Paleo Diet for Weight Loss: वजन घटाने के लक्ष्य को 100% सफल करेगा पालेओ डाइट

बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो अपना वजन तो घटाना चाहते है, लेकिन जानकारी के अभाव में वे अपने इस लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल नहीं हो पाते हैं। आज के टाइम पर इतनी जानकारी सब रखते है की वजन घटाने के लिए व्यायाम के साथ साथ डाइट का भी ख्याल रखना ज़रुरी है।

लेकिन इंटरनेट पर आज के टाइम पर इतने सारे डाइट प्लान्स मौजूद है की कोई भी व्यक्ति इसे देख कर कंफ्यूज हो जाये। अलग अलग बहुत सारे प्लान आपको इंटरनेट पर मिल जाएंगे और हर पालन एकदूसरे से अलग और जटिल नजर आएंगे। इसीलिए आप कोई एक प्लान तय करने में संकोच करते रह जाएंगे।

यदि आप अपना वेट लॉस करने को लेकर सीरियस है तो परेशान मत हों क्योंकि आज के लेख में हम आपको बहुत ही इफेक्टिव पालेओ डाइट के बारे में बताने जा रहे है। Paleo Diet को स्टोन ऐज डाइट भी कहा जाता है।

यह बहुत ही पॉपुलर है और इससे मिलने वाले परिणाम अब तक 100% ही रहे है। यह डाइट आपका वजन ही नहीं घटाती बल्कि आपकी लाइफस्टाइल को भी सुधार देती है। इससे मोटापा कम होने के साथ साथ मधुमेह और दिल की समस्या भी ठीक होती है। आइये आज Paleo Diet for Weight Loss के बारे में जानते है।

Paleo Diet for Weight Loss: इस विशेष डाइट प्लान को फॉलो कर घटाए अपना वजन

Paleo Diet for Weight Loss

पालेओ डाइट क्या है?

  • पालेओ डाइट का कांसेप्ट बहुत सिंपल है। यदि आप इसे अच्छे से समझ जाये तो आसानी से अपना वेट लॉस कर सकते है।
  • यह डाइट आपको उस ज़माने में ले जाती है जब ना ही कोई GM फ़ूड थे और ना ही कोई जंक फ़ूड।
  • इस डाइट में आपको नेचुरल और हेल्दी चीज़े खानी होती है।
  • पालेओ डाइट में ऐसी चीजों को शामिल किया जाता है जो ऑर्गैनिक होती है।
  • आप इसमें साबुत फल को शामिल कर वजन कम कर सकते है साथ ही अनप्रोसेस खाद्य पदार्थ भी पालेओ डाइट का हिस्सा होती है।

Paleo Diet Stages for Weight Loss

इस पालेओ डाइट को तीन भागों में डिवाइड किया गया है। जैसे सुबह का नाश्ता, दोपहर का खाना, रात का भोजन। यह इसलिए क्योंकि यदि आप एकदम से अपनी डाइट में बदलाव लाते है तो इससे आपके अंदर मीठे और जंक फूफ की क्रेविंग ज्यादा बढ़ने लगती है।

पालेओ डाइट फेज 1

  • समय: 2 से 8 हफ्ते
  • सुबह (7 से 7:45 ) – 2 कप पानी
  • नाश्ता (8 से 8:15 ) – एवोकैडो, एक वेजिटेबल सैंडविच, 1 कप ताजा संतरे का रस
  • मध्य-सुबह (10:30) – 4 बादाम + 1 कप हरी चाय
  • दोपहर के भोजन (12:30) – ब्रोकोली और मशरूम का सलाद
  • शाम का नाश्ता (4:30) – 1 छोटी कटोरी कच्चे गाजर
  • डिनर (6:45 – 7:00) – 1 कप चिकन या मशरूम सूप

डाइट के पहले फेज में अपने आप को हुत ज्यादा रेस्ट्रिक ना करे। आप थोड़ा बहुत प्रोसेस्ड फ़ूड ले सकते है।

  • इस फेज में आपका वाटर वेट कम होता है।
  • चर्बी के जलना शुरु हो जाता है।
  • आप एक्टिव महसूस करने लगते है।

