Yoga for Healthy Liver: लिवर को स्‍वस्‍थ रखने के लिए नियमित करें योग

लिवर हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। ये हमारे द्वारा ग्रहण किये गए खाने को पचाकर रस बनाता है साथ ही यह आंतों के कीटाणुओं को भी मारता है।

इसके अलावा लिवर के और भी कई कार्य है जैसे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाना, रक्त से विषाक्त पदार्थो को बाहर करके रक्त साफ़ करना आदि।

लिवर यदि इनसे सारे महत्वपूर्ण कार्य करता है तो इससे आप समझ सकते है की आपके शरीर के स्वस्थ रहने के लिए लिवर का स्वस्थ रहना जरुरी है। किन्तु कुछ बुरी आदतों के चलते आपका लिवर खराब हो जाता है।

यह बुरी आदते है ज्यादा शराब पीना, धूम्रपान करना आदि। किन्तु कई बार यह बुरी आदते ना होने के बावजूद भी आपको लिवर की समस्या हो सकती है। इसलिए लिवर को मजबूत बनाने के लिए जानिए Yoga for Healthy Liver.

Yoga for Healthy Liver: इन आसनों से नहीं होगी लिवर की बीमारियां

Yoga for Healthy Liver in Hindi

लिवर सिरोसिस के लिए गोमुख आसन

  • लिवर सिरोसिस एक गंभीर बीमारी होती है। इस बीमारी में बड़े पैमाने पर लिवर की कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं और उनकी जगह फाइबर तंतु ले लेते हैं।
  • इसके अतिरिक्त लिवर सिरोसिस से ग्रस्त व्यक्ति का लिवर अपने आप सिकुड़ता रहता है और कठोर हो जाता है।
  • गोमुख आसन का अभ्यास इस बीमारी में बेहतर माना जाता है। यह लिवर से विषाक्त पदार्थो को बाहर भी निकालता है।

गोमुख आसन कैसे करे?

  1. इसका अभ्यास करने के लिए सर्वप्रथम आसन पर पालथी मारकर बैठ जाये।
  2. इसके बाद दाए पैर को बाई जांघ के ऊपर से क्रॉस करते हुए इस प्रकार बैठे की घुटने एक दूसरे के ऊपर निचे आये।
  3. अपने दोनों हाथो को पीछे की और मोड़ कर, उंगलियों को क्रॉस करने के कोशिश करे।
  4. लेकिन दाएं हाथ को ऊपर की और से लेना है और बाएं हाथ को निचे की।

लिवर के बढ़ने के लिए शीतली प्राणायाम

  • लिवर बढ़ने की समस्या से पीढ़ित को शीतकारी या शीतली प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए।
  • इसे आप नियमित 24 से 30 बार तक कर सकते है।

शीतली प्राणायाम कैसे करे?

  1. इसे करने के लिए सिद्धासन की मुद्रा में गला व सिर को सीधा कर बैठ जाइए।
  2. अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखें।
  3. आँखों को हलके से बन्द कर चेहरे को शान्त कर लें।
  4. इसके पश्चात जीभ को बाहर निकाले और दोनों किनारों से मोड़ लें।
  5. मुंह से गहरी तथा धीमी सांस बाहर निकालें।
  6. शुरुवात में इसे 10 से 12 बार करे और धीरे धीरे इसकी संख्या बढ़ाये।

लिवर समस्‍याओं के लिए कपालभाति प्राणायाम

  • कपालभाति प्राणायाम के बारे में आप जरूर जानते होंगे। यह अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है।
  • इससे लिवर का स्वास्थ्य भी सुधारता है और लिवर संबंधी कई समस्‍याओं जैसे पीलिया, हेपेटाइटिस आदि ठीक होती है।

कपालभाति कैसे करते है?

  1. कपालभाती प्राणायाम करने के लिए पद्मासन में बैठ जायें।
  2. पीठ सीधी रखे और दोनों हाथों को घुटनों पर रखें और नजर को सीधा रखें।
  3. सांस लेते वक्‍त नाभि को अंदर की तरफ ले जितना हो सके।
  4. और जैसे ही आप पेट की मासपेशियों को ढीला छोड़ते हो, साँस अपने आप ही आपके फेफड़ों में पहुँच जाती है।
Spread the love

You may also like...