  • मरोड़ या ऐंठन के होने पर स्पर्मेटिक कोर्ड मुड जाती है। स्पर्मेटिक कोर्ड के मुड जाने से अंडकोष में सही तरीके से रक्त का प्रवाह नहीं हो पाता है और अंडकोष में दर्द होने लगता है।
  • इस प्रकार की स्थिति में व्यक्ति को तेज दर्द होता है। इस दर्द को अनदेखा करने पर अंडकोष ख़राब भी हो सकता है इसलिए इसका समय पर उपचार करना आवश्यक होता है।

ग्रोइन हर्निया

  • हर्निया की समस्या से तो सब परिचित हैं, इस हर्निया को इनगुइनल हर्निया के नाम से भी जाना जाता है। यह समस्या अधिकतर भारी बोझ उठाने के कारण उत्पन्न होती है।
  • ग्रोइन हर्निया में छोटी आंत के कुछ हिस्से में दर्द होता है या फिर सूजन की समस्या हो जाती है।
  • कुछ लोगो को ग्रोइन हर्निया व्यायाम करते समय भारी बोझ उठाने से भी हो जाता है।

ओरकाइटिस की समस्या

  • इस समस्या के होने पर भी अंडकोष में दर्द और सूजन पैदा हो जाती है।  
  • ओरकाइटिस की समस्या होने पर  अंडकोष में वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण हो जाता है।
  • इस प्रकार की समस्या उन लोगो में ज्यादा होती है जिनकी उम्र 45 साल या फिर उससे अधिक होती है।

Epididymitis

  • इस प्रकार की समस्या में व्यक्ति को बहुत ज्यादा दर्द होता है।
  • यह समस्या एपीडीडीमिस् में inflammation होने से होता है।
  • यह समस्या अधिकांश 18 से 36 वर्ष उम्र के लोगो में होती है।

अन्य कारण

  • लीवर में पथरी होने पर
  • अंडकोष में कैंसर  होने पर
  • मूत्र पथ में संक्रमण होने पर
  • पुरुष नसबंदी से
  • अंडकोष में पानी भरने से
  • गांठ होने से
  • मम्प्स होने से

लक्षण

  • किसी प्रकार की गांठ या फिर सूजन का होना
  • अंडकोष में कठोरता का पाया जाना
  • असहनीय दर्द होना
  • अंडकोष के आकार में किसी प्रकार का परिवर्तन होना
  • भारीपन महसूस होना

अन्य लक्षण भी देखने को मिल सकते है

  • बुखार
  • पेशाब के समय जलन या सूजन का होना
  • मूत्र में खून आना
  • वीर्य में रक्त आना
  • मितली की समस्या  

उपचार

अंडकोष में दर्द और सूजन की समस्या कोई छोटी समस्या नहीं होती है। इसका सही उपचार करना आवश्यक होता है।

डॉक्टर से संपर्क करें

  • अंडकोष में दर्द और सूजन की समस्या होने पर सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करके इसका उपचार शुरू कर देना चाहिए। क्योंकि डॉक्टर हीं इसके सही कारण का पता लगा कर सही उपचार कर सकते है।
  • इसलिए जब भी कभी इस प्रकार की समस्या आये तो पहले डॉक्टर को ज़रूर दिखाए।
  • खुद ही डॉक्टर बनने की कोशिश न करे।

सपोर्टर का उपयोग

  • अंडकोष में दर्द होने पर सपोर्टर का उपयोग करना अच्छा होता है।
  • सपोर्टर का उपयोग अधिकांश एथलीट लोग करते है क्योंकि यह सुरक्षा प्रदान करता है।
  • सपोर्टर को पहनने से अंडकोष आरामदायक स्थिति में रहता है। यह अंडकोष को बढ़ने भी नहीं देता है और इससे दर्द की समस्या भी नहीं होती है।
  • सपोर्टर पहनने से अंडकोष पर चोट लगने का खतरा भी कम रहता है।
  • खेलों के समय चोट से बचने के लिए भी प्रोटेक्टिव कप और सपोर्टर का उपयोग किया जाता है।

अंडकोष में दर्द होने पर विश्राम करें

  • जिन लोगो को अंडकोष में दर्द या सूजन की परेशानी होती है उन्हें बेड रेस्ट की सलाह दी जाती है क्योंकि चलने फिरने से अंडकोष पर दबाव पड़ता है जिसके कारण दर्द बढ़ सकता है।

आरामदायक कपडे चुने

  • कसे हुए और टाइट कपडे पहनने से भी अंडकोष पर दबाव पड़ता है जिससे दर्द बढ़ सकता है।
  • इसलिए ढीले और आरामदायक कपड़े ही पहने।

सिकाई करे

  • अंडकोष में दर्द होने पर बर्फ से सिकाई करना भी बहुत राहतकारी होता है।
  • इसके लिए कुछ बर्फ के टुकड़े को लेकर उसे एक साफ रुमाल या फिर कपड़े में बांध ले। फिर उस कपड़े को दर्द वाले स्थान पर कुछ घंटो में बार बार लगाने पर दर्द से आराम मिलता है।

अन्य लाभकारी बचाव

  • इस बात का भी ध्यान रखे की कभी ज्यादा भारी सामान न उठाये। आप इसके लिए किसी और की भी मदद ले सकते है।  
  • संतुलित आहार लेना भी आवश्यक होता है। खासकर कम कोलेस्ट्रॉल वाले खाने का सेवन करे। सेंधा नमक, अदरक और टमाटर का सेवन ज्यादा करे यह भी फ़ायदेमंद होता है।
  • इस प्रकार की समस्या होने पर सही समय पर उपचार करवाए।
  • आप हल्दी के लेप का भी उपचार कर सकते है यह भी बहुत लाभकारी होता है।
  • STD से बचाव करने के लिए संभोग से पहले आवश्यक  सावधानियाँ ज़रूर बरतें।
  • नहाते समय हलके गर्म पानी से स्नान करने से भी दर्द और सूजन में राहत मिलती है।

नोट – अंडकोष में सूजन या दर्द होने पर किसी भी प्रकार का ऐसा कार्य न करे जिससे दर्द में वृद्धि हो। दर्द की समस्या का पता चलते ही सबसे पहले अपने डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे। क्योंकि ऐसा नहीं करने पर आपको गंभीर समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है। उपरोक्त जानकारी और लक्षणों का ख्याल रखे।


You may also like...