First Period After Pregnancy: जाने डिलीवरी के बाद मासिक धर्म से जुड़ी जानकारियां

माँ बनना एक बहुत अच्छा एक्सपेरिएंस होता है। प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओ की बॉडी में कई प्रकार के चेंजेज आते है। इसके बाद डिलीवर हो जाने के बाद वापस से महिलाओ की बॉडी फिर से पहले जैसी होने की प्रक्रिया शुरू कर देती है।

वैसे डिलीवरी के बाद बच्चे के साथ साथ माँ का भी पूरा ध्यान रखना ज़रुरी होता है। डिलीवरी के बाद वापस बॉडी जब पहले जैसी होती है तो धीरे धीरे मासिक धर्म की क्रिया भी आरम्भ होना शुरू हो जाती है।

कई महिलाओ की मासिक धर्म की क्रिया चौथे हफ्ते से शुरू हो जाती है और कुछ महिलाओं में यह क्रिया 6 से 7 महीने बाद शुरू होती है। यह क्रिया आपकी बॉडी के रिकवरिंग प्रोसेस पर भी डिपेंड करता है।

इस लेख में हम बता रहे है की पहली बार माँ बनने के बाद मासिक धर्म की शुरुआत कब होती है और साथ ही इस संबंधित पूरी जानकारी। इस लेख में पढ़े First Period After Pregnancy.

First Period After Pregnancy: माँ बनने के बाद मासिक धर्म की शुरुआत कब होती है

First Period After Pregnancy

डिलीवरी के बाद पीरियड्स

  • जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती हो तो बॉडी में कई प्रकार के हार्मोनल चैंजेज होते है और डिलीवरी के बाद धीरे धीरे वे वापस बदलते है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान 9 महीनों तक पीरियड्स नहीं होते है तो डिलीवरी के बाद जब पीरियड्स होते है तो हो सकता है की कुछ लम्बे समय के हो।
  • पीरियड्स की प्रक्रिया को शुरू होने में कितना समय लगेगा यह आपकी ब्रेस्टफीडिंग की क्रिया पर डिपेंड करता है।
  • जब महिलाये डिलीवरी के बाद पहली बार पीरियड्स में होती है तो फ़्लो बहुत ज्यादा होता है जिससे उन्हें कमज़ोरी भी आ सकती है।
  • इसके लिए आपको चिंता नहीं करनी चाहिए यह एक सामान्य क्रिया होती है।
  • बच्चा जितना ज्यादा स्तनपान करता है पीरियड्स आने में उतना ही लेट होता है।
  • डिलीवरी के बाद पीरियड्स 2 से 3 दिनों में भी ख़तम हो सकते है।

फर्स्ट पीरियड्स प्रेगनेंसी के बाद

  • डिलीवरी के बाद योनि को वापस से अपने पहले के आकर में आने में समय लगता है।
  • डिलीवरी के बाद भी महिलाओ की बॉडी में कई प्रकार के परिवर्तन होते है।
  • साथ ही मांसपेशियाँ बहुत कमज़ोर हो जाती है और फिर से पहले जैसा होने में समय लगता है।
  • इसके आलावा होर्मोनेस भी चेंज होते है।
  • कई डॉक्टर्स ने यह बताया है की जो माए अपने बच्चो को ब्रैस्ट फीडिंग करवाती है और जो नहीं करवाती है उनके पीरियड्स में काफी डिफरेंस होता है।
  • जो महिलाये अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग नहीं करवाती है उनके पीरियड्स 4 से 6 हफ्तों में ही आ जाते है।
  • जब की जो महिलाएं अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करवाती है उनके Pregnancy Period लेट आना स्टार्ट होते है और उन्हें कम से कम 6 से 7 महीने लग जाते है।
  • अगर आपकी डिलीवरी नार्मल होती है तो डिलेवरी के तुरंत बाद ही पीरियड्स आ जाते है।
  • प्रेगनेंसी के तुरंत बाद वाले पीरियड्स और 4 से 5 हफ्ते बाद वाले पीरियड्स में आपको पेड का इस्तेमाल करना चाहिए और टैम्पोन का यूज नहीं करना चाहिए।
  • क्योंकि आपकी बॉडी पूरी तरह से अभी तक भी ठीक नहीं होती है और ऐसे में टैम्पोन का इस्तेमाल शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

डिलीवरी के बाद पीरियड्स ना आने पर प्रेग्नेंट होने की आशंका

  • बहुत कम महिलाओ में ऐसा होता है की वे ब्रेस्टफीडिंग करवाती है साथ ही पीरियड्स में होती है।
  • ऐसे में उन महिलाओं में फिर से गर्भवती होने के चांसेस बढ़ जाते है।
  • इसके अलावा अगर डिलीवरी के बाद कोई महिला संबंध बनाती है तो वे फिर से प्रेग्नेंट हो सकती है।
  • इसके लिए महिलाओं को सम्बन्ध बनाते समय गर्भनिरोध का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • कई बार पीरियड्स का ना आना इस बात की आशंका हो सकती है की आप प्रेग्नेंट हो।
  • महिला अपने डॉक्टर्स के पूछ कर बर्थ कण्ट्रोल पिल्स का भी इस्तेमाल कर सकती है।

पीरियड्स के बाद ब्रेस्टफीडिंग में बदलाव आना

  • कई महिलाएं ये ज़रूर अनुभव करती है की पीरियड्स के बाद ब्रेस्टफीडिंग करवाने में कुछ बदलाव आते है।
  • इस दौरान जो हार्मोनल चैंजेज होते है वो आपके ब्रेस्टफीडिंग की प्रोसेस को एफेक्ट करते है।
  • इस से आपके स्तन का दूध प्रभावित होता है, इसमें दूध की क्वांटिटी और स्वाद दोनों बदल जाते है।
  • शरीर में दूध बनाने वाला प्रोलैक्टिन हॉर्मोन ओवुलेशन को कम कर देता है।
  • जब बच्चों की ब्रेस्टफीडिंग बंद कर देते है तो सामान्य रूप से पीरियड्स आने लग जाते है।
  • ब्रेस्टफीडिंग करवाते समय सभी माँओं में पौष्टिक तत्वों की कमी हो जाती है जिसको पूरी करने के लिए माँओं को हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।

इन बातों का भी ध्यान रखे

  • डिलीवरी के बाद पीरियड्स में दर्द और ब्लड दोनों अधिक मात्रा में होता है अगर 7 दिनों में बंद ना हो तो आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।
  • अगर आप बच्चे को स्तनपान दिन रात करवाती है तो पीरियड्स आने में 1 साल भी लग सकता है।
  • अगर बच्चा शुरुआत से रात को सोता हो तो इससे आपके पीरियड्स जल्दी आ सकते है।
  • बच्चों को डिब्बाबंद दूध पिलाने से भी मासिक धर्म जल्दी स्टार्ट हो जाता है।
  • शोध के अनुसार यह साबित हुआ है की डिलीवरी के बाद पीरियड्स ना आने का सबसे बड़ा कारण होता है वजन बढ़ना और कम होना।
  • अगर डिलीवरी के 1 साल बाद तक पीरियड्स नहीं आता है तो आपको डॉक्टर्स से चेकअप करवाने की जरूरत होती है।

इस ऊपर दिए लेख में हम ने आपको बताया की डिलीवरी के बाद पहली बार पीरियड्स कब आते है और Signs of First Period क्या होते है। आपको अपने पीरियड्स के दौरान किन बातों को ध्यान रखना चाहिए। जिससे की आप अपने स्वस्थ का पूरा ध्यान रख सकेंगे।

Spread the love