आपने देखा होगा की कुछ लोगो की आदत कंधे झुखा के चलने की होती है| इस तरह से चलने के कारण उनकी पीठ भी बाहर की और निकली हुई दिखती है| यह वाकई दिखने में अच्छा नही लगता है|

चलते या उठते-बैठते वक्त आपका बॉडी पोस्चर कैसा दिख रहा है, यह चीज़ आपकी पर्सनालिटी में अहम भूमिका निभाती है| आपका बॉडी पोस्चर अच्छा होता है तो आपकी पर्सनालिटी अच्छी दिखती है|

यदि आपकी हाइट अच्छी ख़ासी है और रंग भी अच्छा है लेकिन आप झुख कर चल रहे हो तो आपकी पर्सनालिटी कुछ फीकी ज़रूर पढ़ सकती है|

उत्तानासन का नियमित अभ्यास इसमे आपकी मदद कर सकता है| इसे करने पर ना केवल आपके झुखे हुए कंधो की प्राब्लम सॉल्व होगी बल्कि यह मजबूत भी होंगे| लड़को को तो इसका अभ्यास ज़रूर करना चाहिए| आइए नीचे विस्तार से जाने उत्तानासन योग के बारे में|

जानिए उत्तानासन योग की विधि और प्रकारों की जानकारी 

Uttanasana Yoga in Hindi

उत्तानासन, शब्द संस्कृत से आया है| अंग्रेजी में इस पोज़ को स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड कहा जाता है| इस आसन में आपका सर, आपके दिल के नीचे होता है| इसके चलते ब्लड का फ्लो मस्तिष्क की और होता है न की पैरो की तरफ़| इससे कोशिकाओं को ऑक्सीजन भी मिलता है और कायाकल्प बढ़ता है|

स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड स्टेप्स –आइये देखते है इसकी विधि

  • इसे करने के लिए किसी अच्छी जगह का चुनाव करे, हो सके तो इसे पार्क वगेरह में करे, जहाँ सुबह के वक्त आपको बहुत सारी ऑक्सीजन मिले|
  • आसन बिछाकर उस पर खड़े हो जाये, और अपने पैरों को थोड़ा रिलैक्स रखें
  • अब धीरे धीरे निचे की और झुखे| आपके सर का झुकाव निचे की और होना चाहिए|
  • अब अपने दोनों हाथों की मदद से अपने पैर की एड़ियों को छुए
  • इसी मुद्रा मैं 30 सेकण्ड्स से एक 1 मिनट के लिए बने रहे|
  • शुरुवात मैं यदि आप इसे नहीं कर पा रहे है, आपका हाथ पैरों को नहीं छू पा रहा है तो थोड़े बहुत घुटनो को आप मोड़ सकते है|
  • नियमित अभ्यास करते रहने पर आपको इसे करने की आदत पड़ जायेगी|

 

वेरिएशन 1

अपने पैरो और हिप्स मैं थोड़ी दुरी रखे| अपने शरीर को निचे की और झुखाये| आपको इस तरह झुकना है कि आपका पेट आपकी जांघो को छुए| इसे करने के लिए यदि आपको अपने घुटनों को मोड़ने की जरुरत पढ़ती है तो उसे मोड़े| अपने सिर एवं गर्दन को रिलैक्स कर अपने हाथो के तलवे अपने पैरों के सामने जमीन पर रखे|

फायदा

  • यह उत्तानासन को करने का सबसे अच्छा तरीका है| यह आपके लोअर बैक पर काम करता है|
  • जो लोग घंटों तक बैठे रहने का काम करते है, उन्हें इसे जरूर करना चाहिए|

 

वेरिएशन 2

आप उत्तानासन करने के लिए जिस तरह से खड़े होते है| बिलकुल उसी तरह खड़े हो जाये|चाहे तो पैरो और हिप्स के बीच कुछ दुरी रखे, या फिर चाहें तो उन्हें चिपका के रख ले|अपने ऊपरी शरीर को आगे की और मोडे

घुटनों को मोड़कर ज्यादा कंफर्टेबल महसूस करते है तो वैसा करे| अपने सर को पूरी तरह रिलैक्स करे| अपने सिधे हाथों से अपनी उलटी कोहनी को पकड़ें और अपनी उलटे हाथों से अपनी सीधी कोहनी को पकडे| अपने कंधों को सहारा देने के लिए इसे कानों से लगा ले|

फायदा

  • यह आसन आपकी थकी हुई और तंग माश्पेसियो के लिए अच्छा है|

 

वेरिएशन 3

आप उत्तानासन करने के लिए जिस तरह से खड़े होते है| बिलकुल उसी तरह खड़े हो जाये| चाहे तो पैरो और हिप्स के बीच कुछ दुरी रखे, या फिर चाहें तो उन्हें चिपका के रख ले| अपने ऊपरी शरीर को आगे की और मोड़े| घुटनों को मोड़कर ज्यादा कंफरटेबल महसूस करते है तो वैसा करे| अपने सर को पूरी तरह रिलैक्स करे| अब अपने हाथों को पीछे की और करके हाथ जोड़े|

फायदा

यह कंधो को खोलने के लिए अच्छा आसन है| इसमे आप आगे की और झुखे हुए होते है, आपका शरीर रिलॅक्स मूड में होता है, गुरुत्वाकर्षण बल आपके कंधों की टाइटनेस कम करता है|

यह पोज़ आपके कंधों के आसपास के सभी छोटे मसल्स पर टारगेट करता है, जिनको एक्सेस करना थोड़ा मुश्किल होता है|

वेरिएशन 4

उत्तानासन को करना स्टार्ट करे, इसके लिए या तो घुटनो को मोडे या सीधे रहे| इसके बाद अपनी भुजाओ को पीछे की और मोड़े और ऊपर की और करे| अपने दोनों हाथों के उंगलियों को आपस मे मिला ले|

फायदा

कंधो को खोलने के अलावा यह पोज़, आपके सीने को भी खोलने का काम करता है| जो लोग बाइसेप्स करते है उन्हें यह जरूर करना चाहिए|

ऊपर आपने जाना Uttanasana Yoga के बारे में| इस आसन को करके आप भी उपरोक्त बताए गए लाभ प्राप्त कर सकते है| लेकिन यदि आपको कंधे या फिर पीठ में चोट लगी है तो इसे न करे|