Food for 6 Month Old Baby: कैसा हो आपके छह महीने के शिशु का आहार

Spread the love

छोटे बच्चों के खान पान का बहुत ध्यान रखना होता है, क्योंकि यही विकास के लिए सही समय होता है। जब बच्चा जन्म लेता है तो शुरुआत के 6 महीने तो उन्हें केवल माँ का दूध ही दिया जाता है।

लेकिन 6 महीने की उम्र पार कर लेने के बाद बच्चों को दूसरी चीज़े भी देना शुरू करते है। ज्यादातर बच्चों की माँ इस वक्त बहुत कंफ्यूज रहती है उनके मन में बहुत से सवाल रहते है की वो अपने छह महीने के बच्चे को किस प्रकार का खाना खिलाये?

साथ ही आहार कब देना है और कितना देना है? इस तरह के सवालों को लेकर माता पिता के मन में बहुत सारे संदेह और चिंताएं होती है। लेकिन आपको चिंता करने की जरुरत नहीं है क्योंकि हम आज आपके सारे सवालों का जवाब पाने में आपकी सहायता करेंगे।

जब आपका बच्चा भोजन लेने या भोजन चबाने के लिए तत्परता दिखाता है तो इन लक्षण से आप समझ सकते है की आपके बच्चे के मेन्यू में ठोस आहार शामिल करने का समय आ गया है। आइये जानते है Food for 6 Month Old Baby.

Food for 6 Month Old Baby: छह महीने के बच्चे को क्या खिलाये

Food for 6 Month Old Baby

पहला सप्ताह

  • छह महीने के बच्चों को आप सब्जियों की प्यूरी (गाढ़ा गूदा) दे सकते है। सब्जी जैसे की – गाजर, कद्दू, आलू, शकरकंदी आदि। ये सारे सब्जी स्वादिष्ट होने के साथ साथ बच्चे के लिए फ़ायदेमंद भी होते हैं।
  • इसके अलावा पका हुआ सेब (पीस कर हलवे की तरह पका ले), मसला हुआ केला, मसले हुए चावल भी बच्चों को दिए जा सकते हैं।
  • इन्हे बच्चे डायरेक्ट नहीं खा सकते, इसलिए इसे दूध के साथ दे।

दूसरा सप्ताह

  • यदि पहला वाला सप्ताह शिशु बिना किसी परेशानी के पार कर लेता है तो अब दूसरे सप्ताह में आप यह चीज़े ट्राई कर सकती है।
  • दाल का पानी, टमाटर का पानी
  • आलू या चावल के साथ मिश्रित सब्जियों की प्यूरी
  • मलाई वाला दूध या दही
  • जब आप शिशु को यह चीज़े दे रहे हो, तब एक वक्त पर एक ही चीज़ दे, याने दाल का पानी दे रहे तो केवल दाल का ही पानी दे।
  • इस दौरान शिशु के भोजन में स्वाद के लिए नमक, चीनी, शहद या अन्य कोई चीज़े ना मिलाये।

तीसरा सप्ताह

  • तीसरे सप्ताह में पहले और दूसरे सप्ताह का मिश्रण ट्राई ट्राय किया जा सकता है ।
  • इस दौरान यदि 6 Month Old Baby ने आहार स्वेच्छा और खुशी से लिया है तो पहले हफ्ते में दिए गए भोजन में नई चीजें शामिल कर सकते है।

चौथा सप्ताह

  • अब हम उन खाद्य पदार्थों को शामिल करेंगे जिसमे प्रति प्रतिक्रिया होने की सबसे अधिक संभावना होती है।
  • इसलिए इन्हे एक-एक करके अलग समय पर ही देना होता है और एकदम छोटी खुराक देना है।
  • छह माह का होने से इस हफ्ते वाली चीज़ो को ट्राई ना करे।
  • गाय का दूध और दूध से बने उत्पाद, मलाईदार चीज और पनीर
  • सोयाबीन, खट्टे फल, मूंगफली या सूखे मेवे
  • गेहूं और जौ से बने खाद्य पदार्थ जैसे ब्रैड, आटा, पास्ता

