Brain Development in Children: बच्चो के मानसिक विकास के लिए सहायक उपाय

प्रत्येक माता पिता को अपने बच्चों के विकास की चिंता होती है। आजकल प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ गयी है। इसलिए इस दौर में बच्चों का दिमाग शार्प होना बहुत ही ज़रुरी हो गया है ताकि वह जीवन में आने वाली हर तरह की चुनौतियों का सामना अच्छे से कर सकें और दूसरे बच्चों से पीछे ना पड़ जाए।

हर माता पिता यह चाहते है की उनका बच्चा पढ़ाई लिखाई में हमेशा आगे बढ़ता रहे और उनका नाम देश दुनिया में हर तरफ रौशन करता रहे । लेकिन बच्चों को अपने लाइफ में आगे बढ़ने के लिए उनके मानसिक विकास का भी अच्छे से होना बहुत ज़रुरी होता है। इसके बिना वो बढ़ती उम्र में अपने हमउम्र बच्चों से पीछे रह जाएंगे।

आज कल के बहुतायत एलोक्ट्रॉनिक्स उपकरणों और असंतुलित आहार के सेवन कारण बच्चों का विकास सही से नहीं हो पा रहा है। इसलिए ये ज़रुरी हो जाता है की बच्चों के माता पिता उन पर विशेष ध्यान दें और उनकी अच्छे से देखभाल करें ।

बच्चों के मानसिक विकास के लिए माँ बाप को एक सकारात्मक तरीके से अपने बच्चों की देखभाल करनी चाहिए। यदि आप नहीं जानते है की बच्चों के दिमाग के विकास के लिए क्या करना है तो कोई बात नहीं आज के लेख में हम आपको Brain Development in Children बता रहे है।

Brain Development in Children: बच्चों का दिमागी विकास ऐसे करें

Brain Development in Children

पौष्टिक आहार

  • यदि आप चाहते है की आपके बच्चे के Brain Development Stages सही ढंग से आगे बढ़ें तो उसके लिए आपको उनके लिए पौष्टिक और फ़ायदेमंद भोजन का चुनाव करना ज़रुरी है ।
  • कोशिश करें की आप अपने बच्चे को भोजन में नियमित तौर पर संतुलित आहार जरूर दें। इन आहारों में हरी सब्जियां, फल, दूध, मेवे, अंडे आदि मुख्य रूप से शामिल होने चाहिए ।
  • प्रतिदिन आप अपने बच्चे को भीगे हुए बादाम की दो तीन कलियाँ खाने को ज़रूर दे, इससे उनकी याददाश्त में वृद्धि होती है और उसका दिमाग तेज होता है ।
  • हो सके तो बच्चों को जंक फूड का सेवन कम से कम करने दे, इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है बच्चों के विकास पर ।
  • बच्चे के दिन की शुरुआत प्रोटीन से भरे हुए उचित और स्वस्थ नाश्ते से की जानी चाहिए। इनमे विशेष तौर पर अंडे, दूध, दही या अनाज का सेवन फायदेमंद होता है ।

पर्याप्त नींद

  • एक स्वस्थ शरीर के लिए पोषक तत्वों के अतिरिक्त पर्याप्त नींद भी बहुत ज्यादा आवश्यकता पड़ती है ।
  • अमेरिका में हुए एक अध्ययन के अनुसार दोपहर में खाना खाने के बाद अगर लगभग एक घंटे की नींद भी बच्चों को नियमित रूप से मिले तो इस से बच्चों की याददाश्त बढ़ने में मदद मिलती है।
  • नींद से बच्चों के Brain Development को एक तेजी मिल जाती है।
  • एक बच्चे को रात में 10 से 12 घंटों की नींद की आवश्यकता होती है। पर्याप्त नींद ना मिल पाने से बच्चों को मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएँ होने लग जाती हैं।
  • माता-पिता को इस बात का हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि उनके बच्चों को रात में अच्छी नींद मिल रही है या नहीं।
  • अगर बच्चे को पर्याप्त नींद नहीं मिल रही है तो आप अपने बच्चों के लिए इसकी व्यवस्था ज़रूर करें।

दिमागी खेल

  • Baby Brain Development के लिए यह आवश्यक होता है कि उनके साथ कभी कभी छोटे-छोटे दिमागी खेल खेले जाएं।
  • इन खेलों से बच्चों के दिमाग तीक्ष्ण होते हैं और उनकी आई क्यू बेहतर होती है।
  • खेल खेलने से पहले अपने बच्चे को इस खेल के बारे में विस्तार से बता दें ताकि आपका बच्चा खेल का तरीका अच्छे से जान जाए।
  • जब आप अपने बच्चों के साथ ये खेल खेलें तो आप भी बच्चों की तरह हीं व्यवहार करें और जब बच्चे कोई गलती करें तो उन्हें इस बारे में शांति से बताएं।
  • आप खुद भी खेल के दौरान कुछ ग़लतियाँ कर के उन ग़लतियों के बारे में अपने बच्चे को बता सकते हैं।
  • उन्हें गाइड करने पर वे दोबारा उस गलती को करने से बचेंगे, इससे उनके मस्तिष्क की तीक्ष्णता में भी धीरे धीरे सुधार आता चला जाएगा ।

किताबों को रीड करने की क्षमता

  • हम जानते है की किताबें पढ़ने से ज्ञान बढ़ता है।
  • अधिकतर बच्चे किताबें पढ़ने का शौक भी रखते है।
  • आप भी अपने बच्चों को क़िताबें पढ़ने के लिए प्रेरित करे।
  • किताबे पढ़ने से बच्चों में बोलने की शैली बेहतर होगी और वे अच्छे से किसी भी मंच पर बोलते समय संकोच नहीं करेंगे।
  • इससे आत्मविश्वास में भी बढ़ोतरी होती है जिसका लाभ बच्चों के बड़े होने के बाद तक दिखता है। ऐसे बच्चे किसी भी परिवेश में अच्छे से जीवन यापन कर लेते हैं और उन्हें किसी से बात करने में कोई भय का बोध नहीं होता है।

प्रेम भाव

  • शोधकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार जो महिलाएं अपने नवजात को ज्यादा प्यार करती हैं, उनके बच्चों के दिमाग के हिप्पोकेंपस क्षेत्र में ज्यादा नर्व कोशिकाएं बनती हैं जिससे बच्चे का दिमाग तेज होता है।
  • मां से लगाव होने पर बच्चों के दिमागी विकास पर ज्यादा असर होता है। और वो ज्यादा विकसित होते हैं।
  • वैसे भी ऐसा माना जाता है की जब आपको कोई सपोर्ट करने वाला हो तो आपमें ज्यादा आत्मविश्वास होता है किसी भी कार्य को करने के लिए पर जब आप अकेले हों तब ऐसा नहीं होता है।
  • इसलिए अपने बच्चे को प्रेम करें और उसके निर्णयों का समर्थन करें जिससे उसके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी हो पाए।

ऊपर दिए इस लेख में आपने जाना की कैसे माता पिता अपने बच्चों के दिमागी विकास को एक सकारात्मक गति प्रदान कर सकते हैं, कैसे वो अपने बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ा सकते हैं। अगर आप भी अपने बच्चों के दिमागी विकास को गति देना चाहते हैं तो लेख में दिए बातों का ध्यान रखें और अपने बच्चों का पूरा ख्याल रखें।

Spread the love

You may also like...