Uttanasana Yoga: कंधो और सीने को मजबूत बनाए उत्तानासन योग, जानिए विधि

आपने देखा होगा की कुछ लोगो की आदत कंधे झुका कर चलने की होती है। इस तरह से चलने के कारण ऐसे लोगों की पीठ भी बाहर की तरफ उभार लेकर निकली हुई नजर आ जाती है। यह वाकई दिखने में अच्छा नही लगता है। आपका व्यक्तित्व ऐसा होने से निखर कर सामने नहीं आ पाता है। पुराने जमाने में यह समस्या ज्यादातर वृद्धावस्था में बुजुर्गों को होती थी पर आजकल के जीवनशैली में बदलाव के कारण यह समस्या काम उम्र में भी लोगों में देखने को मिल जाती है।

पैदल चलते हुए या फिर उठते-बैठते वक्त आपका बॉडी पोस्चर कैसा दिख रहा है, यह चीज़ आपकी पर्सनालिटी को निखारने में बहुत अहम भूमिका निभाती है। आपका बॉडी पोस्चर अच्छा होता है तभी आपकी पर्सनालिटी भी अच्छी नजर आती है। आपकी पर्सनालिटी जब बेहतर होगी तब इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ा रहता है और आप अपने कार्यों में सफल हो पाते हैं।

यदि आपकी हाइट अच्छी ख़ासी है और रंग भी अच्छा है लेकिन आप झुक कर चल रहे होते हैं तो आपकी पर्सनालिटी कुछ फीकी ज़रूर पड़ सकती है। आपको अपनी इस आदत या परेशानी से निजात पाने की जरुरत है। आप इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए योग का सहारा ले सकते हैं। योग में कई आसान होते हैं जो आपके झुके कन्धों की समस्या दूर कर सकते हैं साथ ही एक आकर्षक शरीर बनाने में भी मदद कर सकते हैं। इन्हीं आसनों में से एक होती है ‘उत्तानासन’ जो इस प्रकार की समस्या में बहुत राहतकारी होती है।

‘उत्तानासन’ का नियमित अभ्यास इस समस्या से निजात दिलाने में आपकी बहुत मदद कर सकता है। Uttanasana Benefits के अंतर्गत इसके अभ्यास से ना केवल आपके झुके हुए कंधो की प्राब्लम सॉल्व होगी बल्कि इससे आपके कंधे मजबूत भी हों जाएंगे। मजबूत कंधे कौन नहीं चाहता है। लड़कों को तो इसका अभ्यास ज़रूर करना चाहिए। आइए आज के इस लेख में विस्तार से जाने Uttanasana Yoga के बारे में।

Uttanasana Yoga: जानिए उत्तानासन योग की विधि और इसके प्रकारों की जानकारी

Uttanasana Yoga

आइये जानते हैं Uttanasana Yoga in Hindi

उत्तानासन, शब्द संस्कृत भाषा से आया है। अंग्रेजी में इस पोज़ को स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड (Standing forward bend) कहा जाता है। इस आसन में आपका सर, आपके दिल के नीचे होता है। इसके चलते ब्लड का फ्लो मस्तिष्क की तरफ होता है न की पैरो की तरफ़। इससे कोशिकाओं को ऑक्सीजन भी मिलता है और आपके शरीर का कायाकल्प हो जाता है।

आइये देखते है Uttanasana Steps की विधि

  • इसे करने के लिए किसी अच्छी जगह का चुनाव करे, हो सके तो इसे किसी पार्क वगैरह में करे, जहाँ सुबह के वक्त आपको बहुत सारी ऑक्सीजन मिले।
  • स्थान का चयन कर के वहां आसन बिछाकर उस पर खड़े हो जाये, और अपने पैरों को थोड़ा रिलैक्स रखें।
  • अब धीरे धीरे नीचे की तरफ झुके। ध्यान रखें की आपके सर का झुकाव नीचे की तरफ होना चाहिए।
  • अब अपने दोनों हाथों की मदद से अपने पैर की एड़ियों को छुए।
  • इसी मुद्रा मैं 30 सेकण्ड्स से एक 1 मिनट के लिए बने रहे।
  • शुरुआत में यदि आप इसे नहीं कर पा रहे हों और आपका हाथ पैरों को नहीं छू पा रहा हो तो आप थोड़ा बहुत घुटनो को मोड़ सकते हैं।
  • नियमित अभ्यास करते रहने पर आपको इसे करने की आदत पड़ जायेगी।