Baby Food After 6 Months: सातवें से नौवें महीने तक ऐसा आहार दें

  • छह महीने के बाद प्यूरी की जगह आहारों को मसल के खिलाना चाहिए।
  • अपने बच्चे को स्टार्च युक्त भोजन देना भी स्टार्ट कर दें।
  • स्टार्च युक्त भोजन में आप अपने बच्चे को खिचड़ी, सूजी उपमा, सूजी खीर, साबुदाना खीर, दलिया, मकई, आलू, चावल, ब्रैड और ज्वार दें ।
  • बच्चे को प्यास लगने पर आप सॉफ्ट टोंटी वाली बॉटल या सिप्पर से पानी पिलाए।
  • ध्यान रखे की शिशु को उबला हुआ और फ़िल्टर किया हुआ ही पानी पिलाना है।
  • अगर बच्चों को फलों का रस पिलाना है तो उन्हें खाने के समय ही फलो का रस दें।
  • रस बनाते समय भी आपको उबले हुए पानी को ठंडा कर के इस्तेमाल करना चाहिए।
  • रस पिलाने के लिए आपको बोतल की जगह फीडिंग कप का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • भोजन के समय पर रस पिलाने से आयरन की कमी पूरी होती है।
  • उभरते हुए दांतो को हानि भी नहीं पहुँचती है।
  • अब बच्चे को खट्टे फल देना शुरू कर सकते है लेकिन कम मात्रा में दें।
  • बच्चों के भोजन में ऐसे आहार दें जो प्रोटीन से भरपूर हो।
  • अगर आप चाहे तो अपने बच्चे को पीनट बटर और सूखे मेवों का भी सेवन करवा सकते है। लेकिन ध्यान रखे ये अपने बच्चे को तभी दे जब आपके परिवार में इनसे किसी को भी कोई समस्या नहीं हुई हो।
  • अब आपका शिशु धीरे धीरे बड़ा हो रहा है तो उसके बॉडी में पोषक तत्वों की पूर्ति हेतु डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करवाए।
  • इसके साथ साथ आप अपने शिशु को फ्रांस बीन, गाजर, चीज़ के टुकड़े, केले और सॉफ्ट नाशपाती भी दे सकते है।

दसवें महीने में बच्चे को दें ये आहार

  • आपको अपने बच्चे के दस महीने का होने पर अच्छा और सम्पूर्ण आहार देने की कोशिश करना चाहिए।
  • आपको एक दिन में अपने बच्चे को खिचड़ी, चावल, दाल, दलिया, और आलू जैसी स्टार्च युक्त चीज़ो को भी खिलाना चाहिए।
  • आपको बच्चे को भोजन एक साथ नहीं करवाना चाहिए बल्कि 2 से 3 बार करवाना चाहिए।
  • आप अपने बच्चे को इस समय मांस, मछली, और अच्छी तरह पके हुए अंडो का सेवन भी करवा सकते है।
  • इसी के साथ आप अपने बच्चे को दाल, मटर, बीन और सूखे मावे का सेवन दो बार में करवाए।
  • स्तन के दूध या डिब्बे बंद दूध के साथ चीज़, पनीर और दही को भी खिलाये।
  • ये आपको अपने बच्चे को स्नैक्स के रूप में देना चाहिए।
  • बच्चे की अच्छी ग्रोथ तक उसे थोड़ी थोड़ी देर में खिलाये जिससे उसकी बॉडी को पूरा पोषण मिल सके।

यदि उपरोक्त बताये गए किसी भी आहार से बच्चे को एलर्जी होती है तो उस चीज़ को ना दे और एक बार बच्चे के डॉक्टर से जरूर दिखा लें। इसके अलावा आपको अपने बच्चे को 6 महीने के बाद धीरे धीरे ऊपर दिए भोजन के अकॉर्डिंग आहार देना चाहिए इससे बच्चे को सम्पूर्ण आहार मिलता है।

Loading...

Spread the love

You may also like...