पालेओ डाइट फेज 2

  • समय: 4 हफ्ते
  • सुबह (7 से 7:45 ) – 2 कप पानी
  • नाश्ता (8 से 8:15 ) – एक फ्रूट पेन केक, 1 कप सेब का रस, 2 बादाम या एक रस्पबेरी चिया पालक स्मूथी, 1 उबला हुआ अंडा
  • मध्य-सुबह (10:30) – 1 कप हरी चाय
  • दोपहर के भोजन (12:30) – एक तुर्की लेटिट ओप, 1 कप ताजा नारियल पानी
  • शाम का नाश्ता (4:30) – 1 छोटी कटोरी ककड़ी
  • डिनर (6:45 – 7:00) – भुना हुआ चिकन या शकरकंदी का सूप

आप क्या हासिल करेंगे

  • इसमें आपका शरीर डेटॉक्स करेगा
  • एलडीएल कोलेस्ट्रॉल कम होगा
  • रक्त शर्करा कम होगी और इन्सुलिन संवेदनशीलता में वृद्धि होगी
  • पूरी तरह से कार्ब की लत से छुटकारा मिलेगा

पालेओ डाइट फेज 3

  • समय: जितना आप चाहो
  • सुबह (7 से 7:45 ) – 2 कप पानी
  • नाश्ता (8 से 8:15 ) – एवोकैडो, फल, उबला हुआ अंडा
  • मध्य-सुबह (10:30) – 1 मध्यम कप तरबूज
  • दोपहर के भोजन (12:30) – गाजर, शकरकंदी, फ्राई की हुई सालमन मछली
  • शाम का नाश्ता (4:30) – 1 कप हरी चाय, 15 पिस्ता
  • डिनर (6:45 – 7:00) – मशरूम के साथ ब्रोकोली सूप

आप क्या हासिल करेंगे

  • आपकी अधिकांश स्वास्थ्य समस्याएँ ठीक हो जायेगी
  • आप अपने लक्ष्य जितना वजन घटाने में सक्षम होंगे

पालेओ डाइट के अन्य फायदे

मधुमेह से दूरी

  • आये दिन मधुमेह रोगियों की संख्या में वृद्धि हो रही है। इसका मुख्य कारण होता है अनुचित आहार।
  • जब भी आप के द्वारा कोई आहार ग्रहण किया जाता है तो उसमे उपस्थित शर्करा आपके शरीर में स्थित शर्करा की मात्रा को बढ़ता है जिससे मधुमेह की संभावनाएं बढ़ जाती है।
  • जब आप पालेओ डाइट फॉलो करते है तो आप मधुमेह के खतरे से भी दूर रहते है।

अस्थमा के लिए लाभकारी

  • इस डाइट को फॉलो करने से अस्थमा रोग से भी दूर रहा जा सकता है।
  • साथ ही यह एलर्जी होने से भी यह बचाती है। जिन लोगो को एलर्जी होती है यह डाइट उनके लिए भी लाभकारी रहती है।

हृदय के लिए लाभकारी

  • यह डाइट हृदय को स्वस्थ्य रखने के लिए भी बहुत अच्छी होती है।
  • यह डाइट कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम के लिए लाभकारी होती है और कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित रखता है।
  • इससे दिल भी स्वस्थ्य रहता है और रक्त का संचार भी अच्छे से होता है।

पालेओ डाइट में क्या शामिल न करे

  • बीन्स में फिटिक एसिड होता है इसलिए इसे शामिल नहीं किया जाता है। इसलिए सेम और दालें, मसूर, मटर, सोया बीन्स, मूंगफली, मूंग आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • अनाज भी इस डाइट के लिए प्रतिबंधित होते है। जैसे चावल, गेहूं, बाजरा, जई, मकई आदि को नहीं खाया जाता है। साथ ही अनाज से बनी रोटी, ब्राउन रोटी, पास्ता भी नहीं खाये जा सकते है।
  • प्रोसेस्ड आइटम्स को भी नहीं खाना चाहिए। प्रोसेस्ड की गयी सभी चीजे इस डाइट के लिए प्रतिबंधित रहती है। जैसे पिज्जा, बर्गर, हॉट डॉग, केक, मफिन, वेफर्स, चिप्स, फ्राइज़, पास्ता, बिस्कुट, कुकीज़, सॉस, रस, कैंडीज आदि से दूरी बनानी चाहिए।

नोट – आप जब भी यह डाइट फॉलो करे तो इस बात की पूर्ण जानकारी रखे की आपको कौन कौन से चीजें खानी है और कौन सी नहीं क्योंकि तभी आप अपने वजन को कम करने में सफल हो सकते है।

इस तरह आप इस डाइट को फॉलो करके अपना वजन आसानी से कम कर सकते है लेकिन इस बात का ध्यान रखे की इसे नियमित रूप से फॉलो करे और परिणाम पाए।


You may also like...