वेरिएशन 1

  • अपने शरीर को नीचे की और झुकाएं। आपको इस तरह झुकना है कि आपका पेट आपकी जांघो को छुए।
  • इसे करने के लिए यदि आपको अपने घुटनों को मोड़ने की जरुरत पड़ती है तो उसे मोड़े।
  • अपने सिर एवं गर्दन को रिलैक्स कर अपने हाथों के हथेलियों को अपने पैरों के सामने जमीन पर रखे।

फायदा

  • यह Uttanasana को करने का सबसे अच्छा तरीका है। यह आपके लोअर बैक पर काम करता है।
  • जो लोग घंटों तक एक ही अवस्था में बैठ रह कर काम करते है, उन्हें इस आसन का अभ्यास ज़रूर करना चाहिए।

वेरिएशन 2

  • आप उत्तानासन का अभ्यास करने के लिए जिस अवस्था में खड़े होते है बिलकुल उसी अवस्था में खड़े हो जाये।
  • चाहे तो दोनों पैरो के बीच कुछ दूरी रखे, या फिर चाहें तो उन्हें चिपका कर के रख ले। अपने ऊपरी शरीर को आगे की तरफ मोड़ें।
  • अगर इस दौरान घुटनों को मोड़कर ज्यादा कंफर्टेबल महसूस करना हो तो कर सकते हैं।
  • अपने सर को पूरी तरह रिलैक्स करे। अपने सीधे हाथों से अपनी उलटी कोहनी को पकड़ें और अपने उलटे हाथों से अपनी सीधी कोहनी को पकड़े। अपने कंधों को सहारा देने के लिए इसे कानों से लगा ले।

फायदा

वेरिएशन 3

  • आप उत्तानासन करने के लिए जिस तरह से खड़े होते है। बिलकुल उसी तरह खड़े हो जाये।
  • चाहे तो दोनों पैरो बीच कुछ दूरी रखे, या फिर चाहें तो उन्हें चिपका के रख ले।
  • अपने ऊपरी शरीर को आगे की तरफ मोड़ते हुए झुके। घुटनों को मोड़कर ज्यादा कंफरटेबल महसूस करते है तो वैसा करे।
  • अपने सर को पूरी तरह रिलैक्स करे। अब अपने हाथों को पीछे की तरफ करके हाथ जोड़े।

फायदा

  • यह कंधो को खोलने के लिए अच्छा आसन है। इसमे आप आगे की तरफ झुके हुए होते है।
  • इसमें आपका शरीर रिलैक्स मूड में होता है, गुरुत्वाकर्षण बल आपके कंधों की टाइटनेस कम करता है।
  • यह पोज़ आपके कंधों के आसपास के सभी छोटे मसल्स पर टारगेट करता है, जिनको एक्सेस करना थोड़ा मुश्किल होता है।

वेरिएशन 4

  • उत्तानासन को करना स्टार्ट करे, इसके लिए या तो घुटनो को मोड़े या सीधा रहने दें ।
  • इसके बाद अपनी भुजाओ को पीछे की और मोड़ें और ऊपर की तरफ करे।
  • अपने दोनों हाथों के उंगलियों को आपस मे मिला ले।

फायदा

  • कंधो को खोलने के अलावा यह पोज़, आपके सीने को भी खोलने का काम करता है।
  • जो लोग बाइसेप्स बनाना चाहते हैं उन्हें यह आसान जरूर करना चाहिए।

आज के इस लेख में आपने जाना Uttanasana Yoga के बारे में। इस आसन को करके आप भी उपरोक्त बताए गए लाभ प्राप्त कर सकते है। यह एक बेहतरीन Yoga for Back साबित होती है। लेकिन यदि आपको कंधे या फिर पीठ में चोट लगी है तो इसे न करे।

You may also like...